बुधवार, 25 नवंबर 2020

भारत सरकार ने मंगलवार देश में 43 मोबाइल ऐप पर रोक लगायी...

 संवाददाता : नई दिल्ली

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार ने मंगलवार सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69ए के अंतर्गत एक आदेश जारी किया है, जिसके तहत 43 मोबाइल ऐप्स तक पहुंच पर रोक लगायी गयी है।

यह कार्रवाई प्राप्त इनपुट के आधार पर की गयी है। इनपुट के अनुसार ये ऐप्स ऐसी गतिविधियों में संलग्न हैं, जो भारत की संप्रभुता और अखंडता, देश की रक्षा, देश की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के लिए नुकसानदेह हैं। इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने भारतीय साइबर अपराध समन्वय केंद्र, गृह मंत्रालय से प्राप्त व्यापक रिपोर्टों के आधार पर भारत में उपयोगकर्ताओं द्वारा इन ऐप्स तक पहुंच को अवरुद्ध करने का आदेश जारी किया है।

इससे पहले 29 जून, 2020 को भारत सरकार ने 59 मोबाइल ऐप्स तक पहुंच को अवरुद्ध किया था और 2 सितंबर, 2020 को सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69ए के तहत 118 अन्य ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। सरकार सभी मोर्चों पर भारतीय नागरिकों के हितों की रक्षा और देश की संप्रभुता एवं अखंडता के लिए प्रतिबद्ध है। सरकार इसे सुनिश्चित करने के लिए सभी संभव कदम उठाएगी।

भारत में आज जिन ऐप्स तक पहुँच को अवरुद्ध किया गया है, उनकी सूची निम्न अनुलग्नक में दी गई है

  1. अली सप्लायरर्स मोबाइल ऐप
  2. अलीबाबा वर्कबेंच
  3. अलीएक्सप्रेस – स्मार्टर शौपिंग, बेटर लिविंग
  4. अलीपे कैशियर
  5. लालामूव इंडिया - डिलीवरी ऐप
  6. ड्राइव विथ लालामूव इंडिया
  7. स्नैक वीडियो
  8. कैमकार्ड - बिजनेस कार्ड रीडर
  9. कैमकार्ड - बीसीआर (वेस्टर्न)
  10. सोल – फॉलो द सोल टू फाइंड यू
  11. चाईनीज सोशल – फ्री ऑनलाइन डेटिंग वीडियो ऐप एंड चैट
  12. डेट इन एशिया – डेटिंग एंड चाट फॉर एशियन सिंगल्स
  13. वीडेट - डेटिंग ऐप
  14. मुफ्त डेटिंग ऐप - सिंगोल, स्टार्ट योर डेट!
  15. अडोर ऐप
  16. ट्रूलीचाईनीज - चाईनीज डेटिंग ऐप
  17. ट्रूलीएशियन  - एशियन डेटिंग ऐप
  18. चाइनालव: डेटिंग ऐप फॉर चाईनीज सिंगल्स
  19. डेटमाईऐज : चैट, मीट, डेट मट्युर सिंगल्स ऑनलाइन
  20. एशियन डेट: फाइंड एशियन सिंगल्स
  21. फ्लर्टविश: चैट विथ सिंगल्स
  22. गाएज ओनली डेटिंग: गे चैट
  23. टुबिट: लाइव स्ट्रीम
  24. वीवर्कचाइना
  25. फर्स्ट लव लाइव- सुपर हॉट लाइव ब्यूटीज लाइव ऑनलाइन
  26. रेला - लेस्बियन सोशल नेटवर्क
  27. कैशियर वॉलेट
  28. मैगोटीवी
  29. एमजीटीवी- हुनान टीवी ऑफिसियल टीवी ऐप एपीपी
  30. वीटीवी - टीवी वर्जन
  31. वीटीवी – सीड्रामा, केड्रामा एंड मोर
  32. वीटीवी लाइट
  33. लकी लाइव-लाइव वीडियो स्ट्रीमिंग ऐप
  34. ताओबाओ लाइव
  35. डिंगटॉक
  36. आइडेंटिटी वी
  37. इसोलैंड 2: एशेज ऑफ़ टाइम
  38. बॉक्स स्टार (अर्ली एक्सेस)
  39. हीरोज इवोल्वड 
  40. हैप्पी फिश
  41. जेलीपॉप मैच-डेकोरेट योर ड्रीम आइलैंड
  42. मंचकिन मैच: मैजिक होम बिल्डिंग
  43. कॉन्क्विस्टा ऑनलाइन II

देश के प्रसिद्ध लेखक-साहित्यकार और शिक्षाविद डॉ अरुण प्रकाश ढौंडियाल शिक्षा के जरिए विद्यार्थियों का बना रहे हैं भविष्य...

 राजू बोहरा @ नयी दिल्ली

उत्तराखंड के हरिद्वार जिले की तहसील भगवानपुर में स्थित ‘’माउंटेनियर्स एकेडमी’’ की शुरुआत दो हजार ग्यारह में हुई थी जो आज एक इंटरमीडिएट कॉलेज का रूप ले चुका है। इसके संस्थापक-संरक्षक एवं भूस्वामी शिक्षाविद एवं स्थापित लेखक-साहित्यकार डॉ अरुण प्रकाश ढौंडियाल है।

अंग्रेजी माध्यम के साथ चलने वाले इस विद्यालय में औसतन तेरह प्रतिशत अल्पसंख्याक परिवारों से आने वाले शिक्षार्थी रहे हैंl फीस स्कूल का स्ट्रक्चर निकटवर्ती सभी पब्लिक स्कूलों से बहुत कम है लेकिन स्थानीय अभिभावकों, समाजसेवी वर्गों एवं जन प्रतिनिधियों का मानना है कि यहां का शिक्षा का स्तर सर्वोत्तम है।

आश्चर्य की बात यह है कि डॉक्टर अरुण प्रकाश ढौंडियाल संस्था की वित्त व्यवस्था को संतुलित करने के लिए अपनी पेंशन का प्रयोग करते हैं। विद्यालय में वर्ष भर अनेक एक्टिविटीज चलती रहती है।

स्वतंत्रता दिवस, जय जवान जय किसान दिवस, शिक्षक दिवस आदि के अतिरिक्त सफाई अभियान, प्रदूषण मुक्ति अभियान, ईद मिलन, रक्षाबंधन, होली मिलन दिवाली उत्सव, मेहंदी प्रतियोगिता, निबंध प्रतियोगिता, वाद-विवाद प्रतियोगिता, लेखन कंपटीशन, भाषण प्रतिभा आयोजन, कवि सम्मेलन, नुक्कड़ नाटक इत्यादि के उपरांत वार्षिक महोत्सव भी मनाया जाता है।

इन सभी क्रियाकलापों में धार्मिक समभाव, सांप्रदायिक सानिध्य, सामाजिक उन्नयन, नैतिक प्रजाकता, चरित्रिक संशोधन का प्रशिक्षण दृष्टिगत होता है। इलाके में यहां के छात्र अलग से पहचाने जाते हैं यही पहचान विद्यालय परिवार की संचित पूंजी है। ‘’माउंटेनियर्स एकेडमी’ के संस्थापक-संरक्षक डॉ अरुण प्रकाश ढौंडियाल देश के एक जानेमाने प्रसिद्ध साहित्यकार-लेखक और शिक्षाविद है।



दिल्ली-मुम्बई कॉरिडोर से बदलेगी प्रदेश की किस्मत : लोक निर्माण मंत्री

 संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश

लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा है कि दिल्ली-मुम्बई कॉरिडोर को जोड़ने वाले 173 किलो मीटर लम्बाई वाले फोरलेन 'इन्दौर-देवास-उज्जैन-आगर-गरोठ'' मार्ग प्रदेश के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। इसके निर्माण से प्रदेश के आर्थिक विकास को नई गति मिलेगी। उन्होंने बताया कि दिसम्बर 20 तक इस मार्ग का अवार्ड पारित कर दिया जाएगा।

मंत्री भार्गव ने कहा कि भारत सरकार की अति महत्वकांक्षी दिल्ली-मुम्बई कॉरिडोर का 244 किलोमीटर हिस्सा मध्यप्रदेश से होकर गुजरेगा। इस महत्वाकांक्षी परियोजना पर भारत सरकार द्वारा एक लाख करोड़ रूपये की राशि व्यय की जा रही है। इस मार्ग को 2023 तक पूर्ण करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

उन्होंने बताया कि दिल्ली-मुम्बई मार्ग का लाभ सम्पूर्ण मध्यप्रदेश को प्राप्त हो सके, इसके लिए मध्यप्रदेश सरकार के अनुरोध पर केन्द्र सरकार द्वारा 'न्दौर-देवास-उज्जैन आगर-गरोठ'' तक 173 किलोमीटर वाले फोरलेन सड़क मार्ग निर्माण की भी स्वीकृति प्रदान कर दी गई है। उन्होंने कहा कि इस मार्ग के निर्माण से ग्वालियर से देवास, भोपाल से देवास,इन्दौर मार्ग भी जुड़ जाएगें। परिणाम स्वरूप मध्यप्रदेश के सभी अंचल के लोग इस कॉरिडोर का लाभ उठा सकेंगे। उन्होंने कहा कि इस कॉरिडोर के निर्माण से प्रदेश में रोजगार नये अवसर पैदा होंगे।

मंत्री भार्गव ने बताया कि केन्द्रीय भू-तल परिवहन मंत्री नितिन गड़करी ने चम्बल अटल प्रोग्रेस-वे की स्वीकृति के समय प्रदेश की पिछली सरकार के समय खनिज विभाग की अनुमतियों में विलम्ब की ओर ध्यान आकृष्ट किया था, जिस पर पिछले छह माह में सभी गतिरोध दूर कर व्यवस्था सुधारी गई है।

लोक निर्माण विभाग के साथ प्रदेश के मुख्य सचिव द्वारा खनिज की अनुमतियाँ एवं भू-अर्जन के मुआवजों के वितरण की नियमित समीक्षा की रही है। पिछले छह माह में ही कोरोना के संक्रमण काल के दौरान भी प्रदेश के विभिन्न जिलों में कलेक्टरों एवं राजस्व मशीनरी द्वारा रूपये 540 करोड़ से अधिक राशि के भू-अर्जन के मुआवजे वितरण किए गए हैं, जो निरन्तर जारी हैं।

खनिज विभाग की अनुमतियाँ भी अब केवल सात दिन में दी जा रही हैं। प्रदेश सरकार ने एक कदम आगे बढ़ते हुए भारतमाला परियोजना के लिए गौण खनिज की रॉयल्टी से छूट का निर्णय भी लिया है। मध्यप्रदेश इस योजना का लाभ उठाने में केन्द्र सरकार की अपेक्षाओं से एक कदम आगे बढ़कर ही काम करेंगा और रोजगार तथा उद्योग के साथ-साथ अधोसंरचना विकास के नए आयाम स्थापित करेगा।

मजदूर वर्ग के लोगों को किराना का सामान एवं स्वच्छता किट वाले वाहन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया...

 संवाददाता : जयपुर राजस्थान

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को मुख्यमंत्री निवास से मुकुल माधव फाउंडेशन के ‘गिव विथ डिग्निटी’ कार्यक्रम के तहत गरीब परिवारों एवं मजदूर वर्ग के लोगों को किराना का सामान एवं स्वच्छता किट वितरीत करने वाले वाहन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।



नवनिर्मित थाना भवन कबीर नगर का लोकार्पण और हरी झण्डी दिखाकर सायबर संगवारी वाहनों को किया रवाना...

 संवाददाता : रायपुर छत्तीसगढ़

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार आधुनिक साज-सज्जा से निर्मित सर्वसुविधायुक्त सिटी कोतवाली थाना का लोकार्पण किया। इसका निर्माण रायपुर स्मार्ट सिटी मिशन के तहत शहर के हृदय स्थल व सघन क्षेत्र में बने पुराने सिटी कोतवाली थाने को सर्वसुवधिायुक्त थाना के रूप में निर्मित किया गया है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने नवनिर्मित थाना भवन कबीर नगर का भी लोकार्पण किया। उन्होंने सायबर अपराधों पर तुरंत लगाम लगाने के लिए दो सायबर संगवारी वाहन को हरी झण्डी दिखाकर रवाना भी किया। 

मुख्यमंत्री ने इस सर्वसुविधायुक्त सिटी कोतवाली भवन का अवलोकन किया। उन्होंने थाना प्रभारी के कक्ष में बैठकर कोतवाली की कार्रवाई विवरण का भी अवलोकन किया। इस अवसर पर गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, वन मंत्री मोहम्मद अकबर, नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया, विधायकगण सत्यनारायण शर्मा, कुलदीप जुनेजा, संसदीय सचिव विकास उपाध्याय, महापौर श्री एजाज ढ़ेबर, मुख्य सचिव आर.पी. मण्डल और कलेक्टर डॉ.एस. भारतीदासन सहित जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन के अधिकारी उपस्थित थे। 

छह मंजिला यह भवन लगभग 14 हजार वर्ग फुट के क्षेत्र में कुल 30 हजार वर्ग फुट में निर्मित है। लगभग 6 करोड़ रूपए की लागत से इस भवन का निर्माण 10 माह की समयावधि में पूर्ण किया गया है। इस भवन के भू-तल में टी.आई. और उनके स्टॉफ के बैठने की व्यवस्था है। प्रथम तल मंे ए.एस.आई. एवं टी.आई. के बैठने की व्यवस्था के साथ ही इन्वेस्टिंगेशन हॉल और वेटिंग कक्ष बनाया गया है।

द्वितीय तल में मीटिंग कक्ष, डॉक्यूमेंट्स कक्ष और इन्वेस्टिगेशन कक्ष, तृतीय तल में शस्त्रागार, माल खाना, कम्प्यूटर कक्ष और भोजन कक्ष एवं चौथे माले में महिला एवं पुरूष सिपाहियों के लिए अलग-अलग 50-50 बिस्तरों की क्षमता वाला आराम गृह और रीक्रिएशन कक्ष निर्धारित है। पांचवे माले में सी.एस.पी. और एस.आई. के कक्ष होंगे और पूरे स्टॉफ के लिए वर्क स्टेशन इसी माले में है। छठवें माले में 2 बड़े हॉल है, जिसमें मीटिंग और सेमीनार का आयोजन किया जा सकेगा। सिटी मॉनिटरिंग की उन्नत सुविधा इस थाने में उपलब्ध है।  

मुख्यमंत्री ने शिमला स्मार्ट सिटी के तहत सफाई मशीनों को झण्डी दिखा कर रवाना किया...

 संवाददाता : शिमला हिमाचल

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने मंगलवार यहां शिमला शहर में स्वच्छता बनाए रखने के लिए शिमला स्मार्ट सिटी के तहत दो सफाई मशीनों को झण्डी दिखा कर रवाना किया। ये दो सफाई मशीनें निविदा प्रक्रिया के माध्यम से खरीदी गई हैं। मशीनों का निर्माण डुल्वो, इटली द्वारा किया गया है और मैसर्स लायन सर्विसेज लिमिटेड, राजेंद्र प्लेस, नई दिल्ली द्वारा आपूर्ति की गई है। ये मशीनें विभिन्न अन्य शहरों चंडीगढ़, मोहाली, इंदौर, रांची, पटना, कोहिमा, छिंदवाड़ा, भुवनेश्वर, फरीदाबाद, नोएडा आदि में भी सफलतापूर्वक चल रही हैं।

शिमला शहर की सड़कों की सफाई के लिए खरीदी गई ये सफाई मशीनें ड्यूलवो 6000 और ड्यूलवो 3000 आकार की है। इन मशीनों की लागत क्रमशः   2.41 करोड़ और 1.81 करोड़ रुपये है। इसके अलावा, शिमला स्मार्ट सिटी लिमिटेड ने एक वर्ष की अवधि के लिए 1,29,81,432 रुपये उपभोग्य सामग्रियों, पुर्जों और मानक कार्यशाला उपकरणों के लिए वित्तपोषित किया है। दोनों मशीनें सेल्फ प्रोपेल्ड/मेकेनिकल सक्शन मशीन हैं, जो ठै टप् कंप्लांइट इंजन से लैस हैं।
 
मशीन की प्रभावी निगरानी के लिए इन दोनोें मशीनों में जीपीएस की सुविधा उपलब्ध है। बड़ी मशीन की हाॅपर क्षमता 6.2 सीयूएम है और छोटी मशीन की क्षमता 3.3 सीयूएम है।
 
शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज, नगर निगम शिमला की महापौर सत्या कौण्डल, सचिव शहरी विकास रजनीश, प्रबन्ध निदेशक एवं सीईओ शिमला स्मार्ट सिटी लिमिटिड आबिद हुसैन सादिक और नगर निगम शिमला के आयुक्त आशीष कोहली इस अवसर पर उपस्थित थे।

वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग में संविदा के आधार पर नियुक्त सेवानिवृत्त कर्मी अभी नहीं हटाए जाएंगे...

 संवाददाता : रांची झारखंड

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने सहायक वन संरक्षक के रिक्त पदों पर अस्थायी रूप से संविदा के आधार पर नियुक्त सेवानिवृत्त कर्मियों के अवधि विस्तार करने के प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी है।

वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग के अंतर्गत सहायक वन संरक्षक को की कमी तथा विभागीय कार्य प्रभावित होने के कारण 31 अक्टूबर 2019 को जारी आदेश के तहत कुल 12 सेवानिवृत्त कर्मियों को एक वर्ष के लिए संविदा के आधार पर नियुक्त किया गया था। इन 12 सेवानिवृत्त संविदा कर्मियों में से 10 व्यक्तियों द्वारा ही योगदान समर्पित किया गया था। इस वर्ष नवंबर माह में इन सभी संविदा कर्मियों के कार्य अवधि समाप्त होने वाली है।

इन पदाधिकारियों को मिला है अवधि विस्तार

पीसीसीएफ के द्वारा इन 10 कर्मियों में से 6 कर्मियों के कार्य मूल्यांकन एवं नियंत्री पदाधिकारी की अनुशंसा के आधार पर अवधि विस्तार की अनुशंसा की गई है।

इन 6 संविदा कर्मियों में सच्चिदानंद ठाकुर, कार्यालय क्षेत्रीय वन संरक्षक, रांची, सुरेश कुमार सिन्हा, कार्यालय प्रधान मुख्य वन संरक्षक, रांची, अमरेंद्र कुमार सिन्हा, कार्यालय मुख्य वन संरक्षक कार्मिक, (राजपत्रित), बलवीर सिंह, कार्यालय क्षेत्रीय मुख्य वन संरक्षक, दुमका, प्रेम चंद्र शुक्ला, कार्यालय क्षेत्रीय मुख्य वन संरक्षक, जमशेदपुर एवं हसीब उर रहमान, कार्यालय मुख्य वन संरक्षक, वन्य प्राणी, रांची शामिल हैं जिन्हें अवधि विस्तार दिया गया है।

केंद्र सरकार की ओर से 400वां सालाना प्रकाशोत्सव 2021 में मनाया जाएगा...

 संवाददाता : चंडीगढ़ हरियाणा

मानवता के रक्षक के रूप में प्रख्यात सिखों के नौंवे गुरु श्री तेग बहादुर जी का केंद्र सरकार की ओर से 400वां सालाना प्रकाशोत्सव 2021 में मनाया जाएगा। केंद्र सरकार की ओर से 400वें सलाना महोत्सव की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। देश भर से 70 सदस्यीय केंद्रीय समिति गठित की गई है, जो प्रकाशोत्सव की तैयारियों को अमलीजामा पहनाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समिति के अध्यक्ष होंगे, जबकि बाकी को सदस्यों के रूप में मनोनीत किया गया है।

इस कमेटी में हरियाणा से मुख्यमंत्री मनोहर लाल व खेल एवं युवा मामले राज्य मंत्री सरदार संदीप सिंह को सदस्य मनोनीत किया गया है। 70 सदस्यीय कमेटी में हरियाणा के खेल एवं युवा मामले राज्य मंत्री सरदार संदीप सिंह सिख समुदाय का प्रतिनिधित्व करेंगे। खेल राज्यमंत्री सरदार संदीप सिंह के कंधों पर हरियाणा में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों का जिम्मा होगा।

केंद्र सरकार की ओर से महान योद्धा, विचारक, कवि व शिक्षक के रूप में प्रख्यात श्री गुरु तेगबहादुर का वर्ष 2021 में 400वां प्रकाशोत्सव मनाया जाएगा। शीतकालीन सत्र में देश के राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद की ओर से सदन में घोषणा की गई थी, जिस तरह से प्रथम गुरु नानक देव जी का 550वां प्रकाशोत्सव मनाया गया था, उसी तरह गुरु तेग बहादुर जी का भी 400वां प्रकाशोत्सव मनाया जाएगा। समिति को गुरु तेग बहादुर जी 400वीं वर्षगांठ मनाने को लेकर योजनाएं व कार्यक्रमों के लिये विस्तृत तिथियों पर फैसला करने के अलावा जयंती समारोहों को दिशानिर्देशित करने वाली नीतियों, कार्यक्रमों और निगरानी की मंजूरी देने का अधिकार होगा।

खेल राज्यमंत्री सरदार संदीप सिंह ने कहा कि श्री गुरु तेग बहादुर जी द्वारा धर्म, सच्चाई और विश्वास की आजादी को कायम रखने के लिए दी महान कुर्बानी को हम सभी को याद रखना चाहिए और गुरु जी की शिक्षाओं को दुनिया के कोने-कोने तक पहुंचाना चाहिए। श्री गुरु तेग बहादुर जी ने हिंदुओं व कश्मीरी पंडितों और गैर मुस्लिमों के जबरन इस्लाम धर्म परिवर्तन का विरोध किया और गुरु जी को 1675 में मुगल बादशाह के आदेश पर दिल्ली के चांदनी चैक में शहीद कर दिया गया था।

ऐसे महान योद्धा के 400वां प्रकाशोत्सव मनाने के लिए केंद्र की ओर से गठित कमेटी में उन्हें जगह मिलना गौरव की बात है। गुरु जी के उपदेशों को फैलाने के लिए विभिन्न विभागों द्वारा साल भर करवाए जाने वाले कार्यक्रमों की सूची मुख्यमंत्री मनोहर लाल के साथ विचार-विमर्श करके तय की जाएगी ताकि साल भर चलने वाले कार्यक्रम सिख संगत के लिए यादगार के तौर पर समर्पित किए जा सकें।