सोमवार, 10 अगस्त 2020

आगामी एक से डेढ़ महीने में 600 बेड के साथ अस्पताल शुरू हो जाएगा : अरविंद केजरीवाल

संवाददाता : नई दिल्ली


      मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नवनिर्मित अंबेडकर अस्पताल को 200 बेड के साथ रविवार आम जनता को समर्पित कर दिया। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कोरोना के मद्देनजर अभी अस्पताल को 200 बेड के साथ शुरू किया जा रहा है। सभी बेड पर आँक्सीजन उपलब्ध है। आगामी एक से डेढ़ महीने में 600 बेड के साथ अस्पताल शुरू हो जाएगा। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोरोना की स्थिति काफी नियंत्रण में है। दिल्ली में सभी पैरामीटर्स अच्छे हो रहे हैं।

 

पाॅजिटिविटी औसत और मौतें भी कम हो रही है। अंबेडकर अस्पताल में शुरू कोविड समर्पित 200 बेड दिल्ली की स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे को और मजबूत करने करने में बहुत बड़ा कदम है। सीएम अरविंद केजरीवाल ने अस्पताल को समय से पहले शुरू करने के लिए इंजीनियर्स और डाॅक्टर्स आदि को बधाई दी। 

 


 

अंबेडकर नगर में निर्माणाधीन 600 बेड के अंबेडकर अस्पताल को आज फिलहाल 200 बेड के साथ शुरू किया गया है। अस्पताल के उद्घाटन समारोह के दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन, स्थानीय विघायक, स्वास्थ्य सचिव, अस्पताल के निदेशक समेत अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रहे। मुख्यमंत्री ने सबसे पहले फीता काट कर असपताल को आम जनता को समर्पित किया। इसके बाद अस्पताल प्रशासन ने मुख्यमंत्री को अस्पताल की विशेषताओं के बारे में जानकारी दी। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कई वार्डों का स्वयं निरीक्षण भी किया।

 

उद्घाटन समारोह संपन्न होने के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि आज अंबेडकर अस्पताल शुरू हो रहा है। इस पूरे इलाके में और आसपास के कई विधानसभा क्षेत्रों में भी बड़ा अस्पताल नहीं था। इस अस्पताल पर 2013 में काम शुरू किया गया था। मुझे बड़ी खुशी है कि कई सालों के बाद अब यह अस्पताल शुरू होने जा रहा है। आज इसके 200 बेड शुरू किए जा रहे हैं। यह अस्पताल 600 बेड का होगा। बाकी पूरा अस्पताल अपने 600 बेड और आईसीयू के साथ आगामी एक-डेढ महीने बाद शुरू हो जाएगा।

 

आज अभी 200 बेड शुरू किए जा रहे हैं, जो कि कोरोना में काम आएंगे। क्योकि कोरोना की महामारी है। इस वजह से पहले 200 बेड जो तैयार हो गए थे, उनको शुरू किया जा रहा है। इन सभी 200 बेड के उपर आँक्सीजन उपलब्ध है। कोरोना में सबसे अधिक आँक्सीजन की जरूरत पड़ती है, क्योंकि मरीज में आॅक्सीजन कम हो जाती है। 

 


 

दिल्ली के अंदर आज कोरोना की स्थिति काफी हद तक काबू में आ गई है। दिल्ली में सभी पैरामीटर अच्छे हो रहे हैं। मरीजों के ठीक होने की दर लगातार बढ़ती जा रही है। कोरोना की पाॅजिटिविटी औसत भी कम हो रहा है। मौतें भी कम हो रही हैं। अस्पतालों के अंदर मरीजों की संख्या बहुत कम हो गई है। मैं भगवान से प्रार्थना करता हूं कि यह जो 200 बेड आज कोरोना के लिए शुरू किए गए हैं, इनकी जरूरत ही न पड़े। चाहे यह बेड खाली रहें, लेकिन हमें अपनी तैयारी पूरी करके चलनी है। सभी लोग कहते हैं कि कोरोना एक ऐसी महामारी है, जिसके बारे में किसी को भी नहीं पता है कि आने वाले समय में क्या होगा।

 

हालांकि अभी हमारी स्थिति नियंत्रण में हैं, लेकिन अगर आगे स्थिति खराब भी होती है, तो उस स्थिति से निपटने के लिए हमारी दिल्ली सरकार की पूरी तैयारी है। पूरी दिल्ली में हमने धीरे-धीरे करके अब बेड बहुत ज्यादा बढ़ा लिए हैं। उसी दिशा में आज अंबेडकर अस्पताल में जो 200 बेड शुरू किए जा रहे हैं, यह दिल्ली की स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे को और मजबूत करने में बहुत बड़ा कदम है। मैं इस अस्पताल के शुरू होने पर दिल्ली के लोगों को बधाई देता हूं। 

 

यह अस्पताल अभी कई महीने बाद शुरू होना था। इसके शुरू होने की तारीख अभी कई महीने बाद की थी, लेकिन मैं सभी इंजीनियर्स, डाॅक्टर्स आदि, जिन्होंने कड़ी मेहनत करके इसको कई महीने पहले शुरू कर दिया और दिल्ली के लोगों के लिए 200 बेड खोल दिए। उन सभी लोगों का मैं धन्यवाद करता हूं और उन्हें बधाई देता हूं।

लेबल: