गुरुवार, 2 अप्रैल 2020

भारत में कम क्यों नहीं होते पेट्रोल-डीजल के दाम,18 साल के निचले स्तर पर क्रूड...

संवाददाता : नई दिल्ली


      सुनने में भले ही यह अजीब लगे पर है यह सोलह आने सच। कच्चा तेल अब पानी से भी सस्ता हो गया है। कोरोना के कहर से दुनिया के अधिकतर देशों में लॉकडाउन है। इसकी वजह से पेट्रोल-डीजल की मांग घटी है तो वहीं दूसरी ओर सऊदी अरब और रूस के बीच कीमत युद्ध के चलते कच्चा तेल और कमजोर हुआ है।


हालात यह है कि एक लीटर कच्चे तेल का दाम एक लीटर बोतल बंद पानी की कीमत से भी नीचे पहुंच गया है। मौजूदा रेट के मुताबिक एक बैरल कच्चा तेल भारतीय रुपये में करीब 1500 रुपये का पड़ रहा है। बता दें एक बैरल में 159 लीटर होते हैं और ऐसे में एक लीटर कच्चे तेल का दाम 9.43 रुपये प्रति लीटर से भी कम पड़ रहा है, जबकि भारत में पानी की एक बोतल 20 रुपये में मिलती है।समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक एशियाई बाजारों में मंगलवार को तेल कीमतों के 18 साल के निचले स्तर पर पहुंचने के बाद, कीमतों में तेज सुधार देखने को मिला।



कारोबारियों ने बताया कि कोरोना वायरस महामारी के चलते बढ़ती आशंकाओं के बीच निवेशकों ने नीतिनिर्माताओं के कदम पर भरोसा किया। अमेरिकी मानक वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट 7.3 प्रतिशत उछलकर 21.5 डॉलर प्रति बैरल हो गया, जबकि अंतरराष्ट्रीय मानक ब्रेंट क्रूड 3.3 प्रतिशत की तेजी के साथ 23.5 डॉलर प्रति बैरल पर था।


भारत विश्व का दूसरा सबसे बड़ा तेल का आयातक है और यह जरूरत का 80 पर्सेंट तेल आयात करता है। भारत सस्ते तेल के इस मौके को गंवाना नहीं चाहता है और इसलिए उसने कच्चे तेल को ज्यादा से ज्यादा स्टोर करने का फैसला किया है।


लेबल: