मंगलवार, 13 अक्तूबर 2020

ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता, उद्योगों को भी ऑक्सीजन मिलेगी : मुख्यमंत्री चौहान

 संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना की स्थिति में निरंतर सुधार हो रहा है। पिछले 3 सप्ताह में प्रदेश में कोरोना के नए प्रकरणों में 37 प्रतिशत की कमी आई है। प्रदेश की रिकवरी रेट 88.4 हो गई है तथा बड़ी संख्या में मरीज रोज़ स्वस्थ हो रहे हैं। एक्टिव मरीजों की संख्या जो 20 हज़ार से ऊपर पहुंच गई थी, अब घटकर 14 हजार 932 रह गई है। मृत्यु दर में भी उल्लेखनीय गिरावट आई है, प्रदेश की मृत्यु दर अब 1.78 प्रतिशत हो गई है।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों में कोरोना अस्पतालों में पर्याप्त संख्या में बैड्स उपलब्ध हैं तथा ऑक्सीजन की भी पर्याप्त उपलब्धता है। उद्योगों को भी उनकी आवश्यकता के अनुसार ऑक्सीजन मिलेगी। मुख्यमंत्री चौहान ने आगामी त्योहारों पर विशेष सावधानी बरतने तथा सर्दी के मौसम के लिए सभी ज़िलों में कोरोना संबंधी पूरी तैयारी रखने के निर्देश सभी कलेक्टर्स तथा संबंधित अधिकारियों को दिए।

मुख्यमंत्री चौहान मंगलवार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान आदि उपस्थित थे।

भारत सरकार के स्वास्थ्य सचिव ने की विस्तृत समीक्षा, वैक्सीन के लिए कोल्ड चेन की तैयारी रखें

अपर मुख्य सचिव सुलेमान ने बताया कि आज भारत सरकार के स्वास्थ्य सचिव लव अग्रवाल द्वारा मध्य प्रदेश में कोरोना की स्थिति की विस्तृत रूप से समीक्षा की गई। मध्यप्रदेश में कोरोना की स्थिति में निरंतर सुधार हो रहा है। केंद्रीय सचिव ने आगामी समय में कोरोना के वैक्सीन के लिए प्रदेश में कोल्ड चेन की व्यवस्था आदि के संबंध में निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने तदनुसार कार्रवाई सुनिश्चित किए जाने के निर्देश दिए।

इंदौर एवं भोपाल में सर्वाधिक प्रकरण

जिलेवार समीक्षा में पाया गया कि प्रदेश के इंदौर एवं भोपाल जिलों में कोरोना के सर्वाधिक नए प्रकरण सामने आ रहे हैं। इंदौर में कोरोना के 418 नए प्रकरण आए हैं, वहीं भोपाल में 213 नए प्रकरण आए हैं। यद्यपि सभी जिलों में कोरोना की ग्रोथ रेट में निरंतर कमी आ रही है। इंदौर में कोरोना की ग्रोथ रेट 1.59 प्रतिशत है, वहीं भोपाल में यह 1.15 प्रतिशत है।

ग्वालियर, मुरैना एवं उज्जैन की स्थिति में विशेष सुधार

समीक्षा में पाया गया कि ग्वालियर, उज्जैन एवं मुरैना जिले, जहां पर पूर्व में कोरोना का अधिक संक्रमण था, वहां कोरोना की स्थिति में विशेष सुधार हुआ है। ग्वालियर में नए कोरोना प्रकरण 50 आए हैं तथा वहां कोरोना ग्रोथ रेट 0.51% है। इसी प्रकार उज्जैन में नए कोरोना प्रकरण 10 आए हैं तथा वहां कोरोना ग्रोथ रेट 0.51% है। मुरैना में कोरोना के 8 नए प्रकरण आए हैं तथा वहां की कोरोना ग्रोथ रेट 0.27% है।

बालाघाट एवं सीहोर जिले विशेष ध्यान दें

मुख्यमंत्री चौहान ने बालाघाट एवं सीहोर जिलों की विस्तृत समीक्षा के दौरान वहां के कलेक्टर्स को कोरोना नियंत्रण के संबंध में विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए। बालाघाट में कोरोना के 305 एक्टिव मरीज हैं, कोरोना ग्रोथ रेट 2.57% है तथा 36 नए औसत प्रकरण प्रतिदिन आ रहे हैं। सीहोर में कोरोना के 376 एक्टिव मरीज हैं, वहां कोरोना की ग्रोथ रेट 2.11 प्रतिशत है तथा वहां प्रतिदिन औसत 38 नए मरीज आ रहे हैं। हरदा जिले में 45 नए प्रकरण आने पर मुख्यमंत्री चौहान ने वहां के कलेक्टर को भी विशेष सावधानी बरतने के निर्देश दिए।

55% मरीज होम आइसोलेशन में

स्वास्थ्य सचिव सुलेमान ने बताया कि प्रदेश में कोरोना के कुल मरीजों में 55% मरीज होम आइसोलेशन में हैं, वहीं 45% मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं। होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की हर जिले में स्थापित कंट्रोल एंड कमांड सेंटर के माध्यम से निरंतर मॉनिटरिंग की जा रही है।

लेबल: