शनिवार, 23 जनवरी 2021

हरिपुरा में कार्यक्रम हमारे देश को नेताजी बोस के योगदान के लिए उन्‍हें श्रद्धांजलि होगा : प्रधानमंत्री

 संवाददाता : नई दिल्ली

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने नेताजी सुभाष चन्‍द्र बोस की जयंती की पूर्व संध्‍या पर उन्‍हें श्रद्धां‍जलि अर्पित की ट्वीट्स की एक श्रृंखला में, श्री मोदी ने कहा  कल, भारत महान नेता नेताजी सुभाष चन्‍द्र बोस की जयंती पराक्रम दिवस के रूप में मनाएगा। देश भर में आयोजित किए जा रहे विभिन्न कार्यक्रमों में से एक विशेष कार्यक्रम गुजरात के हरिपुरा में आयोजित किया जा रहा है। दोपहर 1 बजे शुरू हो रहे कार्यक्रम में शामिल होइए।

हरिपुरा का नेताजी सुभाष चन्‍द्र बोस के साथ एक विशेष संबंध रहा है। 1938 के ऐतिहासिक हरिपुरा अधिवेशन में नेताजी बोस ने कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष पद संभाला था। हरिपुरा में कल का कार्यक्रम हमारे राष्ट्र के लिए नेताजी बोस के योगदान को एक श्रद्धांजलि होगी।

नेताजी बोस की जयंती की पूर्व संध्या पर, मेरा मन 23 जनवरी 2009 का दिन याद करता है- जब हमने हरिपुरा से ई-ग्राम विश्वग्राम परियोजना शुरू की थी। इस पहल ने गुजरात के आईटी बुनियादी ढांचे में क्रांति ला दी और राज्य के सुदूरवर्ती भागों के गरीब लोगों को प्रौद्योगिकी का लाभ मिला।

मैं हरिपुरा के लोगों के स्नेह को कभी नहीं भूल सकता, जो मुझे उसी सड़क पर एक विस्तृत जुलूस के माध्यम से ले गए, जिस सड़क पर नेताजी बोस 1938 में गए थे। उनके जुलूस में एक सजा हुआ रथ शामिल था जिसे 51 बैलों ने खींचा था। मैंने उस जगह का भी दौरा किया जहाँ नेताजी हरिपुरा में रुके थे।

ईश्‍वर करे कि नेताजी सुभाष चन्‍द्र बोस के विचार और आदर्श हमें एक ऐसे भारत के निर्माण की दिशा में काम करने की प्रेरणा प्रदान करें, जिस पर उन्हें गर्व होगा ... एक मजबूत, आत्मविश्वासी और आत्मनिर्भर भारत, जिसका मानव-केंद्रित दृष्टिकोण आने वाले वर्षों में एक बेहतर ग्रह के निर्माण में योगदान देगा।

तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री ने तकनीकी शिक्षा के विद्यार्थियों को पेटेंट के क्षेत्र में कार्य करने के लिए किया प्रेरित...

 संवाददाता  : जयपुर राजस्थान

राज्यपाल एवं  कुलाधिपति कलराज मिश्र की अध्यक्षता में तथा राष्ट्रीय प्रत्यायन मण्डल (एन.बी.ए.) प्रो.के.के. अग्रवाल के मुख्य आतिथ्य में राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय कोटा का 10वां दीक्षान्त समारोह शुक्रवार को वर्चुअल आयोजित किया गया।

विशिष्ठ अतिथि तकनीकी शिक्षा एवं संस्कृत शिक्षा राज्य मंत्री  डॉ.सुभाष गर्ग ने दीक्षान्त समारोह में तकनीकी शिक्षा के विद्यार्थियों को पेटेंट के क्षेत्र में कार्य करने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने उपाधि एवं गोल्ड मेडल प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को बधाई देते हुए कहा कि तकनीकी छात्र बहुत अच्छा कर रहे हैं। आरटीयू कोटा पुराना एवं प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय है, किन्तु यह भी एक चुनौती है कि अभी तक विश्वविद्यालयों की ओर से पेटेंट के क्षेत्र में कार्य नहीं हो पाया है। उन्होंने छात्र-छात्राओं को प्रेरित करते हुए कहा कि वे आगे आए और पूर्व छात्र के रूप में अध्ययनरत विद्यार्थियों को सहयोग करें। 
 
डॉं. गर्ग ने कहा कि तकनीकी विश्वविद्यालय से पास आउट होने वालों की संख्या में तो वृद्धि हो रही है किन्तु गुणवत्ता में भी वृद्धि की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि हमें चुनौतियों को भी अंगीकार करना होगा। उन्होंने कहा कि जनजातीय क्षेत्रों तथा ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को तकनीक से जोड़कर उन्हें आगे बढ़ने के अवसर देने होंगे।
 
उन्होंने कहा कि आरटीयू और बीटीयू गावों में टेक्नोहब बनाकर हम युवा पीढ़ी को इन टेक्नो हब से जोड़े ताकि उनके लिए रोजगार के अवसर पैदा हो और उनमें उद्यमिता का विकास हो सके। उन्होंने कहा कि एन.बी.ए. के पैरामीटर्स अच्छे है किन्तु नए र्कोसेस के लिए कुछ छूट दी जानी अपेक्षित है। उन्होंने कहा कि हमारे विद्यार्थियों में लीडरशिप का विकास हो, नए कोर्सेज और रिसर्च को बढ़ावा मिले इस पर बल देना आवश्यक है।

अच्छी सोच और स्वास्थ्य के लिए जरूरी है खेल: राज्यपाल

 संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश 

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि अच्छी सोच और बेहतर स्वास्थ्य के लिए जीवन में खेल बहुत जरूरी है। राज्यपाल शुक्रवार राजभवन में 22 दिसंबर से 22 जनवरी तक चली खेल प्रतियोगिता के समापन और पुरस्कार वितरण समारोह को संबोधित कर रही थी। इस अवसर पर खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया एवं राज्यपाल के प्रमुख सचिव डी.पी. आहूजा उपस्थित थे।

परिणाम नहीं खेलना महत्वपूर्ण

राज्यपाल पटेल ने कहा कि खेल में हार-जीत के परिणाम नहीं, भाग लेना मायने रखता है। उन्होंने कहा कि खेल व्यक्तियों को आपस में जोड़ता है। उन्होंने कहा कि प्रसन्नता की बात है कि खेल प्रतियोगिताओं के दौरान राजभवन के अधिकारी-कर्मचारियों में आपसी समझ बढ़ी है। वे एक दूसरे की मदद और सहयोग के लिए आगे आने लगे हैं। खेलने से सहयोग, अनुशासन और निरंतर प्रयासों से सफलता का विश्वास मिलता है। उन्होंने 50 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं की विशेष सराहना करते हुए कहा कि उनके प्रदर्शन से सीख मिलती है कि कभी भी कोई भी काम सफलता पूर्वक किया जा सकता है। आवश्यकता संकल्प की है। राज्यपाल ने राजभवन के अधिकारी-कर्मचारियों का आव्हान किया कि राजभवन में उपलब्ध मैदानों का इस्तेमाल खेलने में करें।

प्रतियोगिता में दिखी उत्कृष्ट खेल भावना

राज्यपाल श्रीमती पटेल ने परिसहाय श्री सुभाष आनंद द्वारा खेल प्रतियोगिता में भाग लेने और खेल भावना के प्रदर्शन के प्रसंग की सराहना करते हुए खेल और खेल भावना की महत्ता को बताया। उन्होंने बताया राजभवन में पदस्थ एडीसी सुभाष आनंद को दौड़ में वेटर के पद पर कार्यरत रिंकू ने नंगे पैर दौड़ कर पीछे छोड़ दिया था। रिंकू की प्रतिभा को देख श्री आनंद ने उसे रनिंग शूज भेंट कर, सच्ची खेल भावना का प्रदर्शन किया। इससे प्रेरणा लेनी चाहिए।

राजभवन में होगा मलखंब का प्रशिक्षण

समापन समारोह में खेल विभाग द्वारा मलखंब का प्रदर्शन किया गया। राज्यपाल ने खिलाड़ियों की गति, शक्ति और चपलता की सराहना करते हुए राजभवन में प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित कराने और इस मलखंब का कोच राजभवन को देने के लिए कहा है।

राज्यपाल की पहल अनुकरणीय

समापन समारोह को संबोधित करते हुए खेल एवं युवा कल्याण, तकनीकी एवं कौशल विकास मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा कि राजनैतिक जीवन में उन्हें पहली बार राजभवन द्वारा आयोजित खेल प्रतियोगिताओं में शामिल होने का अभूतपूर्व अवसर मिला। राज्यपाल की यह पहल सराहनीय और अनुकरणीय है। उन्होंने कहा कि खेलों में हिस्सा लेने से राजभवन में रहने वाले अधिकारी-कर्मचारी और उनके परिजनों में जीवन के प्रति उल्लास, ऊर्जा और उमंग बनी रहेगी। उन्होंने मलखंब और एयरोबिक्स के प्रतिभागियों को बधाई देते हुए खेल विभाग की तरफ से राजभवन की खेल गतिविधियों में सहयोग देने का आश्वासन दिया।

हनुमान चालीसा पर मलखंब

समारोह का आकर्षण राहुल पाल, प्रणीत यादव, सागर चौहान, उत्कर्ष पांडे और युवराज राव का हनुमान चालीसा पर मलखंब का प्रदर्शन था। उन्होंने जिस चपलता और चुस्ती के साथ प्रदर्शन किया उसने राज्यपाल, खेल मंत्री और उपस्थित दर्शकों को चकित कर दिया। ए.आर. रहमान की धुनों पर बालिकाओं द्वारा एरोबिक्स के प्रदर्शन की भी राज्यपाल ने सराहना की।

राजभवन नियंत्रक ने बताया कि यह प्रतियोगिता का दूसरा वर्ष है। इसके पहले राज्यपाल श्रीमती पटेल के निर्देश पर ही प्रथम खेल प्रतियोगिता की शुरूआत हुई थी। नियंत्रक ने जानकारी दी कि लगभग एक माह चली इस खेल प्रतियोगिता में 326 प्रतिभगियों ने हिस्सा लिया, जिसमें 121 महिलायें और 205 पुरूष थे। लगभग 14 प्रतियोगिताओं में पाँच से 60 वर्ष उम्र के प्रतिभागियों ने फ्रंट रोल दौड़, रस्साकशी, नींबू-चम्मच दौड़, म्यूजिकल चेयर रेस, जलेबी जम्प, गोला फेक, बिलियर्डस जैसे खेलों में भाग लेकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया।

कार्यक्रम में राज्यपाल ने पूर्व हॉकी खिलाड़ी समीर दाद, जी.एल. यादव, हर्षिता तोमर और लतिका भंडारी को सम्मानित किया। कार्यक्रम के अंत में राजभवन के पीएसओ जगन्नाथ सूर्यवंशी के पुत्र आदित्य सूर्यवंशी ने राज्यपाल को पेंटिग भेंट की। कार्यक्रम का संचालन पदम भंडारी ने किया। इस कार्यक्रम में राजभवन के अधिकारी-कर्मचारी एवं उनके परिजन बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

छत्तीसगढ़ के खाद्य प्रोसेसिंग उद्योग में तैयार फ्रोजन फूड प्रोडक्ट की पहली खेप भेजी गई न्यूजीलैंड...

 संवाददाता : रायपुर छत्‍तीसगढ़

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शुक्रवार यहां अपने निवास से छत्तीसगढ़ के खाद्य प्रोसेसिंग उद्योग गोयल ग्रुप द्वारा निर्मित फ्रोजन फूड प्रोडक्ट ‘‘गोल्ड‘‘ की विदेश में जाने वाली पहली कन्साइनमेंट को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि यह अत्यंत हर्ष की बात है कि छत्तीसगढ़ का स्वाद अब विदेश में भी चखा जाएगा। राज्य के बाहर देश-विदेश में भी  छत्तीसगढ़ की माटी की सौंधी महक और स्वाद का जादू और अधिक छायेगा। 

उन्होंने कहा कि इसकी शुरुआत ठीक छः महीने पूर्व कोरोना संकटकाल में हुई थी और इतने कम समय में एक नया उत्पाद छत्तीसगढ़ से देश के बाहर न्यूजीलैंड भेजा जा रहा है, मैं इसके लिये गोयल ग्रुप ऑफ कंपनी को बधाई एवं शुभकामनाएं देता हूँ । इससे छत्तीसगढ़ का नाम देश और विदेश में और अधिक रौशन होगा, यह हमारे लिए गर्व की बात है। मुख्यमंत्री बघेल ने इस अवसर पर कम्पनी के चेयरमैन सुरेश गोयल सहित ग्रुप से जुड़े सभी लोगों को बधाई और शुभकामनायें दी।

गोयल समूह के मैनेजिंग डायरेक्टर राजेन्द्र गोयल ने बताया कि मुख्यमंत्री बघेल के हाथों 9 जून को छत्तीसगढ़ की पहली फ्रोजन फूड इकाई का शुभारंभ किया गया। कोरोना संकट के दौर में प्रारंभ हुये इस इकाई ने हजारों लोगों को रोजगार दिया है, जिसमें लगभग 60 प्रतिशत महिलाएं हैं। उन्होंने बताया कि बहुत जल्द छत्तीसगढ़ की माटी की महक लिए गोल्ड की यह फ्रोजन फूड रेंज अमेरिका, कैनेडा, मालदीव, रशिया, मॉरिशस समेत मिडिल ईस्ट के बाजारों में भी अपनी पहचान बनाएगा।

इस उत्पाद को  FSSAI, USFDA, HALAL, FSSC 20-2000, BRCGS जैसे राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों से लायसेंस प्राप्त होने के साथ ही फूड ऑडिट, क्वालिटी और सेफ्टी स्टैंडर्ड को भी ए-ग्रेड मिला है । इस अवसर पर गोयल समूह के चेयरमैन सुरेश गोयल, मैनेजिंग डायरेक्टर राजेन्द्र गोयल,बजरंग एलियांज लिमिटेड के डायरेक्टर अर्चित गोयल भी उपस्थित थे।

उत्तराखंड की प्रमुख खबरें...

संवाददाता : देहरादून उत्तराखंड 

उत्तराखंड की प्रमुख खबरें  :

मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को देहरादून के प्रेमनगर में 63.39 लाख की लागत से निर्मित बहुद्देशीय क्रीडा भवन का लोकार्पण किया। इस अवसर पर उन्होंने प्रेमनगर में मिनी स्टेडियम बनाये जाने की भी घोषणा की। उन्होेंने कहा कि प्रदेश के विकास की दिशा में सरकार पूरी गंभीरता के साथ काम रही है। कहा कि जल्द ही सूर्यधार झील बनने से देहरादून को ग्रेविटी सिस्टम से पानी उपलब्ध कराया जायेगा। जिससे बिजली पर खर्च होने वाले करोड़ों रूपए की बचत होगी।


राष्ट्रीय रंगशाला नई दिल्ली में आयोजित समारोह में उत्तराखंड की ओर से झांकी का प्रदर्शन किया गया। केदारखंड नाम की यह झांकी आकर्षण का प्रमुख केंद्र रही। उत्तराखंड राज्य के कलाकारों ने पारंपरिक वेशभूषा में सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी जिसे लोगों की ओर से खूब सराहा गया। बता दें कि उत्तराखंड की झांकी में सूचना विभाग के उपनिदेशक के एस चैहान के नेतृत्व में 12 कलाकार गणतंत्र दिवस परेड में उत्तराखंड की झांकी में भाग ले रहे हैं। चौहान ने बताया कि राजपथ पर इस बार उत्तराखंड की झांकी केदारखंड सबके लिए आकर्षण का केंद्र रहेगी।


मुख्यमंत्री ने शुक्रवार देहरादून में उत्तराखंड के प्रथम बाल मित्र थाने का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि बाल मित्र थाने के रूप में की गई यह नई शुरूआत पुलिस का एक सुधारात्मक कदम है। कहा कि बच्चे कच्ची मिट्टी की तरह होते हैं, हम उन्हें जिस माहौल में ढालना चाहें, ढाल सकते हैं। हमारे देश के भविष्य इन बच्चों को हम इन थानों के माध्यम से सही दिशा में ढालने का कार्य कर सकते हैं। कहा कि बाल मित्र थाने के माध्यम से समाज में एक नई सोच विकसित होगी। बच्चों की सुरक्षा के लिए उन्होंने एक करोड़ के रिवाॅल्विंग फंड की भी घोषणा की।



मुख्यमंत्री ने कुल्लू जिले में विकासात्मक परियोजनाओं के कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए...

 संवाददाता : शिमला हिमाचल

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कूल्ल जिले में निर्माणाधीन विभिन्न विकास परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा के लिए कुल्लू में जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए निर्देश दिए कि सभी निर्माणाधीन परियोजनाओं को निर्धारित समय सीमा में पूरा करना सुनिश्चित बनाया जाए।
 
उन्होंने कहा कि पिछले दो वर्षांे से यातायात के लिए बंद पड़े कुल्लू के भूतनाभ पुल को इसी वर्ष मार्च महीने तक यातायात के लिए बहाल किया जाए। यातयात की दृष्टि से यह महत्वपूर्ण पुल है जिसके बंद होने लोगों को बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि इस पुल के मुरम्मत कार्य में कोई तकनीकी खामी नहीं रहनी चाहिए। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि पुल निर्माण में गुणवत्ता से समझौता करने के दोषी ठेकेदार और इंजीनियरों की जिम्मेवारी तय कर उनके विरूद्ध कार्रवाई की जाए।

जय राम ठाकुर ने मनाली शहर तथा इसके समीपवर्ती गांवों के लिए 162 करोड़ की मल निकासी परियोजना के कार्य को शीघ्र शुरू करवाने को कहा। उन्होंने कहा कि इस परियोजना के लिए 21 करोड़ रुपये लागत की पाईपें खरीदी जा चुकी हैं लेकिन परियोजना पर कार्य शुरू नहीं हो पाया है। उन्होंने जल शक्ति विभाग के अधिकारियों को तय समय सीमा में परियोजना का कार्य पूरा करने के निर्देश दिए।
 
बंजार में नागरिक अस्पताल के दो खण्डों के निर्माण में अनावश्यक विलंब पर असंतोष व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को इस भवन का निर्माण कार्य जनवरी, 2022 तक पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने उपायुक्त को जिला की निर्माणाधीन परियोजनाओं की स्वयं निगरानी करने तथा समय-समय पर बैठकें आयोजित करने को कहा ताकि छोटे-छोटे कारणों से निर्माण कार्यों में हो रहे व्यवधान का समाधान किया जा सके।
 
जय राम ठाकुर ने कहा कि बंजार बाईपास के लिए सरकार ने 734.40 लाख रुपये की राशि स्वीकृत की है जिसका निर्माण कार्य शीघ्र शुरू किया जाना चाहिए। उन्होंने मनाली के रामबाग में आॅडिटोरियम के निर्माण की सभी औपचारिकताओं को जल्द पूरा करने को कहा ताकि वहां एक आधुनिक आॅडिटाॅरियम का निर्माण किया जा सके जिसका उपयोग शरदोत्सव जैसे बडे़ कार्यक्रमों के आयोजन के लिए किया जा सकता है।उन्होंने 549 लाख रूपये की लागत से निर्मित होने वाले उपायुक्त कार्यालय के बहुद्देशीय भवन का निर्माण कार्य एक वर्ष के भीतर पूर्ण करने को कहा। उन्होंने कहा कि कुल्लू बस अड्डा का निर्माण कार्य अंतिम चरण में है जिसे इसी वर्ष मार्च माह में लोगों को समर्पित किया जाएगा।
 
मुख्यमंत्री ने कुल्लू जिला में कोविड-19 के संकट से निपटने के लिए उठाए गए प्रभावी कदमों के लिए जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की सराहना की। उन्होंने संतोष व्यक्त किया कि जिले में कोविड मामलों में तेजी से गिरावट आई है और मौजूदा समय में जिले में केवल 10 सक्रिय मामले हैं।शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि मनाली में आॅडिटोरियम बनने से विभिन्न गतिविधियों का बेहतर ढंग से आयोजन किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि वह स्वयं इसकी प्रक्रिया व औपचारिकताओं की निगरानी कर रहे हैं।
 
बंजार के विधायक सुरेन्द्र शौरी ने मुख्यमंत्री से बंजार बाईपास तथा इस पर निर्मित होने वाले पुल का शीघ्र निर्माण करवाने का आग्रह किया क्योंकि बंजार में यातायात की समस्या काफी गंभीर है। मुख्यमंत्री को अवगत करवाया गया कि चार बीघा निजी भूमि का अधिग्रहण कर लिया गया है और जल्द ही निर्माण कार्य आरम्भ कर दिया जाएगा।  

25 जनवरी को हरियाणा सिविल सचिवालय चंडीगढ़ में 11वां राज्यस्तरीय मतदाता दिवस वर्चुअल तौर पर मनाया जाएगा : मुख्य सचिव

 संवाददाता चंडीगढ़ हरियाणा 

आगामी 25 जनवरी को हरियाणा सिविल सचिवालय चंडीगढ़ में 11वां राज्यस्तरीय मतदाता दिवस वर्चुअल तौर पर मनाया जाएगा। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में हरियाणा के मुख्य सचिव विजयवर्धन मुख्य अतिथि होंगे जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा करेंगे । राज्य के सभी उपायुक्त व अन्य अधिकारी भी अपने-अपने जिला से वर्चुअल तौर पर उक्त कार्यक्रम से जुड़े रहेंगे।

इस बारे में जानकारी देते हुए मुख्य निर्वाचन अधिकारी अनुराग अग्रवाल ने बताया कि मतदाता दिवस जिला स्तर से लेकर मतदान केंद्र स्तर तक मनाया जाएगा जिसमें मतदाताओं को उनके संवैधानिक अधिकारों के प्रति जागरूक किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कोविड-19 के चलते भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशन में राज्य में फोटोयुक्त मतदाता सूचियों का दो बार विशेष संक्षिप्त पुनर्निरीक्षण किया गया।

अग्रवाल ने बताया कि एक जनवरी 2021 को पात्रता तिथि के आधार पर संशोधित की गई मतदाता सूचियों के दौरान राज्य में 5,02,030 नए मतदाता बनाए गए, जिससे अब 1,88,08,322 मतदाता हैं। इनमें से 1,00,44,531 पुरूष तथा 87,63,791 महिला मतदाता हैं।

उन्होंने यह भी बताया कि निर्वाचन आयोग द्वारा मतदाताओं को जागरूक करने के लिए ‘सभी मतदाता बनें सशक्त, सतर्क, सुरक्षित एवं जागरूक’ विषय पर सेमीनार किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि इस मतदाता दिवस पर मतदाताओं को दो चरणों में ई-एपिक की सुविधा प्रदान की जाएगी। पहला चरण 25 जनवरी से 31 जनवरी तक होगा जिसमें यूनिक मोबाइलयुक्त नए बने मतदाता शामिल होंगे। दूसरे चरण में यह सुविधा सभी पंजीकृत मतदाताओं के लिए उपलब्ध हो जाएगी।

झारखण्ड ख्रीस्तीय अल्पसंख्यक शिक्षण संस्था के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री से मुलाकात की...

 संवाददाता : रांची झारखंड

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से झारखण्ड ख्रीस्तीय अल्पसंख्यक शिक्षण संस्था के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की।प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री को गैर सरकारी सहायता प्राप्त अल्पसंख्यक प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षाकर्मियों की लंबित समस्याओं से सम्बंधित ज्ञापन सौंपा।

मुख्यमंत्री ने लंबित समस्याओं पर विचार करने का आश्वासन प्रतिनिधिमंडल को दिया। इस मौके पर विधायक भूषण तिर्की, विधायक चमरा लिंडा, विधायक जीगा सुसारण होरो, आर्च बिशप ऑफ रांची रेवरेंड फेलिक्स टोप्पो, बिशप ऑफ गुमला पॉल रेवरेंड अलोइस लकडा, बिशप ऑफ सिमडेगा रेवरेंड विंसेंट बरवा, बिशप ऑफ दुमका रेवरेंड जूलियस मरांडी, बिशप ऑफ खूंटी रेवरेंड विनय कंडुलना, बिशप ऑफ हजारीबाग रेवरेंड आनंद जोजो, बिशप ऑफ जमशेदपुर रेवरेंड टेल्सफोर बिलुंग एसवीडी, बिशप ऑफ रांची रेवरेंड थिओडोर मस्कारेनहास एसएफक्स, बिशप ऑफ सीएनआई रांची रेवरेंड बासिल बलिया बासकी, बिशप ऑफ जीईएल चर्च खूंटी रेवरेंड जोसेफ सांगा, बिशप ऑफ एनडब्लूजीईएल चर्च रांची रेवरेंड दुलार लकडा,  सचिव जेएसीएमईआईए रांची फादर हुबेटस बेक, जेनरल सेक्रेटरी हायर सेकेंडरी झारखण्ड फादर एरेंटिस मिंज, जेनरल सेक्रेटरी प्राइमरी स्कूल झारखण्ड श्री निरंजन कुमार सांडिल और इंस्पेक्टर ऑफ स्कूल रांची फादर मुकुल कुल्लू उपस्थित थे।

बिहार में जल-जीवन-हरियाली पर बनी राजव्यापी मानव शृखंला को दुनिया का लार्जेस्ट ह्यूमेन चेन माना...

 संवाददाता : पटना बिहार

बिहार एक झलक में, बिहार की प्रमुख खबरें  :

इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड्स-2021 ने 19 जनवरी, 2020 को बिहार में जल-जीवन-हरियाली पर बनी राजव्यापी मानव शृखंला को दुनिया का लार्जेस्ट ह्यूमेन चेन माना है। बिहार की इस उपलब्धि को रिकार्ड के रूप में जगह दी गई है। गौरतलब हो कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहल पर बिहार में पर्यावरण संरक्षण, शराबबंदी और दहेज उन्मूलन को लेकर मानव शृखंला बनायी गयी थी।

👉अब सभी तरह के सरकारी ठेके में चरित्र प्रमाण पत्र को अनिवार्य कर दिया गया है। अब कोई भी ठेका लेने के पहले ठेकेदार को पुलिस अधीक्षक कार्यालय से जारी किया गया चरित्र प्रमाण पत्र जमा करना होगा, तभी उन्हें ठेका दिया जाएगा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर मुख्य सचिव, गृह सचिव और डीजीपी की संयुक्त बैठक में यह निर्णय लिया गया है। राज्य सरकार द्वारा जल्द ही सभी विभागों को आदेश जारी कर दिया जाएगा।
 
👉मुख्यमंत्री की पहल पर कृषि विभाग ने बीज के मामले में राज्य को आत्मनिर्भर बनाने की कवायद तेज कर दी है। इस वर्ष से ‘मिशन 4.0’ शुरू किया गया है। खास बात यह है कि इस मिशन के तहत बीज निगम ने अब संकर किस्मों के धान और मक्के के बीज का भी उत्पादन शुरू किया है। बीज निगम के इस अभियान में राज्य में कम-से-कम 4 लाख क्विंटल बीज उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है। साथ ही हर साल जितने किसानों को सरकार बीज आपूर्ति करती है, उससे 5 लाख ज्यादा किसानों को आपूर्ति करने का भी लक्ष्य तय किया गया है।
 
👉कर्नाटक के शिवमोगा में एक दर्दनाक हादसे में बिहार के 8 मजदूरों की मौत हो गई है। डायनामाइट और जिलेटिन लदे ट्रक में ब्लास्ट होने पर हादसा हुआ है। इस घटना पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त करते हुए कहा है कि यह घटना अत्यंत दुखद और पीड़ादायक है और वह इस घटना से मर्माहत हैं। उन्होंने मृतक के परिजनों को दु:ख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की। उन्होंने स्थानिक आयुक्त, नई दिल्ली को कर्नाटक सरकार के अधिकारियों से समन्वय स्थापित कर समुचित व्यवस्था करने का निर्देश दिया है।
 
👉वैशाली की जिलाधिकारी उदिता सिंह की अध्यक्षता में ‘हर खेत तक सिंचाई का पानी’ योजना की कार्य प्रगति की समीक्षा की गयी। उन्होंने संबंधित पदाधिकारियों को कई आवश्यक दिशा-निर्देश दिया।
 
👉खगड़िया के जिलाधिकारी ने कोविड-19 टीकाकरण संबंधी दैनिक डीब्रीफिंग की। उन्होंने टीकाकरण को व्यापक बनाये जाने हेतु सत्र स्थलों की संख्या को दोगुना करने का निर्णय लिया और सप्ताह में प्रत्येक सोमवार एवं बृहस्पतिवार को टीकाकरण का निर्देश दिया।
 
👉मुजफ्फरपुर के जिलाधिकारी प्रणव कुमार ने समाहरणालय स्थित विभिन्न शाखाओं का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को कई महत्वपूर्ण दिशा-निर्देश दिये।
 
👉बक्सर के जिला पदाधिकारी अमन समीर ने आंतरिक संसाधन एवं राजस्व की समीक्षात्मक बैठक की। उन्होंने विभाग के लक्ष्य के अनुरूप राजस्व संग्रहण करने हेतु अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया।
 
👉जहानाबाद के जिलाधिकारी श्री नवीन कुमार ने गणतंत्र दिवस की तैयारी के संबंध में बैठक की। उन्होंने झंडोत्तोलन, परेड, झांकी का प्रदर्शन एवं खेल-कूद कार्यक्रम के सफल आयोजन को लेकर आवश्यक निर्देश दिये।
 
👉मधुबनी के जिला पदाधिकारी अमित कुमार ने पंडौल प्रखण्ड में निर्माणाधीन इंजीनियरिंग कॉलेज का निरीक्षण किया एवं संबंधित अधिकारियों से कार्य प्रगति की जानकारी ली। इस दौरान उन्होंने कई आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिया।
 
👉सारण के जिला पदाधिकारी ने बाढ़ से हुई क्षति, GR वितरण के मद में राशि का व्यय तथा आपदा प्रबंधन के अन्य महत्वपूर्ण बिन्दुओं समेत राजस्व कार्यों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने सम्बंधित पदाधिकारियों को कई आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।
 
👉नवादा के जिला पदाधिकारी श्री यशपाल मीणा ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रखंड स्तरीय आर.टी.पी.एस. सेवा से संबंधित समीक्षा बैठक की। इस दौरान उन्होंने संबंधित पदाधिकारियों को कई आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।

शुक्रवार, 22 जनवरी 2021

फिल्‍म संगीत में हमारे विशाल भारतीय सांस्कृतिक ताने-बाने का उपयोग किया जाना चाहिए : हरिहरन

 संवाददाता : नई दिल्ली

भारत में, हमारे जीवन में संगीत है। यहां, अचानक गीत गाना शुरू करना कोई बड़ी बात नहीं है। यही भारत है। इसलिए, फिल्मी गाने यहां लोकप्रिय हो जाते हैं। हमारे पास कुछ बेहतरीन गाने हैं, जिन्हें देखा जाता है चाहे फिल्म न भी देखी हो। - हरिहरन

जब सिनेमा और संगीत का मिलन होता है, तो उसका सभी आनंद उठाते हैं। भारत में सिनेमा संगीत और नृत्य से भरे थियेटर पर काफी असर डालता है।नृत्य, संगीत और सिनेमा में नवरस सर्वव्यापी रहा है। - हरिहरन

क्षेत्र-आधारित सिनेमा संगीत निर्देशकों को उस भूमि के एक भाग को चित्रित करने का मौका देता है।–विक्रम घोष

भारत के 51 वें आईएफएफआई के दौरान संगीत और सिनेमा के बारे में आयोजित वर्चुअल इन-कन्वर्सेशन' सत्र में संगीत के दो उस्तादों - पार्श्व गायक पद्मश्री हरिहरन और ताल वादकविक्रम घोष ने कुछ इस तरह की टिप्पणियां की।

बहुचर्चित पार्श्व गायक हरिहरन ने कहा, आधुनिक फिल्मों में संगीत बदल गया है, साथ ही समाज में भी बदलाव आया है। उन्होंने कहा कि 50 के दशक में फिल्मी गाने और पार्श्‍व स्‍वर लिपि भारतीय शास्त्रीय विधा से भरी हुई थी। भारतीय सिनेमा में संगीत के क्रमिक विकास पर टिप्पणी करते हुए, विक्रम घोष ने कहा: जब हमने स्वतंत्रता प्राप्त की, उस समय की फिल्मों में भारतीय होने का जोर था। इसलिए, दर्शकों को भारतीय शास्त्रीय संगीत के माध्यम से भारतीयता की प्रगति दिखाई जाती थी।बाद के समय के बारे में, हरिहरन ने कहा: उसके बाद 70 का दशक आया, जब हिंदी सिनेमा‘ वास्तविक सिनेमा या 'कलात्‍मक सिनेगा' की लहर से प्रभावित था, जिसमें बहुत कम गाने होते थे। 90 के दशक में आवाज में नाटकीय रूप से मामूली बदलाव आया। इस अवधि में, गायकों को एक राहत देते हुए, हर तरह की ध्वनि सुनाई देती थी। 60 और 70 के दशक में आवाज की स्पष्टता थी, 80 के दशक में बहुत अधिक वाद्य यंत्र देखे गए और 90 के दशक में, आवाज स्पष्टता पूरी तरह से गायब हो गई।

मशहूर पार्श्‍व गायक ने कहा, नौशाद की गंगा-जमुना  में, उन्होंने लोक संगीत का बहुत इस्तेमाल किया। फिल्म की पूरी पार्श्‍व स्‍वर लिपि  और फिल्‍म की एक प्रकार की संगीत रचना ललित और मारवा रागों पर आधारित थी। इसने दृश्यों में गहराई जोड़ दी। उस अवधि में एक सौहार्द था।

इस संदर्भ में, विक्रम घोष का मानना है कि ए आर रहमान के आने के साथ, काफी बदलाव आया; बहुत सारे उपकरणों का इस्तेमाल किया जाने लगा।

इलियाराजा और आर डी बर्मन जैसे दिग्गज भी वर्चुअल चर्चा में शामिल हुए। हरिहरन ने कहा, इलियाराजा की अन्नकली में, तमिल लोक संगीत और कर्नाटक संगीत के बीच एक अद्भुत सामंजस्य था। विक्रम घोष ने सहमति व्‍यक्‍त की, जब इलियाराजा दक्षिण पर शासन कर रहे थे, पंचमदा मुंबई में संगीत के राजा थे। उन्‍होंने बहुत सारे रास्‍तों को पश्चिमी कर दिया। आर. डी. बर्मन ने एफ्रो-क्यूबन और लैटिन संगीत को रूपांतरित किया।

विक्रम घोष ने कहा, कुछ फिल्मों में आर.डी. बर्मन द्वारा इस्तेमाल की गई रचनाएं भारतीय संगीत के लिए एक विरासत हैं। सत्ते पेसत्ता मेंअमिताभ बच्चन का किरदार एक सुर में गूँज गया। शोले  में, चल धन्नो चल  में शांताप्रसादजी के तबले का जादू चल गया। यादों की बारात में गाना चुरा लिया है तुमने जो दिल को, इस्तेमाल की गई आवाज़ों के लिए विशिष्ट है, जबकि तीसरी मंज़िल एक अन्‍य फ़िल्म है जिसे संगीत बनाने के लिए इस्तेमाल अनोखी आवाज़ों के लिए जाना जाता है।

हरिहरन ने कहा, 70 के दशक में, दक्षिण भारत ने बॉलीवुड संगीत से प्यार करना शुरू किया।

जाने-माने फिल्म निर्माता और उत्कृष्ट संगीतकार सत्यजीत रे का नाम भी चर्चा में लिया गया। विक्रम घोष ने कहा, उन्होंने बंगाली सिनेमा में बहुत सारी दक्षिण भारतीय ध्वनियों को डाला। उन्होंने अपनी फिल्म गोपी गेन बाघा बैन में दक्षिण भारतीय संगीत के पूरे ग्लैमर का इस्तेमाल किया।

हरिहरन ने कहा,मुझे लगता है कि भारतीय सिनेमा में लिप सिंकिंग का उपयोग कम हो गया है। फिल्मी-गानों में मॉड्यूलेटरी नोट भी कम हो रहा है। आजकल बहुत सारी स्‍वर लिपियां इलेक्ट्रॉनिक संगीत द्वारा निर्मित होती हैं”।उन्होंने यह भी महसूस किया, "जबकि कुछ गाने लाइव गाते हुए सुंदर लगते हैं, डबिंग के बाद आवाज़ अलग लगती है।

हरिहरन ने इस बात पर सहमति व्‍यक्‍त की कि वर्तमान फिल्मों और संगीत के बारे में, विक्रम घोष ने एक सकारात्मक नोट में कहा, देश के विभिन्न क्षेत्रों में बहुत सारी हिंदी फिल्में तैयार होती हैं। परिणामस्वरूप, विविधता से भरे हमारे देश के विभिन्न हिस्सों के लोक और स्थानीय संगीत लोकप्रियता प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने कहा, भारत के विशाल सांस्कृतिक ताने-बाने का उपयोग किया जाना चाहिए"। संगीत के उस्‍ताद ने कहा, ए. आर. रहमान ने शानदार तरीके से यह काम किया है। फिल्म लगान  इसका एक सुंदर उदाहरण है।

विक्रम घोष ने थ्रिलर टोरबाज़ के की स्‍वर लिपि तैयार करने के अपने अनुभव को साझा किया। फिल्म में अफगानिस्तान का एक दृश्‍य है जिसके लिए संगीत को मध्य-पूर्वी ध्वनियों की आवश्यकता थी। हालांकि निर्देशक उस क्षेत्र का ऑडियो-मैप नहीं चाहते थे। इसने मुझे उस क्षेत्र की भावना पैदा करने के लिए विभिन्न स्वदेशी वाद्य ध्वनियों का उपयोग करने की अनुमति दी।

हरिहरन का मानना है, वर्तमान समय में संगीत की बारीकियां गायब हैं, जो किसी की रूह के लिए आवश्यक है। एक गीत का श्रुति  पहलू आजकल गायब है । विक्रम घोष ने इसी तर्ज पर कहा, डांस बीट्स के साथ चक्‍कर खाते हुए घूमना चला गया।

समापन पर, दोनों संगीतकारों ने कहा कि फिल्मों में हर प्रकार का संगीत होना चाहिए। आपको गानों और मॉड्यूलेशन में विविधता चाहिए।

वेटरनरी यूनिर्वसिटी टे्रनिंग एण्ड रिर्सच सेंर्टस का किया सरल नामकरण, अब ‘पशु विज्ञान केन्द्र’ कहलाएंगे...

 संवाददाता  : जयपुर राजस्थान

 पशुपालकों को वैज्ञानिक ढंग से पशु पालने का प्रशिक्षण देने के लिए स्थापित वेटरनरी यूनिर्वसिटी ट्रेनिंग एण्ड रिर्सच सेंटर (वीयूटीआरसी) अब ‘पशु विज्ञान केन्द्र’ के नाम से जाने जाएंगे।  

कृषि एवं पशुपालन मंत्री लालचन्द कटारिया ने बताया कि राजस्थान पशु चिकित्सा और पशु विज्ञान विश्वविद्यालय (राजुवास), बीकानेर के अन्र्तगत वैज्ञानिक पशुपालन प्रशिक्षण के लिए राज्य में बाकलिया (नागौर), सूरतगढ़ (श्रीगंगानगर), कुम्हेर (भरतपुर), डूंगरपुर, टोंक, चूरू, बौजुन्दा (चित्तौड़गढ़), कोटा, सिरोही, धौलपुर, लूनकरणसर (बीकानेर), जोधपुर, झुंझुनूं, जालौर एवं झालावाड़ में वीयूटीआरसी केन्द्र स्वीकृत हैं। इन केन्द्रों का मुख्य उद्देश्य जिला स्तर पर वैज्ञानिक प्रशिक्षण, सलाहकारी सेवाएं, प्रौद्योगिकी हस्तांतरण और पशु रोग निदान परार्मश सेवाएं प्रदान करना है।
 
कटारिया ने बताया कि वीयूटीआरसी नाम बोलचाल में थोड़ा कठिन होने से आम किसानों एवं पशुपालकों की जुबान पर सिरे नहीं चढ़ पाया है,  इसलिए इसका संक्षिप्त व सरल नामकरण करने की आवश्यकता महसूस हो रही थी। इसी को दृष्टिगत रखते हुए इनका नामकरण कृषि विज्ञान केन्द्र की तर्ज पर “पशु विज्ञान केन्द्र“ किया गया है। यह अत्यंत व्यावहारिक और आमजन में बोलचाल की भाषा में सरल एवं प्रभावी रहेगा। यह नामकरण उन्नत और वैज्ञानिक पशुपालन की स्वप्रेरणा देने वाला है, जो कि केन्द्र के व्यापक उद्देश्यों का अहसास करवाता है। साथ ही लोगों के बीच केन्द्र की लोकप्रियता बढ़ाने में भी सहायक होगा। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने इन केंद्रों के सुचारू संचालन एवं विकास के लिए इस वर्ष राज्य मद से 3 करोड़ 31 लाख रुपए की बजट राशि का प्रावधान किया है।
 
 कटारिया ने उम्मीद जतायी कि राज्य सरकार की ओर से इसकी स्वीकृति मिलने से केन्द्र के उद्देश्य भी स्वतः परिलक्षित होंगे। प्रदेश में पशु कल्याण के लिए राज्य सरकार व विश्वविद्यालय का यह आयाम और अधिक प्रभावी हो सकेगा, साथ ही राज्य सरकार के पशु कल्याण के उद्देश्य की भी र्पूति करेगा।

खेल मैदानों का विकास कर जरूरी सुविधाएँ उपलब्ध करायेंगे : कमल पटेल

 संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश 

किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने कहा कि हरदा में खेल मैदानों को विकसित बनाया जायेगा। इसके लिये सभी आवश्यक सुविधाएँ उपलब्ध करायेंगे। वे गुरुवार को जिले के ग्राम करताना में राष्ट्रीय शूटिंग बॉल प्रतियोगिता के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। प्रतियोगिता की विजेता उत्तरप्रदेश की टीम रही।

मंत्री पटेल ने कहा कि खेलों से सम्पूर्ण व्यक्तित्व का विकास होता है। खेल जीवन के हर क्षेत्र में आगे बढ़ने में सहायता करते हैं। उन्होंने स्वयं का उदाहरण देते हुए कहा कि वे व्हॉली-बॉल के खिलाड़ी रहे हैं। उन्हें हरदा के बाहर अन्य शहरों में खेलने का अवसर भी प्राप्त हुआ। इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। उन्होंने युवाओं से खेल स्पर्धाओं में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेने का आव्हान किया।

पाँच-पाँच हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि मिलेगी

मंत्री पटेल घोड़ा-घोड़ी चाल प्रतियोगिता के समारोह में भी सम्मिलित हुए। स्पर्धा में घुड़सवारों ने अपने कौशल का अद्भुत प्रदर्शन किया। मंत्री श्री पटेल ने स्पर्धा के आयोजकों को साधुवाद देते हुए प्रतिभागी घुड़सवारों को 5-5 हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा की।

मंत्री पटेल धौलपुरखुर्द आध्यात्मिक सत्संग में हुए शामिल

कृषि मंत्री कमल पटेल टिमरनी तहसील के ग्राम धौलपुरखुर्द में आयोजित रामकथा आध्यात्मिक सत्संग में सम्मिलित हुए। उन्होंने कार्यक्रम में भगवती स्वरूप कन्याओं का पूजन किया। पटेल ने राघवेन्द्र जी महाराज अयोध्या धाम की रामकथा का श्रवण किया। उन्होंने गादी पीठ की पूजा-अर्चना भी की।

हिंदुजा ग्रुप के चेयरमैन पी.पी. हिन्दुजा ने गुरुवार को मुख्यमंत्री आवास में मुख्यमंत्री से भेंट की...

 संवाददाता : देहरादून उत्तराखंड 

हिंदुजा ग्रुप के चेयरमैन पी.पी. हिन्दुजा ने गुरुवार को मुख्यमंत्री आवास में मुख्यमंत्री से भेंट की। मुख्यमंत्री ने हिंदुजा से प्रदेश में वैदिक स्कूल की स्थापना के साथ ही स्वास्थ्य एवं जल संरक्षण के क्षेत्र में सहयोग की अपेक्षा की। हिंदुजा ने मुख्यमंत्री को हिंदुजा फाउण्डेशन की ओर से प्रदेश में वैदिक स्कूल स्थापना, हिंदुजा अस्पताल मुम्बई के सहयोग से प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं के विकास में सहयोग का आश्वासन दिया।

हिंदुजा ने देवप्रयाग में स्विट्जरलैंड की भांति स्विस सिटी की स्थापना, परमार्थ निकेतन के समीप स्थित राजकीय विद्यालय तथा बीटल्स आश्रम के रखरखाव में सहयोगी बनने के साथ ही इण्डस बैंक के सहयोग से कोऑपरेटिव बैंकों को बैंकिंग तकनीकि उपलब्ध कराने में सहयोग का आश्वासन भी दिया।



 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने वाणिज्यिक कर (जीएसटी) विभाग की बजट तैयारियों की समीक्षा की..

 संवाददाता : रायपुर छत्‍तीसगढ़

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गुरूवार  यहां अपने निवास कार्यालय में आयोजित बैठक में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, चिकित्सा शिक्षा और वाणिज्यिक कर (जीएसटी) विभाग की बजट तैयारियों की समीक्षा की।

 बैठक में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टी.एस. सिंहदेव, प्रभारी मुख्य सचिव सुब्रत साहू, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण एवं चिकित्सा शिक्षा रेणु जी. पिल्लै, प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर विभाग गौरव द्विवेदी, वित्त विभाग की सचिव अलरमेलमंगई डी., पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के सचिव आर. प्रसन्ना, मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल परदेशी, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला, संचालक स्वास्थ्य सेवाएं नीरज बंसोड़, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के संचालक मोहम्मद कैसर हक भी उपस्थित थे ।


मुख्यमंत्री ने उपायुक्तों को जिला व उप-मंडल स्तर पर पूर्ण राज्यत्व दिवस समारोह मनाने के निर्देश दिए...

 संवाददाता : शिमला हिमाचल

प्रदेश के पूर्ण राज्यत्व के अवसर पर 25 जनवरी, 2021 को आयोजित हाने वाले स्वर्ण जयन्ती समारोह को लेकर गुरूवार यहां से वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने उपायुक्तों  को निर्देश दिए कि पूर्ण राज्यत्व दिवस समारोह जिला व उप-मण्डल स्तर पर शानदार तरीके से आयोजित किया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी उपायुक्त स्वर्ण जयन्ती समारोह के विषय पर जिला मुख्यालय स्तर पर जिला स्तरीय कार्यक्रम आयोजित करना सुनिश्चित करें। इसी प्रकार, उपमण्डलाधिकारी भी उपमण्डल स्तर पर इस प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन करेंगे। उन्होंने कहा कि सम्बन्धित जिलों में कार्यक्रमों को इस प्रकार से आयोजित किया जाए कि प्रातः 11 बजे तक ये सम्पन्न हो जाएं। जिलों और उपमण्डल स्तर पर कार्यक्रमों के आयोजन के उपरांत शिमला में राज्य स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन होगा, जिसका इन सभी स्थानों पर सीधा प्रसारण किया जाएगा।

जय राम ठाकुर ने कहा कि क्षेत्र के प्रसिद्ध व्यक्तियों के अलावा विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्धियां हासिल करने वाले लोगों को कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित होने का आग्रह किया जा सकता है। इसके साथ-साथ सम्बन्धित क्षेत्रों के पंचायती राज संस्थानों के नवनिर्वाचित प्रतिनिधियों और शहरी स्थानीय निकायों के प्रतिनिधियों को भी आमंत्रित किया जा सकता है। इस आयोजन का हिस्सा बनने के लिए महिला मण्डलों, युवक मण्डलों और अन्य निकायों की सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि समारोह में पारस्परिक दूरी बनाकर और फेस मास्क का उपयोग करते हुए बैठने के उचित प्रबन्ध सुनिश्चित किए जाने चाहिए।

मुख्यमंत्री ने सभी उपायुक्तों को सम्बन्धित जिलों में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की स्वयं निगरानी करने के निर्देश दिए। इस कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए उपायुक्तों ने अपने बहुमूल्य सुझाव दिए।सचिव सामान्य प्रशासन देवेश कुमार ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया।

शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह ठाकुर, निदेशक पर्यटन युनूस, विशेष सचिव राकेश कंवर, उपायुक्त शिमला आदित्य नेगी, निदेशक सूचना एवं जन सम्पर्क हरबंस सिंह ब्रसकोन, निदेशक भाषा, कला एवं संस्कृति सुनील शर्मा, नगर निगम आयुक्त आशीष कोहली, पुलिस अधीक्षक शिमला मोहित चावला, संयुक्त सचिव सचिवालय प्रशासन सचिन कंवल और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने भी बैठक में भाग लिया।  

सीएम विंडो पर आने वाली शिकायतों के समाधान में लापरवाही पर पांच मामलों में एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए...

 संवाददाता चंडीगढ़ हरियाणा 

हरियाणा के मुख्यमंत्री के सुशासन सहयोग कार्यक्रम के परियोजना निदेशक डॉक्टर राकेश गुप्ता ने  सीएम विंडो पर आने वाली शिकायतों के समाधान में लापरवाही बरतने पर विभिन्न पांच मामलों में एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए हैं। राकेश गुप्ता गुरूवार यहां हरियाणा निवास पर सीएम विंडो और सोशल मीडिया पर आने वाली शिकायतों की समीक्षा बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। इस मौके पर मुख्यमंत्री के ओएसडी भूपेश्वर दयाल भी उपस्थित रहे। 

बहादुरगढ़ में बैंक खाते से 88 लाख रुपये निकाले जाने के मामले में स्थानीय निकाय विभाग के एक अधिकारी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए गए।

हरियाणा एग्रो इंडस्ट्रीज कॉर्पोरेशन (HAIC) के एक मामले मे जूट की 50000 बोरी गायब होने पर चार लोगों के खिलाफ केस दर्ज कराने का निर्देश दिए गए। साथ ही 2012 के इस मामले में अब तक ठोस कार्रवाई नहीं होने पर मामले को लम्बित करने के लिए जिम्मेदार अफसरों की जवाबदेही भी तय करने के लिए विभाग को कहा गया। 

फतेहाबाद के हरको बैंक में हुए 74 करोड़ के लोन गलत तरीके से दिए जाने के मामले में अनियमितता बरतने पर एफआईआर दर्ज कराने और गम्भीरता से मामला जल्द निपटाने के निर्देश दिए गए। 

कृषि विभाग के सिरसा के एक मामले में कृषि उपकरण खरीदने और बेचने में धांधली करने के मामले में एफआईआर दर्ज करने के निर्देश देते हुए सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों को अगली मीटिंग में मामले की डिटेल प्रस्तुत करने के लिए भी कहा गया।  गबन के एक मामले में फाइल समेत भूमिगत होने वाले ईटीओ वीके शास्त्री के खिलाफ केस दर्ज कराने और इस मामले में सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों को जरूरी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए। 

सीएम विंडो की शिकायतों के प्रति अति लापरवाही बरतने पर सेक्रेटरी (एचएसवीपी) समेत चार अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। 

चौटाला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की तत्कालीन एसएमओ कुलविंदर कौर के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए। डबवाली की एकनिजी कम्पनी के साथ मिलीभगत करके गलत बिल जमा कराने का इन पर आरोप है। 

वन विभाग की कालका और यमुनानगर में जमीन पर कब्जा करने के मामलों में कार्रवाई करने में ढिलाई बरतने के लिए अधिकारियों की जवाबदेही तय करने और कब्जा हटवाने के निर्देश दिए गए। राजस्व विभाग की फरीदाबाद में जमीन पर कब्जे के मामले में ढिलाई बरतने वाले अधिकारियों की जवाबदेही तय करने के लिए कहा गया।

प्रदेश में ई-ऑफिस प्रणाली के शुभारम्भ को हुआ एक वर्ष...

 संवाददाता : देहरादून उत्तराखंड 

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा भी ई-ऑफिस प्रणाली से पत्रावलियों का निस्तारण प्रारम्भ कर दिया है। गुरूवार को सचिवालय में मुख्यमंत्री ने 4 पत्रावलियों का निस्तारण ई-ऑफिस के तहत किया गया। इनमें मुख्यमंत्री घोषणा के तहत देहरादून में स्थापित होने वाले शहीद स्मारक, खेरासेंण में सामुदायिक बारात घर की स्थापना, त्यूणी में फायर यूनिट की स्थापना तथा स्वास्थ्य विभाग की चिकित्सकों से सम्बन्धित पत्रावली सम्मिलित रही।

प्रदेश में 21 जनवरी 2020 को ई-ऑफिस प्रणाली का शुभारम्भ हुआ था। इस एक वर्ष की अवधि में 4621 पत्रावलियों का निस्तारण इस प्रक्रिया के तहत किया गया है। अकेले गुरूवार का ही 26 पत्रावलियों का निस्तारण किया गया है। 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि ई-आफिस प्रणाली से कार्य संचालन में  से सचिवालय के कार्यों में उत्तरदायी, प्रभावी और पारदर्शी व्यवस्था सुनिश्चित होगी। इससे फाइल निस्तारण के कार्य में तेजी आयेगी और कार्य प्रबंधन में सुधार आयेगा। इससे उच्च स्तर पर प्रभावी समीक्षा भी की जा सकेगी। उन्होंने कहा कि इससे महत्वपूर्ण विषयों के ऑनलाईन होने से कार्यों में शीघ्रता व पारदर्शिता आयेगी।



 राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को झारखण्ड मैथिली मंच द्वारा मिथिला पंचाग समर्पित किया गया...

 संवाददाता : रांची झारखंड

 राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को आज झारखण्ड मैथिली मंच द्वारा मिथिला पंचाग समर्पित किया गया।




मुख्यमंत्री ने गुरूवार राजगीर स्थित मखदूम साहब की मजार पर चादरपोशी की...

 संवाददाता : पटना बिहार

बिहार एक झलक में, बिहार की प्रमुख खबरें  :

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को राजगीर के शीतल कुंड गुरुद्वारा में मत्था टेका और निर्माणाधीन कार्यों का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि 1506 ई. में गुरुनानक जी महाराज शीतल कुंड आये थे। यहां निर्माण का काम चल रहा है।

👉मुख्यमंत्री ने गुरूवार राजगीर स्थित मखदूम साहब की मजार पर चादरपोशी की। साथ ही उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि मखदूम कुंड ऐतिहासिक जगह है। यह मखदूम साहब का स्थान है।
 
👉अगले दो सालों में राज्य की सभी 8,387 पंचायतों में बस पड़ाव का निर्माण किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार के निर्देश पर ग्रामीणों को परिवहन की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए यह फैसला लिया गया है। परिवहन विभाग ने चरणवार तरीके से बस पड़ाव बनाने के लिए 10 करोड़ रुपये जारी कर दिये हैं। पहले चरण में राज्य की 500 पंचायतों में बस स्टॉप के निर्माण की योजना को मंजूरी दी गयी है, जिनमें से 418 पर काम अंतिम चरण में है।
 
👉मुख्यमंत्री के निर्देश पर लोगों की सहूलियत को देखते हुए दीघा आर.ब्लॉक सिक्स लेन अटल पथ पर चार जगह फुट ओवरब्रिज बनाये जाएंगे। इसके मद्देनजर बिहार राज्य सड़क विकास निगम की ओर से कवायद शुरू कर दी गई है। गौरतलब हो कि बीते 15 जनवरी को मुख्यमंत्री ने अटल पथ का लोकार्पण किया था। उन्होंने महेश नगर में बन रहे फुटओवर ब्रिज के निरीक्षण के दौरान कहा था कि तीन अन्य जगहों पर भी फुट ओवरब्रिज का निर्माण कराया जाएगा।
 
👉कृषि के क्षेत्र में नौकरी तलाश कर रहे युवाओं के लिए अच्छी खबर है। पौधा संरक्षण संभाग में 1175 पदों पर नियुक्ति होने वाली है। मुख्यमंत्री की पहल पर कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने विभाग की समीक्षा बैठक में खाली पदों को शीघ्र भरने के निर्देश दिये हैं।
 
👉पटना के जिलाधिकारी डॉ. चंद्रशेखर सिंह ने 26 जनवरी को गांधी मैदान में आयोजित होने वाले गणतंत्र दिवस समारोह की तैयारी हेतु कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण किया। साथ ही उन्होंने अधिकारियों के साथ बैठक कर कार्य में प्रगति लाने का निर्देश दिया।
 
👉सहरसा के जिलाधिकारी कौशल कुमार ने समाहरणालय परिसर में नव निर्मित VVPAT वेयरहाउस का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने संबंधित पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। 25 जनवरी, 2021 को राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर इसका उद्घाटन प्रस्तावित है।
 
👉गया के जिला पदाधिकारी अभिषेक सिंह ने मिशन परिवार विकास अभियान के तहत परिवार नियोजन के प्रति जन जागरूकता के उद्देश्य से 10 जागरूकता रथों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। जागरूकता रथ परिवार नियोजन के संदेश को लेकर लोगों के बीच जायेंगे। यह अभियान जनवरी से मार्च, 2021 तक चलाया जाएगा।
 
👉वैशाली की जिला पदाधिकारी उदिता सिंह की अध्यक्षता में जिले में कार्यान्वित बाल विकास परियोजना एवं बाल संरक्षण इकाई की मासिक समीक्षा बैठक की गई। इस दौरान उन्होंने कई आवश्यक दिशा-निर्दश दिये।
 
👉खगड़िया के जिलाधिकारी ने जिला कोषागार का वार्षिक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कोषागार के स्ट्रॉन्ग रूम, संधारित संचिकाओं व पंजियों का भी निरीक्षण किया तथा आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।
 
👉मुजफ्फरपुर के जिलाधिकारी प्रणव कुमार की अध्यक्षता में शहर में जाम की स्थिति से निपटने, अतिक्रमण को लेकर चलाये जा रहे प्रभावी ड्राइव को कंटिन्यू करने तथा सुगम यातायात परिचालन के मद्देनजर महत्वपूर्ण बैठक की गई। इस दौरान उन्होंने कई आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।
 
👉मधुबनी के जिला पदाधिकारी श्री अमित कुमार ने मिशन परिवार विकास अभियान, लघु सिंचाई के अन्तर्गत सरिसव वियर योजना एवं कई प्रकार के मुद्दों को लेकर बैठक की। इस दौरान उन्होंने कई आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।
 
👉बेगूसराय के जिला पदाधिकारी श्री अरविंद कुमार वर्मा ने अभियोजन कार्यों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने संबंधित पदाधिकारियों को कई आवश्यक निर्देश दिये।
 
👉रोजगार सृजन को लेकर सीतामढ़ी जिला प्रशासन तत्पर है। जिलाधिकारी ने मनरेगा एवं जल-जीवन-हरियाली आदि योजनाओं की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने निर्देश देते हुए कहा कि मनरेगा के तहत अधिक से अधिक मानव दिवसों का सृजन करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को रोजगार दिया जा सके।

गुरुवार, 21 जनवरी 2021

22 जनवरी 2021 को अगले चरण की विज्ञान भवन, नई दिल्‍ली में बातचीत होगी...

 संवाददाता : नई दिल्ली

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल और वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री सोम प्रकाश ने 20 जनवरी, 2021 को विज्ञान भवननई दिल्ली में आयोजित 10वीं बैठक में किसान संगठनों के प्रतिनिधियों से अगले दौर की वार्ता कीI मंत्री ने दसवें गुरु गोविन्द सिंह जी के 354वें प्रकाश पर्व पर सभी को बधाई दी।

उन्होंने किसान संगठनों को आंदोलन के दौरान अनुशासन बनाए रखने के लिए धन्यवाद दिया और आंदोलन समाप्त करने के लिए पुन: आग्रह किया। सरकार द्वारा कहा गया कि अब तक कृषि सुधार से संबंधित तीनों कानूनों तथा एमएसपी के सारे आयामों पर बिन्दुवार सकारात्मक चर्चा नहीं हुई है। सरकार ने यह भी कहा कि हमें किसान आंदोलन को संवेदनशीलता से देखना चाहिए तथा किसानों व देशहित में समग्रता की दृष्टि से उसे समाप्त करने के लिए ठोस प्रयास करना चाहिए।

मंत्री जी ने कहा कि यदि संगठनों को इन कानूनों पर एतराज है या आप कुछ सुझाव देना चाहते हैं तो हम उन बिंदुओं पर आपसे चर्चा करने के लिए सदैव तैयार हैं। कृषि मंत्री ने पुन: आग्रह करते हुए कहा कि कानूनों को रिपील करने के अलावा इन प्रावधानों पर बिन्दुवार चर्चा करके समाधान किया जा सकता है। पिछली बैठकों में अन्य विकल्पों पर चर्चा न होने की वजह से कोई सार्थक परिणाम नहीं निकल पाया था, अत: हम आज की चर्चा को सार्थक बनाने का आग्रह करते हैं। प्रारम्भ से ही सरकार विकल्पों के माध्यम से किसान प्रतिनिधियों के साथ चर्चा करने के लिए खुले मन से प्रयास कर रही है। सरकार कृषि क्षेत्र को उन्नत और किसानों को समृद्ध बनाने के लिए पूर्ण रूप से प्रतिबद्ध है।

किसानों की जमीन हड़पी जाने संबंधी भ्रांति दूर करते हुए तोमर ने साफ-तौर पर कहा कि इन कानूनों के रहते कोई भी व्यक्ति देश में किसानों की जमीन हड़पने की ताकत नहीं रखता। हम खेती को आगे बढ़ाने और किसानों को समृद्ध बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। ये कानून किसानों के जीवन में क्रान्तिकारी बदलाव लाएंगे जिससे किसानों की दशा-दिशा बदलेगी और उनके जीवन स्तर में सुधार होगा।

परम श्रद्धेय सर्वंशदानी श्री गुरु गोविन्द सिंह जी के प्रकाश पर्व के पावन अवसर पर, कड़कड़ाती सर्दी में चल रहे किसान आन्दोलन की समाप्ति को दृष्टिगत रखते हुए, सरकार की तरफ से यह प्रस्ताव दिया गया कि कृषि सुधार कानूनों के क्रियान्वयन को एक से डेढ़ वर्ष तक स्थगित किया जा सकता है। इस दौरान किसान संगठन और सरकार के प्रतिनिधि किसान आन्दोलन के मुद्दों पर विस्तार से विचार-विमर्श करके उचित समाधान पर पहुंच जा सकते हैं। 

इस पर किसान यूनियनों के प्रतिनिधियों ने कहा कि वह सरकार के प्रस्ताव पर 21.01.2021 को विस्तारपूर्वक चर्चा करेंगे और दिनांक 22.01.2021 को दोपहर 12 बजे विज्ञान भवन में संपन्न होने वाली बैठक में सरकार को अवगत करायेंगे। वार्ता सौहार्द्रपूर्ण वातावरण में सम्पन्न हुई।

युवा कौशल विकास के जरिये हुनरमंद होकर रोजगार सृजित करें...

 संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश 

आयुष (स्वतंत्र प्रभार) राज्यमंत्री रामकिशोर कावरे बुधवार बालाघाट में तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार विभाग द्वारा आयोजित आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के अन्तर्गत जिला स्तरीय रोजगार मेले में शामिल हुए।उन्होंने मेला कार्यक्रम में चयनित युवाओं को उनके नियुक्ति पत्र प्रदान किये।

मंत्री कावरे ने कहा कि राज्य सरकार युवाओं को रोजगार की उपलब्धता के लिये बड़े पैमाने पर प्रयासरत है। इसके साथ ही स्वरोजगार की दिशा में भी सहूलियते दी जा रही है। उन्होंने कहा कि युवा कौशल विकास के जरिये हुनरमंद होकर रोजगार सृजित करे। मंत्री कावरे ने राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे कार्यों, योजनाओं आदि के बारे में विस्तार से जानकारी दी।



3 करोड 17 लाख 72 हजार रूपये की राशि से होगा भवन का निर्माण : जसकौर मीना

 संवाददाता  : दौसा राजस्थान

प्रदेश के उद्योग एवं राजकीय उपक्रम मंत्री परसादी लाल मीना व दौसा लोकसभा सांसद जसकौर मीना ने बुधवार को लालसोट  विधानसभा क्षेत्र में नवगठित तहसील राहुवास के भवन के लिये भूमि पूजन कर शिलान्यास किया। इस भवन के निर्माण पर 3 करोड 17 लाख 72 हजार रूपाये की राशि खर्च होगी तथा यह भवन लगभग 6-7 माह में बनकर तैयार हो जायेगा।
 
शिलान्यास कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रदेश के उद्योग एवं राजकीय उपक्रम मंत्री परसादी लाल मीना ने कहा कि राहुवास के तहसील बनने से इस क्षेत्र की 14 ग्राम पंचायत के लोगों को लाभ मिलेगा। इस क्षेत्र के राजस्व संबंधित एवं अन्य छोटे-छोटे कायोर्ं के लिये रामगढ पचवारा जाना पडता था। इसके लिये लोगों की कोई मांग नही थी, लेकिन इनके दुख को मै समझता था। सरकार बनते ही मैने मुख्यमंत्री से मिलकर क्षेत्र की यह पहली मांग रखी जिसमें एक पटवार मंडल को सीधे ही तहसील का दर्जा दिलवाने का कार्य किया। इस क्षेत्र में राहुवास के अलावा नयावास, कल्लावास, जीतपुर,गोपालपुरा, कालुवास, ढोलावास, डूंगरपुर, सलेमपुरा, रालावास, डोब, कोलीवाडा,पालून्दा व ग्राम पंचायत भावंता के किसानों को लाभ मिल सकेगा।

उन्हाेंने कहा कि लालसोट विधान सभा क्षेत्र के सर्वागींण विकास के लिये हरसंभव प्रयास किये जा रहे है। क्षेत्र के लोगों को समय पर सुविधाएं उपलब्ध करवाने एवं समस्याओं के समाधान के लिये कार्य किये जा रहे है। आमजन को चिकित्सा, पेयजल, खाद्य सामग्री,विद्युत एवं अन्य आवश्यक सुविधाएं समय पर उपलब्ध करवाने के साथ क्षेत्र के विकास को और गति देने के प्रयास किये जा रहे है। लालसोट के विकास के लिये रामगढ पचवारा को पंचायत समिति बनाने के साथ ग्रामीण क्षेत्रों के सर्वागींण विकास के लिये ग्राम पंचायतों का गठन करवाने का कार्य किया गया है ताकि ग्रामीण क्षेत्रों के विकास को ओर गति मिल सके। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के विकास को गति देने के लिये ग्राम पंचायत के सरपंच कार्य योजना बनाकर बिना भेदभाव के कार्य करवाएं तथा आमजन को सरकारी योजनाओं का लाभ दिलवाने के लिये आगे आकर कार्य करे। 
 
उद्योग मंत्री ने कहा कि गांव गरीब के विकास के लिये सरकार द्वारा अनेक जनकल्याणकारी योजनाएं संचालित की है। सभी पात्र व्यक्ति सरकारी योजनाआें की जानकारी रखें तथा आवेदन कर समय पर लाभ उठावे।उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में गरीबों को रोजगार उपलब्ध करवाने के लिये मनरेगा योजना के तहत अधिक से अधिक कार्य स्वीकृत करावे ताकि गरीबों को घर बैठे रोजगार मिल सके। 
 
उद्योग मंत्री ने कहा कि पचवारा को 25 रखा जायेगा। ग्राम पंचायत बनाते समय 24 का गठन हुआ, तब जाकर रालावास को नई ग्राम पंचायत बनाने का निर्णय लेकर पचवारा को 25 का दर्जा दिया गया। उन्होने सभी सरपंचों से कहा कि क्षेत्र के विकास के लिये कार्य योजना बनाकर कार्य करे विकास में धन की कमी को आडे नही आने दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि सभी जनप्रतिनिधिगण एक कडी के रूप में कार्य करे।
 
पटवारी रहेंगे मुख्यालय पर 
 
उद्योग एवं राजकीय उपक्रम मंत्री परसादी लाल मीना ने कहा कि कि आमजन की समस्याओं का समय पर निराकरण करने व राजस्व संबंधित कार्यो के निस्तारण के लिये सभी पटवारी कार्यालय समय पर अपने अपने मुख्यालय पर बैठेगें। ग्राम पंचायत के सरपंच द्वारा पटवारी के मुख्यालय पर रहने का प्रमाण पत्र जारी किया जायेगा। उन्होंने उपखण्ड अधिकारी को निर्देश दिये कि सभी पटवारियों को मुख्यालय पर रहने व राजस्व संबंधित बकाया प्रकरणों के शीघ्र निस्तारण के लिये पाबन्द करे।
 
शिलान्यास कार्यक्रम को संबोधित करते हुए लोकसभा सांसद जसकौर मीणा ने कहा कि दौसा जिले के विकास में सभी जनप्रतिनिधि मिलकर विकास के नए आयाम स्थापित करेगें। क्षेत्र के विकास में किसी प्रकार की राजनीति को आड़े नहीं आने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि दौसा जिले में सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है। सभी ग्रामीण भाई चारे के साथ रहते हुए अपने क्षेत्र के विकास में योगदान दें। उन्हाेंने कहा कि 40 वर्ष से कम आयु की अनुसूचित जन जाति की महिलाओं को लाभान्वित करवाने के लिये भेड एवं बकरी पालन विभाग द्वारा दो-दो बकरी निःशुल्क दिये जाने की योजना है। हाल ही में हापावास में आयोजित कार्यक्रम में क्षेत्र की महिलाओं को लाभान्वित करवाया गया है। सभी सरपंच सरकारी योजनाओं की जानकारी रखे ताकि आमजन का भला हो सके।
 
भूमि दान करने वाले भामाशाहो का सम्मान
 
तहसील भवन राहुवास के लिये 2 बीघा 2 बिस्वा भूमि दान करने वाले भामाशाह घासीराम पटेल,पुत्र श्री चन्दा मीना राहुवास का व एक बीघा 6 बिस्वा भूमि दान करने वाले चार भाई गोपाल,प्रभातीलाल,मूलचन्द व हरचन्दा पुत्र श्री पांचूराम मीना राहुवास का माल्यार्पण कर तथा साफा पहना कर उद्योग एवं राजकीय उपक्रम मंत्री परसादी लाल मीना व दौसा सांसद जसकौर मीना ने स्वागत किया तथा बधाई दी।
 
इस अवसर पर सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता हरिकेश मीणा ने तहसील भवन के निर्माण हेतु स्वीकृत राशि व कार्य को पूर्ण करवाने के बारे में जानकारी दी। कार्यक्रम में ग्राम पंचायत के सरपंच मोती लाल मीना, डा. मोहन लाल मीना,श्रीनारायण मीना नयावास ने क्षेत्र की समस्याओं के बारे में जानकारी देते हुये समाधान का आग्रह किया। इस दौरान उपजिला कलक्टर रामगढ पचवारा सरिता मल्होत्रा, तहसीलदार राहुवास ओम प्रकाश लखेरा सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

केन्द्र सरकार से कोविड-19 के टीकाकरण के लिए कोविशिल्ड वैक्सीन की 92500 अतिरिक्त डोज मिल गयी...

 संवाददाता : देहरादून उत्तराखंड 

केन्द्र सरकार से उत्तराखण्ड को कोविड-19 के टीकाकरण के लिए कोविशिल्ड वैक्सीन की 92500 अतिरिक्त डोज मिल गयी है। यह वैक्सीन बुधवार को देहरादून एयरपोर्ट पर पहुंच गई। 16 जनवरी से शुरू हुए राष्ट्रव्यापी टीकाकरण के तहत कोविड-19 की वैक्सीन की 1 लाख 13 हजार डोज उत्तराखण्ड को दी गई थी।

प्रथम चरण में हेल्थवर्करों का सफलतापूर्वक वैक्सीनेशन किया जा रहा है। अब केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा उत्तराखण्ड को 92500 वैक्सीन और दी गई है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन का आभार व्यक्त किया है।




 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल शामिल हुए शहीद शिरोमणि गैंदसिंह के शहादत दिवस कार्यक्रम में...

 संवाददाता : रायपुर छत्‍तीसगढ़

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बुधवार डौण्डी विकासखण्ड के ग्राम ठेमाबुजुर्ग में अखिल भारतीय हल्बा-हल्बी समाज महासभा द्वारा आयोजित शहीद शिरोमणि गैंदसिंह शहादत दिवस कार्यक्रम में शामिल हुए। उन्होंने शहीद गैंदसिंह के छायाचित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए क्षेत्रवासियों की मांग पर ग्राम ठेमाबुजुर्ग में मंगल भवन निर्माण के लिए 20 लाख रूपए की मंजूरी देने के साथ ही ठेमाबुजुर्ग के समीप बहने वाली नदी में पुलिया निर्माण की भी घोषणा की।

उन्होंने कहा कि विकास कार्यों के लिए राशि की कमी नहीं होगी। मुख्यमंत्री ने हल्बा समाज के लोगों की मांग पर शहीद गैंदसिंह की आदमकद प्रतिमा की स्थापना की घोषणा की और कहा कि समाज के लोग जहां स्थान तय करेंगे, वहां शहीद गैंदसिंह की प्रतिमा स्थापित की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने शहीद गैंदसिंह को याद करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ के इस महान सपूत ने आज ही के दिन सन् 1825 में अंग्रेजों से लड़ते हुए शहीद हुए थे। अंग्रेजो की गुलामी न स्वीकार करते हुए अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई का शंखनाद किया। अंग्रेजों के खिलाफ इस लड़ाई में परलकोट और अबूझमाड़ के आदिवासियों ने शहादत दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि 1857 के गदर को हम याद करते हैं, उससे पहले 1825 में अबूझमाड़ में, परलकोट में आजादी की पहली लौ जली थी, जिसमें शहीद गैंदसिंह ने अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी संस्कृति, बोली-भाषा, रहन-सहन, खान-पान, सभ्यता को सहेजने का कार्य किया जा रहा है। हरेली, तीजा, कर्मा जयंती, विश्व आदिवासी दिवस की छुट्टी घोषित किया, ताकि हमारी पहचान बरकरार रहे। उन्होंने कहा कि प्रदेश की संस्कृति को विश्व स्तर पर पहचान दिलाने का प्रयास किया जा रहा है। बस्तर में घोटुल को संरक्षित एवं संवर्धित करने का काम हम कर रहे हैं ताकि हमारी प्राचीन परंपरा एवं संस्कृति बरकरार रहे। 

उन्होंने कहा कि राज्य में 37 प्रतिशत बच्चे कुपोषण और 41 प्रतिशत महिलाएं खून की कमी से पीड़ित हैं। इनको सुपोषित और स्वस्थ्य बनाना जरूरी है। इसके लिए मुख्यमंत्री सुपोषण योजना शुरू की गई है। छत्तीसगढ़ की मजबूती के लिए जरूरी है कि बच्चे स्वस्थ और शिक्षित हों। गरीब घरों के बच्चे भी अच्छी शिक्षा प्राप्त कर सके, इसके लिए राज्य में 52 अंग्रेजी मीडियम स्कूल शुरू किए गए हैं। तकनीकी शिक्षा के लिए भी स्कूली बच्चों एवं युवाओं को हम बेहतर अवसर उपलब्ध करा रहे हैं।

मुख्यमंत्री बघेल ने इस अवसर पर समाज के प्रतिभावान लोगों का सम्मान किया। इससे पहले प्रदेश के खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण, योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी एवं संस्कृति मंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री अमरजीत भगत और महिला एवं बाल विकास तथा समाज कल्याण मंत्री अनिला भेंडिया ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। कार्यक्रम की समाप्ति पर समाज द्वारा मुख्यमंत्री बघेल को स्मृति चिन्ह भेंट किया गया।

इस अवसर पर गुण्डरदेही विधायक व संसदीय सचिव कुंवर सिंह निषाद, संजारी-बालोद विधायक संगीता सिन्हा, कांकेर विधायक व संसदीय सचिव शिशुपाल सोरी सहित अनेक जनप्रतिनिधि, कलेक्टर जनमेजय महोबे, पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र सिंह मीणा और बड़ी संख्या में समाज के लोग मौजूद थे।