शुक्रवार, 28 अगस्त 2020

बिजली उपभोक्ताओं की शिकायतों का निस्तारण संवेदनशीलता से करें : श्रम राज्य मंत्री

संवाददाता  : जयपुर राजस्थान


       श्रम राज्य मंत्री टीकाराम जूली की अध्यक्षता में शुक्रवार को अलवर लिऎ के उमरैण पंचायत समिति सभागार में विद्युत विभाग की समीक्षा बैठक एवं विद्युत समस्या निराकरण शिविर आयोजित हुआ। 

 

जूली ने विद्युत विभाग के अधीक्षण अभियंता को निर्देशित किया कि अलवर ग्रामीण क्षेत्र एवं जिले में विद्युत आपूर्ति को सुचारू बनाए रखने तथा बिजली से संबंधित समस्याओं व शिकायतों के त्वरित निस्तारण के लिए गंभीरतापूर्वक जनहित में संवेदनशीलता से कार्य करें।

 

कोताही बर्दाश्त नहीं

 

उन्होंने कहा है कि मौजूदा दौर में सुचारू विद्युत आपूर्ति बहुत ही अपरिहार्य है क्योंकि जीवन की सभी मूलभूत आवश्यकताओं से बिजली का उपयोग जुड़ा हुआ है, इसलिए विद्युत शिकायतों के निराकरण में कोताही किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि किसी भी विभाग का कोई भी अधिकारी  एवं कर्मचारी भ्रष्टाचार में संलिप्त पाया गया तो उसको किसी भी सूरत में नहीं बख्शा जाएगा।

 


 

उन्होंने कृषि एवं पेयजल से संबंधित योजनाओं आदि के लिए बिजली के कनेक्शन प्राथमिकता के आधार पर करने, पेयजल गतिविधियों के लिए विद्युत आर्पूति निरन्तर एवं पर्याप्त बनाए रखने और बिजली से संबंधित समस्याओं के जल्द से जल्द समाधान के लिए मुस्तैदी से कार्य करने के निर्देश देते हुए कहा कि विद्युत विभाग के सभी अधिकारियों सहित लाइनमैन स्तर तक सभी र्कामिकों को इस बात के लिए पाबंद किया जाए कि आम उपभोक्ताओं के फोन सुनते हुए गंभीरता से उनकी बिजली समस्याओं का यथाशीघ्र निराकरण करें।

 

उन्होंने कहा कि रिहायशी भवनों तथा अन्य निजी इमारतों से गुजर रही बिजली लाइनों को हटाने के लिए रूपरेखा तैयार की जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि सुरक्षा की दृष्टि से सरकारी स्कूलों से गुजर रही विद्युत लाइनों को हटाने के लिए अभियान चलाएं और इन्हें निःशुल्क शिफ्ट किया जाए। उन्होंने कहा कि बारिश के इस मौसम में आमजन को विद्युत जनित खतरों से बचाने के लिए एहतियात बरती जाए। विद्युत तंत्र की मेंटिनेंस का काम समय पर हो।

 

उन्होंने निर्देश दिए कि सभी विभाग के अधिकारी आपसी तालमेल के साथ कार्य करें ताकि आमजन की समस्याओं के निस्तारण में तेजी आ सके। उन्होंने कहा कि  बिजली और पानी से संबंधित अधिकारियों व विभागों में पारस्परिक समन्वय को और अधिक मजबूत करने तथा पानी-बिजली की आपूर्ति में नियमित्ता के प्रति और अधिक गंभीरता बरतने के लिए निर्देश दिए।

 

उन्होंने निर्देश दिए कि शिविर में  उपभोक्ताओं की जो परिवेदनाएं प्राप्त हुई है, उन्हें सूचीबद्ध  करें जिसमें उनके मोबाइल नम्बर संधारित अनिवार्य रूप में कर त्वरित निराकरण करें। निराकरण के पश्चात संबंधित उपभोक्ता को सूचना देना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि निस्तारित की गई परिवेदनाओं की जानकारी मंत्री स्वयं उपभोक्ताओं को फोन कर लेंगे। विरोधाभास मिलने पर सख्त कार्रवाई की जायेगी।

 

उन्होंने कहा कि बिजली विभाग के फील्ड स्टाफ की शिकायतें अधिक मिलती है अतः बिजली विभाग के अधिकारी तथा प्रशासनिक अधिकारी फील्ड में जाकर विद्युत विभाग से जुड़े र्कामिकों का औचक निरीक्षण करें। निरीक्षण के दौरान लापरवाही पाये जाने पर सम्बंधित र्कामिक के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें। 

 

वीसीआर से जुड़ी शिकायतों पर उन्होंने कहा कि विद्युत चोरी पर लगाम लगाना जरूरी है किंतु इसकी रोकथाम की आड़ में ईमानदार उपभोक्ताओं को परेशान किया जाना पाया गया तो संबंधित अधिकारी के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। जिन उपभोक्ताओं की वीसीआर से संबंधित विसंगति है तो उसे तुरंत दुरुस्त करें। विसंगतियां यदि जयपुर स्तर की है तो उनसे जुड़ी फाइलों को जयपुर ले जाकर वीसीआर से जुड़ी विसंगतियों को दुरुस्त कराकर उपभोक्ताओं को राहत पहुंचाये।

 

उन्होंने अधीक्षण अभियंता को निर्देश दिए कि उपभोक्ताओं को परेशानी ना हो इसके लिए विद्युत  उपकरण रिजर्व में रखे। ट्रान्सफार्मर जलने की सूचना मिलते ही उसे तुरंत बदलवाये। इसमें  लापरवाही किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं होगी।

उन्होंने जनप्रतिनिधियों और उपभोक्ताओं की शिकायत पर अधीक्षण अभियंता को निर्देश दिए कि मालाखेड़ा के एआरओ देवेन्द्र सैनी को तुरत मालाखेड़ा से हटाये।

 

बीजवाड़ नरुका निवासी बत्तो बानो ने गलत वीसीआर भरने से अवगत कराया तो मंत्री श्री जूली ने अधीक्षण अभियंता को तुरंत प्रकरण के निस्तारण करने के निर्देश दिए। अधीक्षण अभियंता ने प्रकरण का बारीकी से अवलोकन कर तुरंत प्रकरण का निस्तारण कर दिया।  

               

उन्होंने अधिकारियों से कहा कि क्षेत्र की विद्युत समस्याओं के स्थायी समाधान के लिये दीर्घकालीन कार्य योजना बनाये। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के उपभोक्ताओं को सुचारू और गुणवत्तापूर्ण  विद्युत आर्पूति हो सके इसके लिए ग्राम ढहलावास, परसाकाबास और रतनपुरा में नए जीएसएस खुलवाने के प्रयास किये जायेंगे इसके लिए उच्च स्तर पर  प्रयास जारी है।  उन्होंने कहा कि  जन-जन में  कोरोना बचाव को लेकर बरती जाने वाली सावधानियों का गांव-ढांणियों और दूरदराज क्षेत्रों तक संदेश संवहित करना हम सभी की सामाजिक जिम्मेदारी है जिसे सर्मपित भाव से पूर्ण करने के लिए आगे आना होगा। 

लेबल: