शुक्रवार, 18 सितंबर 2020

होम आइसोलेशन के दौरान अब चिकित्सा विभाग की टीमें नियमित तौर पर कोरोना मरीजों की जांच करेंगी...

संवाददाता : चंडीगढ़ हरियाणा


      हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि होम आइसोलेशन के दौरान अब चिकित्सा विभाग की टीमें नियमित तौर पर कोरोना मरीजों की जांच करेंगी। यह टीमें न केवल मरीज के रहने के स्थान का जायजा लेंगी बल्कि उनकी स्वास्थ्य की पड़ताल एवं उचित दवाइयों की आपूर्ति भी करवाएगी।


विज आज यहां स्वास्थ्य, आयुष तथा चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग के अधिकारियों की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि टीमों के गठन का कार्य तुरन्त किया जाए ताकि मरीजों को अतिरिक्त सुविधा प्राप्त करवाई जा सके। इसके लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन हरियाणा के मिशन निदेशक प्रभजोत सिंह को राज्य नोडल अधिकारी बनाया गया है, जोकि शीघ्र ही जिला तथा ब्लाक स्तर पर टीमों का गठन करेंगे। इन टीमों में 2 से 3 चिकित्सकीय स्टॉफ शामिल होगा, जिनमें आयुष विभाग का भी एक सदस्य रहेगा। इन टीमों को सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी ।



स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि ये टीम होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों के घर-घर जाकर उनके रक्तचाप, शरीर का तापमान तथा ऑक्सीजन लेवल सहित अन्य आवश्यक शारीरिक परीक्षण करेंगी तथा उन्हें समुचित दवाई व उचित सलाह देंगीं । इन सभी का रिकार्ड भी विभाग के पास रहेगा। इस संबंध में सप्ताहभर में फीडबैक देने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार प्रदेश के प्रत्येक कोरोना मरीज की देखभाल के लिए कृतसंकल्प है।


विज ने कहा कि कोरोना मरीजों के समुचित उपचार के लिए प्रदेश में 3 एक्सक्लूसिव क्रिटिकल कोविड केयर सेंटर स्थापित किए जा रहे हैं। यह केंद्र पीजीआइएमएस रोहतक, कल्पना चावला गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज करनाल तथा महाराजा अग्रसेन मेडिकल कॉलेज अग्रोहा में बनाए जाएंगे। इन कोविड देखभाल केंद्रों में 100-100 बिस्तरों की सुविधा होगी, जहां कोरोना के मरीजों की पूरी तरह से देखभाल की जाएगी। इन कॉविड केयर सेंटर्स में कोरोना के मरीजों के उपचार हेतु सभी प्रकार की दवाइयां, चिकित्सा उपकरण, उत्कृष्ट चिकित्सक तथा अन्य सुविधाओं की समुचित व्यवस्था होगी।


इस अवसर पर चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव आलोक निगम, स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा, चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग की महानिदेशक अमनीत पी कुमार, मुख्य कार्यकारी अधिकारी आयुष्मान भारत योजना अशोक मीणा, आयुष निदेशक अतुल कुमार, सीएफडीए ललित सिवाच, स्वास्थ्य महानिदेशक एस बी कम्बोज सहित अनेक वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।


लेबल: