शुक्रवार, 31 जनवरी 2020

संसद सदस्‍यों से आर्थिक विकास और जनता के सशक्तिकरण पर फोकस करने का आग्रह...

संवाददाता : नई दिल्ली 


      प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने संसद सदस्‍यों से कहा है कि वे नए दशक में देश के उज्‍जलव भविष्‍य के लिए मजबूत आधारशिला रखने की दिशा में काम करें।










Narendra Modi
 

@narendramodi











Narendra Modi @narendramodi





Speaking at the start of the Budget Session of Parliament.


pscp.tv











 


संसद का ब‍जट अधिवेशन शुरू होने से पहले मीडिया के समक्ष पारंपरिक टिप्‍पणी करते हुए प्रधानमंत्री ने देश में आर्थिक विषयों पर व्‍यापक चर्चा करने और वर्तमान वैश्विक आर्थिक परिदृश्‍य में भारत को अधिक से अधिक लाभ दिलाने का आह्वान किया।




प्रधानमंत्री ने कहा ‘इस सत्र में हमें अधिक से अधिक आर्थिक विषयों पर फोकस करना चाहिए और यह देखने का प्रयास करना चाहिए कि किस तरह भारत वर्तमान वैश्विक आर्थिक परिदृश्‍य का लाभ उठा सकता है और कैसे देश की अर्थव्‍यवस्‍था को आगे ले जाया जा सकता है।’


उन्‍होंने कहा ‘हमारी सरकार सभी वंचित वर्गों और महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए प्रयास करने वाली सरकार के रूप में जानी जाती है। हम इस दशक में भी इस दिशा में काम करते रहेंगे। मैं चाहूंगा कि संसद के दोनों सदनों में देश के आर्थिक विषयों और जनता के सशक्तिकरण पर व्‍यापक चर्चा हो। मुझे विश्‍वास है कि विचार-विमर्श से हम सभी लोग लाभांवित होंगे।’


लेबल:

मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में खाद्य मंत्री से सम्बद्ध विभागों के बजट प्रस्तावों पर विस्तृत विचार-विमर्श...

संवाददाता : रायपुर छत्‍तीसगढ़


       मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में यहां उनके निवास कार्यालय में आयोजित बैठक में खाद्य मंत्री अमरजीत भगत से सम्बद्ध विभागों के वित्तीय वर्ष 2020-21 के बजट प्रस्तावों पर विस्तृत विचार-विमर्श किया गया। बैठक में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण, योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी तथा संस्कृति विभाग के वित्तीय वर्ष 2020-21 के बजट प्रस्तावों पर चर्चा की गई।



बैठक में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री अमरजीत भगत सहित अपर मुख्य सचिव वित्त अमिताभ जैन, खाद्य विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह, वित्त विभाग की सचिव शहला निगार, वाणिज्य कर (आबकारी) विभाग के सचिव निरंजन दास, योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग के सचिव आशीष कुमार भट्ट, राज्य योजना आयोग के सदस्य सचिव के.सी. देवसेनापति सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।


लेबल:

राष्ट्रपति कल 34वें सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेले का उद्घाटन करेंगे...

संवाददाता : नई दिल्ली 


      राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद 1 फरवरी, 2020 हरियाणा के सूरजकुंड में 34वें सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेले का उद्घाटन करेंगे।



लेबल:

मुख्यमंत्री कमल नाथ ने माँ नर्मदा की उदगम स्थल पर की पूजा-अर्चना...

संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश


      मुख्यमंत्री कमल नाथ ने पवित्र नगरी अमरकंटक में माँ नर्मदा की उदगम स्थल पर पूजा-अर्चना कर प्रदेश एवं प्रदेशवासियों की सुख-समृद्धि की कामना की। पूजा-अर्चना के बाद मुख्यमंत्री ने अमरकंटक में तीन दिवसीय माँ नर्मदा महोत्सव-2020 का शुभारंभ किया। इस अवसर पर माँ नर्मदा मंदिर, उदगम स्थल एवं परिसर को पारम्परिक तरीके सजाया-संवारा गया था।



माँ नर्मदा महोत्सव-2020 के अंतर्गत नर्मदा मंदिर से शोभा-यात्रा निकाली गई। शोभा-यात्रा में माँ नर्मदा को रथ में विराजमान किया गया था। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ शोभा-यात्रा में शामिल हुए।


इस अवसर पर मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष एन.पी. प्रजापति, पूर्व मुख्यमंत्री श्री दिग्विजय सिंह एवं उनकी धर्मपत्नी अमृता सिंह, जिले के प्रभारी खनिज साधन मंत्री प्रदीप जायसवाल, जनजातीय कार्य मंत्री ओमकार सिंह मरकाम, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल, विधायक बिसाहू लाल सिंह, फुन्देलाल सिंह मार्को, सुनील सराफ सहित अन्य जन-प्रतिनिधि शोभा-यात्रा में शामिल हुए। शोभाथ्‍यात्रा में बड़ी संख्या में लोककला दल के कलाकार, साधु संत, श्रद्धालु और गणमान्य नागरिक भी शामिल हुए।


लेबल:

कोरोना वायरस के बचाव एवं नियंत्रण के संबंध में समीक्षात्मक बैठक आयोजित...

संवाददाता : जयपुर राजस्थान


      चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार सिंह  की अध्यक्षता में कोरोना वायरस के बचाव, नियंत्रण, उपचार, जांच व प्रचार-प्रसार आदि के संबंध में  की जा रही गतिविधियों पर समीक्षात्मक बैठक शुक्रवार को यहां  आयोजित हुई।

 

बैठक मे बताया गया कि कोरोना वायरस संदिग्ध भर्ती रोगी, चोमू के सामोद निवासी राहुल  की जांच रिपोर्ट पुणे लैब द्वारा नेगेटिव बताई गई है। 

 


 

रोहित कुमार सिंह ने बताया कोरोना वायरस के प्रचार-प्रसार एवं समाचार पत्रों में विज्ञापन की जानकारी के पश्चात् बीकानेर जिले में चीन से आये तीन यात्रियों ने शुक्रवार को स्वंय बीकानेर पीबीएम अस्पताल में सम्पर्क किया। इसी प्रकार विज्ञापन पढ़कर उदयपुर जिले के  सलूम्बर से भी एक रोगी ने अस्पताल मे सम्पर्क किया । उक्त तीनों यात्रियों को आरएनटी मेडिकल कॉलेज के संलग्न अस्पताल में आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कर उनका  सैम्पल उसी दिन नेशनल वायरोलोजी लैब पुणे भेज दिया  गया है। 

 

केरल राज्य में एक पॉजिटीव कोरोना वायरस पाये जाने पर संबंधित रोगी के फ्लाईट में यात्रा दौरान निकट बैठे यात्रियों के संबंध में तहकीकात करने पर  दो यात्री वर्तमान में उदयपुर में पाये गये, जिनमें एक महिला यात्री चीन निवासी एवं द्वितीय यात्री भरतपुर निवासी हैं।  इन दोनो यात्रियों को उदयपुर में ही रूकवा दिया गया है और उदयपुर आरएनटी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कर जांच हेतु सैम्पल लिया गया। 

 

उन्होंने पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखकर समस्त जिला पुलिस अधीक्षकों के माध्यम से 15 जनवरी के पश्चात् होटलों में आने वाल विदेशी पर्यटकों में से चीन से आये पर्यटकों को चिन्हि्त कर संबंधित जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को सूची उपलब्ध कराने के लिये कहा  ताकि संदिग्ध कोरोना वायरस रोगी को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जा सके। 

 

मीटिंग में अतिरिक्त निदेशक, ग्रामीण स्वास्थ्य ने अवगत कराया कि अब तक चिन्हि्त 26 यात्रियों में से 7 भर्ती रोगी एवं शेष 19 यात्री घर पर स्वस्थ्य हैं।

 

बैठक में निदेशालय चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएंंे से निदेशक आसीएच डॉ आर.एस.छीपी, अतिरिक्त निदेशक , ग्रामीण स्वपास्थ्य डॉ रवि प्रकाश शर्मा, स्टेट नोडल ऑफिसर, डॉ प्रवीण असवाल, एसएमएस असपताल से मेडिसीन मेडिकल कॉलेज के नोडल अधिकारी डॉ रामबाबू शर्मा, एसएमएस मेडिकल कॉलेज के माईक्रोबॉयोलोजी विभाग से डॉ. भारती मल्हौत्रा एवं संक्रामक रोग चिकित्सालय प्रभारी डॉ. दिलीप राज उपस्थित रहे। 

लेबल:

राज्यपाल ने सेवानिवृत्त राजभवनकर्मी को दी विदाई...

संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश


      राज्यपाल लालजी टंडन ने राजभवन के सेवानिवृत कर्मचारी बसंत कुमार कनोजिया को विदाई दी। राज्यपाल ने कनौजिया को सुदीर्घ स्वस्थ जीवन की शुभकामनाएँ दी। इस अवसर पर कनौजिया को सचिव मनोहर दुबे ने शॉल-श्रीफल भेंट किया।



लेबल:

झारखंड में एमएसएमई पारितंत्र को सुदृढ़ बनाने हेतु सिडबी द्वारा हुआ लोक संपर्क कार्यक्रम का आयोजन...

संवाददाता : रांची झारखंड


      सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों के संवर्द्धन, वित्तपोषण और विकास में संलग्न शीर्ष संस्था भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (सिडबी) ने विकास आयुक्त, एमएसएमई मंत्रालय, वित्तीय सेवाएँ विभाग, वित्त मंत्रालय और झारखंड सरकार के सहयोग से एमएसएमई उद्यमों के पारितंत्र को सुदृढ़ बनाने के लिए रांची में लोक संपर्क कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रवीण कुमार टोप्पो, आईएएस, सचिव,  उद्योग, ने की. इस अवसर पर श्री कृपा नंद झा, निदेशक, उद्योग,  की सहभागिता रही। 



इस अवसर पर सिडबी के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मोहम्मद मुस्तफा ने कहा कि “यह प्रयास हमारे सिडबी विज़न 2.0 का एक अंग है. इस प्रयास का प्रमुख उद्देश्य एमएसएमई के हितधारकों की अपेक्षाओं का प्राक्कलन करना, राज्य की उत्कृष्ट प्रथाओं को चिह्नित करना और राज्य विशेष की योजनाओं के संबंध में सुझाव देना है। अगले कदम के रूप में, हमने 13 राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों - आंध्र प्रदेश, असम, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, राजस्थान, जम्मू और कश्मीर केन्द्र शासित प्रदेशों, कर्नाटक, लद्दाख केन्द्र शासित प्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में एमएसएमई संरेखित सहभागिता को सुसाध्य बनाने के लिए परियोजना प्रबंधन इकाइयों (पीएमयू) की स्थापना के लिए प्रयास शुरू किए हैं। हम इन कार्यक्रमों के माध्यम से एमएसएमई उद्यमों द्वारा अधिक से अधिक भागीदारी की उम्मीद करते हैं। 


विभिन्न हितधारकों की रही भागीदारी


कार्यक्रम में झारखंड सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों सहित जिला उद्योग केंद्र, भारतीय रिज़र्व बैंक, राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड), बैंकों, एमएसएमई विकास संगठन, उद्योग संघ और एमएसएमई के विभिन्न हितधारकों की भागीदारी रही।


ऋण तक सुगम पहुँच’’ विषय पर आयोजित हुआ सत्र


‘’ऋण तक सुगम पहुँच’’ विषय पर आयोजित सत्र के अंतर्गत पीएसबी लोन इन 59 मिनिट्स पर संवेदीकरण, स्टॉक एक्सचेंजों व ई-कॉमर्स प्लेटफार्मों पर लिस्टिंग, सरकार ई-मार्केटप्लेस (GeM), ब्याज अनुदान, उद्यमीमित्र, मिशन स्वावलंबन, प्रयास योजना और सिडबी के अन्य उत्पाद विषयों को सम्मिलित किया गया। क्रेडिट और गैर-वित्तीय सेवाओं तक पहुंच में आसानी के संदर्भ में राज्य सरकार की अपेक्षाओं को सूचीबद्ध किया गया। इस पहल के लिए महत्वपूर्ण साझेदार, जीईएम, पीएसबी लोन इन 59 मिनिट्स, नेशनल स्टॉक एक्स्चेंज (NSE) और डन एंड ब्रैडशीट (डी एंड बी) हैं।


राजेश काले, महाप्रबंधक, सिडबी, लखनऊ क्षेत्रीय कार्यालय, ने इस मौके पर सभी प्रतिभागियो का आव्हान किया कि वे इस लोक संपर्क कार्यक्रम से लाभान्वित हो और इस कार्यक्रम के लिए अपने सुझाव दें।


लेबल:

पेय पदार्थों के टेट्रा पैक प्लास्टिक स्ट्रा प्रयोग के लिए अस्थाई छूट...

संवाददाता : शिमला हिमाचल


      हिमाचल प्रदेश सरकार के एक प्रवक्ता ने यहां बताया कि पेय पदार्थों के टेट्रा पैक के साथ एकीकृत प्लास्टिक स्ट्रा के प्रयोग के लिए छह माह तक अस्थाई रूप से छूट प्रदान की गई है।


एक्शन एलांयस फाॅर रिसाइकलिंग बिवरेज कार्टन ने हिमाचल प्रदेश सरकार से टेट्रा पैक के साथ एकीकृत प्लास्टिक स्ट्रा के प्रयोग पर छूट प्रदान करने के लिए आग्रह किया था।



मैसर्ज टेट्रा पैक इंडिया प्राईवेट लिमिटेड, एक्शन एलांयस फाॅर रिसाइकलिंग बिवरेज कार्टन को विस्तारक उत्पादक उत्तरदायित्व के तहत प्रस्तुत कार्य योजना का क्रियान्वयन करना होगा। इस छूट अवधि के दौरान उत्पादकों और निर्माताओं को प्लास्टिक स्ट्रा का बायो-डिग्रेडेबल विकल्प लाना होगा। इस संबंध में हाल ही में अधिसूचना जारी की गई है।


उन्होंने कहा कि पर्यावरण, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा 20 सितम्बर, 2019 को जारी अधिसूचना के अन्य प्रावधानों के तहत प्लास्टिक कटलरी जैसे चम्मच, कटोरी, कांटे, चाकू इत्यादि के प्रयोग पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। उन्होंने कहा कि यह अधिसूचना तत्काल प्रभाव से लागू रहेगी। 


लेबल:

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में नई दिल्ली में हुई मंत्रिमण्डल की बैठक...

संवाददाता चंडीगढ़ हरियाणा 


      हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में नई दिल्ली में हुई मंत्रिमण्डल की बैठक में टॢमनल मार्केट गन्नौर (फल, सब्जी, फूल एवं डेरी उत्पाद टर्मिनल), गन्नौर की जमीन पर अवैध रूप से रह रहे लोगों के पुनर्वास के लिए एक नीति बनाने की स्वीकृति प्रदान की गई।



नीति के अनुसार भारत अन्तर्राष्टï्रीय बागवानी मण्डी (आईआईएचएम), गन्नौर के विस्थापितों के पुनर्वास के लिए खरीदी गई भूमि पर आईआईएमएच, गन्नौर की जमीन पर अवैध रुप से रह रहे लोगों को दो-दो मरला के प्लाट दिए जाएंगे और  दो मरले के प्लाट के लिए 1,66,077 रुपये की राशि 100 बराबर मासिक किश्तों में वसूल की जाएगी।


उनसे कोई प्रशासनिक या अन्य मूल्य वसूल नहीं किया जाएगा। इन अवैध वासियों को किए जाने वाले आबंटन के अन्य नियम एवं शर्तों में किस्तों की वहीं अनुसूची शामिल है, जो हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण द्वारा शहरी सम्पदा, करनाल के अनधिकृत या कब्जाधारियों को भूमि आबंटन के लिए निर्धारित की गई हैं।


भारत अन्तर्राष्टï्रीय बागवानी मण्डी, गन्नौर के मुख्य संचालक अधिकारी द्वारा मनोनीत अधिकारी की अध्यक्षता में गठित कमेटी, जिसमें आईआईएचएम के कार्यकारी अभियंता, जिला विपणन प्रवर्तन अधिकारी और विपणन समिति गन्नौर के सचिव-सह-प्रवर्तन अधिकारी शामिल होंगे, आवेदन आमंत्रित करके इस नीति के तहत पुनर्वास के लिए आवेदकों की  पात्रता का निर्धारण करेगी।


लेबल:

मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में वन मंत्री से सम्बद्ध विभागों के बजट प्रस्तावों पर विस्तृत वचार-विमर्श...

संवाददाता : रायपुर छत्‍तीसगढ़


       मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में यहां उनके निवास कार्यालय में आयोजित बैठक में वन मंत्री मोहम्मद अकबर से सम्बद्ध विभागों के वित्तीय वर्ष 2020-21 के बजट प्रस्तावों पर विस्तृत विचार-विमर्श किया गया। बैठक में वन, आवास एवं पर्यावरण, परिवहन तथा विधि एवं विधायी विभागों के प्रस्तावों पर चर्चा की गई।



वन मंत्री मोहम्मद अकबर की उपस्थिति में आयोजित बैठक में अपर मुख्य सचिव वित्त अमिताभ जैन, विधि विधायी विभाग के प्रमुख सचिव एन.के. चंद्रवंशी, सचिव परिवहन डॉ. कमलप्रीत सिंह, वन विभाग के सचिव जय सिंह महस्के, आवास एवं पर्यावरण विभाग की सचिव संगीता पी., प्रधान मुख्य वन संरक्षक राकेश चतुर्वेदी, सचिव वाणिज्यिक कर (आबकारी एवं पंजीयन को छोड़कर) रीना बाबा साहेब कंगाले, मुख्य कार्यपालन अधिकारी नवा रायपुर विकास प्राधिकरण एन.एन. एक्का, आयुक्त छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल भीम सिंह सहित सम्बंधित अधिकारी उपस्थित थे।


लेबल:

दी बिजनेस आॅफ दी गवर्नमेंट आॅफ हिमाचल प्रदेश के संशोधन के लिए नियम...

संवाददाता : शिमला हिमाचल


      दी बिजनेस आॅफ दी गवर्नमेंट आॅफ हिमाचल प्रदेश (एलोकेशन), रूल्ज, 1971 से संलग्न शडयूल की क्रम संख्या 18 में ‘इरिगेशन एंड पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट’ शब्द जहां-जहां आते हैं, वहां उनके स्थान पर ‘जल शक्ति विभाग’ रखा जाएगा।



इस संबंध में हाल ही में अधिसूचना जारी कर दी गई है।


दी बिजनेस आॅफ दी गवर्नमेंट आॅफ हिमाचल प्रदेश (एलोकेशन) रूल्ज, 1971 का और संशोधन करने के लिए नियम बनाए गए हैं। इन नियमों का संक्षिप्त नाम ‘दी बिजनेस आॅफ दी गवर्नमेंट आॅफ हिमाचल प्रदेश (एलोकेशन) 159वां संशोधन नियम, 2020 है। ये नियम राजपत्र (ई-गजट) हिमाचल प्रदेश में प्रकाशन की तारीख से प्रवृत्त होंगे।


लेबल:

आयुष्मान भारत के अंतर्गत जनवरी, 2020 तक 28,005 स्वास्थ्य और वेलनेस केन्द्रों की स्थापना की गई...

संवाददाता : नई दिल्ली 


      भारत की आबादी की एक बड़ा हिस्सा नौजवानों का है इसलिए शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा, जलापूर्ति और स्वच्छता जैसे सामाजिक क्षेत्रों में भारत को जनसांख्यिकीय लाभ प्राप्त है। इसका लोगों के जीवन के गुणवत्ता के साथ-साथ अर्थव्यवस्था की उत्पादकता पर गहरा प्रभाव पड़ता है। इस दिशा में हुआ विकास केन्द्रीय वित्त एवं कम्पनी कार्य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण द्वारा आज संसद में पेश की गई आर्थिक समीक्षा 2019-20 का प्रमुख भाग हैं। यह समीक्षा 2014-15 से 2019-20 के अवधि के दौरान सकल घरेलू उत्पाद के अनुपात के रूप में सामाजिक सेवाओं पर कुल खर्च में 1.5 प्रतिशत की वृद्धि को रेखांकित करती है।



शिक्षाः


आर्थिक समीक्षा में सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी)-4 के तहत वर्ष 2030 तक सभी लोगों को समावेशी एवं समान गुणवत्तपूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने के सरकार के हस्ताक्षेपों का उल्लेख किया गया है। इस उद्देश्य के साथ विद्यालय शिक्षा प्री-स्कूल से उच्च माध्यमिक (सीनियर सेकेंडरी) स्तर तक परिकल्पित करने के लिए समग्र शिक्षा 2018-19 का आरंभ किया गया है। सरकार की ओर से की गई अन्य पहलों में नवोदय् विद्यालय योजना, प्रधानमंत्री अभिनव शिक्षण कार्यक्रम (ध्रुव), ज्ञान साझा करने के लिए डिजिटल अवसंरचना (दीक्षा) मंच और ई-पाठशाला जैसी ई-कंटेंट साइट्स शामिल हैं।


आर्थिक समीक्षा में कहा गया है कि शिक्षा के लिए एकीकृत जिला सूचना प्रणाली (यू-डीआईएसई) के अनुसार 2017-18 (अनन्तिम) 98.38 प्रतिशत सरकारी प्राथमिक विद्यालयों में लड़कियों के लिए शौचालयों की व्यवस्था है, जबकि 96.23 प्रतिशत सरकारी प्राथमिक विद्यालयों में लड़कों के लिए शौचालयों की व्यवस्था है। 97.13 प्रतिशत सरकारी प्रारंभिक विद्यालयों में पेय जल की सुविधा है। ये आंकड़े शिक्षा का अधिकार, 2009 को बरकरार रखने के प्रति सरकार की संकल्पबद्धता पर प्रकाश डालते है।


सरकार ने गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, नवाचार और अनुसंधान पर ध्यान केन्द्रित करने सहित नई शिक्षा नीति का निरुपण करने की प्रक्रिया आरंभ की है। आर्थिक समीक्षा में स्कूलों के विभिन्न स्तरों पर पढ़ाई अधूरी छोड़ने वाले बच्चों की अधिक संख्या और उच्च शिक्षा में व्यवहार्यता की कमी की चिंता के क्षेत्रों के रूप में पहचान की गई है।


स्वास्थ्यः


स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच में सुधार लाने और बड़े पैमाने पर स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने की दिशा में दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य सेवा योजना आयुष्मान भारत के तहत 14 जनवरी, 2020 तक 28,005 स्वास्थ्य एवं वेलनेस केन्द्र खोले गए है। समीक्षा में कहा गया है, ‘निवारक स्वास्थ्य सेवाओं को बढ़ावा देने के लिए 2022 तक डेढ़ लाख आयुष्मान भारत- स्वास्थ्य एवं वेलनेस केन्द्र खोले जाने का प्रस्ताव है।’ मिशन इंद्रधनुष के तहत अब तक देशभर में 680 जिलों के 3.39 करोड़ बच्चों और 87.18 लाख गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण किया गया है। इनके अलावा स्वास्थ्य के सामाजिक निर्धारकों के तहत सरकार ने ‘ईट राइट एंड ईट सेफ’, फिट इंडिया, अनीमिया मुक्त भारत, पोषण अभियान और स्वच्छ भारत अभियान जैसी मिशन मोड पहले की हैं। इसके अलावा ई-सिगरेट से संबंधित समस्त वाणिज्यिक कार्रवाईयों पर हाल ही में प्रतिबंध लगा दिया गया है।


आर्थिक समीक्षा में कहा गया है कि नवीनतम राष्ट्रीय स्वास्थ्य लेखा 2016-17 के अनुसार, कुल स्वास्थ्य खर्च के प्रतिशत के रूप में स्वास्थ्य पर अपनी जेब से किए जाने वाले खर्च (ओओपीई) में गिरावट आई है। वर्ष 2013-14 में यह 64.2 प्रतिशत था, जो 2016-17 में 58.7 प्रतिशत रहा। विभिन्न योजनाओं ने स्वास्थ्य सेवाओं तक व्यापक पहुंच को संभव बनाया है। आर्थिक समीक्षा के अनुसार इनमें फ्री-ड्रग्स सर्विस इनिशिएटिव, निःशुल्क निदान सेवा पहल, प्रधानमंत्री जन औषधि परियोजना (पीएमवीजेपी) और प्रधानमंत्री नेशनल डायलिसिज प्रोग्राम (पीएमएनडीपी) शामिल हैं।


आर्थिक समीक्षा में कहा गया है कि चिकित्सा के बुनियादी ढांचे में सुधार लाने के लिए सरकार ने पिछले पांच वर्षों में 141 मेडिकल कॉलेजों को मंजूरी दी है। सरकार ने 2.51 लाख अतिरिक्त स्वास्थ्य संबंधी मानव संसाधनों को शामिल करने के लिए राज्यों को सहायता प्रदान की है। 


लेबल:

भुवनेश्‍वर-वाराणसी सीधी दैनिक विमान सेवा प्रारंभ...

संवाददाता : नई दिल्ली 


      भारत में क्षेत्रीय विमान सेवा क्‍नेक्टिविटी में एक छलांग और लगाते हुए आज एयरइंडिया की पूर्ण स्‍वामित्‍व वाली विमान सेवा कम्‍पनी एलायंस एयर ने भारत सरकार की आरसीए-उड़ान (क्षेत्रीय क्‍नेक्टिविटी योजना-उड़े देश का आम नागरिक) योजना के अन्‍तर्गत भुवनेश्‍वर से वाराणसी के लिए सीधी दैनिक विमान सेवा प्रारंभ की। उड़ान योजना के अन्‍तर्गत पहली उड़ान को माननीय प्रधानमंत्री ने 27 अप्रैल, 2017 को झंडी दिखाई थी। भुवनेश्‍वर-वाराणसी मार्ग पर विमान सेवा को प्रांरभ करना नागर विमानन मंत्रालय की शानदार उपलब्धि है और आरसीएस-उड़ान योजना के तहत यह 250वें मार्ग के परिचालन का प्रारंभ है।



























उड़ान



प्रस्‍तान



समय



आगतन



समय



9I 747



भुवनेश्‍वर



1215



वाराणसी



1405



9I 748



वाराणसी



1430



भुवनेश्‍वर



1620



हाल में 27 जनवरी 2020 को एलायंस एयर ने आरसीएस-उड़ान के अन्‍तर्गत कोलकाता-झरसूगुड़ा के लिए सीधी दैनिक विमान सेवा की शुरूआत की थी। उड़ान-3 बोली प्रक्रिया में भुवनेश्‍वर-वाराणसी मार्ग एलायंस एयर को दिया गया। एलायंस एयर विमान सेवा द्वारा आरसीएस-उड़ान योजना के तहत 58वें मार्ग पर सेवा दी जा रही है। गंगा नदी के किनारे बड़ी संख्‍या में मंदिरों और पवित्र घाटों के होने के कारण पूरे देश से लोग वाराणसी आते हैं। बौद्ध पर्यटन सर्किट होने के कारण यह मार्ग पर्यटन उद्योग को प्रोत्‍साहित करेगा, क्‍योंकि पर्यटन वाराणसी का दूसरा सबसे महत्‍वपूर्ण उद्योग है। वाराणसी विभिन्‍न कारणों से देशी और विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करता है। धार्मिक और पर्यटन केन्‍द्र होने के अ‍तिरिक्‍त वाराणसी में भारत के प्रसिद्ध विश्‍वविद्यालयों में से एक बनारस हिन्‍दू विश्‍वविद्यालय (बीएचयू) है।


एलायंस एयर भुवनेश्‍वर-वाराणसी मार्ग पर सीधी दैनिक विमान सेवा संचालित करेगी। इसके लिए विमान सेवा कम्‍पनी 70 सीटों वाला एटीआर 70 600 विमान तैनात करेगी। सीधी उड़ान से तीर्थयात्रियों, पर्यटकों, वि़द्यार्थियों, व्‍यावसायियों तथा कारोबारियों को लाभ मिलेगा।  उड़ान की समयसारिणी इस प्रकार है।


लेबल:

संसद के बजट सत्र से पूर्व प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ...

प्रजा दत्त डबराल @ नई दिल्ली


      नमस्कार सभी साथियों को 2020 का ये प्रथम सत्र है, इस दशक का भी यह प्रथम सत्र है। हम सबका प्रयास रहना चाहिए कि इस सत्र में इस दशक के उज्जवल भविष्य के लिए मजबूत नींव डालने वाला ये सत्र बना रहे। आदरणीय राष्ट्रपति जी का उद्धबोधन होगा और कल इस नववर्ष का बजट भी प्रस्तुत किया जाएगा। ये सत्र अधिकतम आर्थिक विषयों पर चर्चा केंद्रित रहे।


वैश्विक आर्थिक स्थितियों के संदर्भ में भारत किस प्रकार से इन परिस्थितियों का फायदा उठा सकता है। अपनी आर्थिक गतिविधि को और मजबूत बनाते हुए वैश्विक परिवेश का अधिकतम लाभ भारत को मिले, हमारी सरकार की पहचान पीड़ित हो, शोषित हो, वंचित हो, महिलाएं हो इनको empower करने की रही है।


इस दशक में भी हमारा उन्ही दिशा में बल रहेगा और मैं चाहता हूं कि दोनों सदन में आर्थिक विषयों पर, empowerment of people के ऊपर बहुत व्यापक चर्चा हो, अधिक अच्छी चर्चा हो, दिनों-दिन हमारी चर्चा का स्तर अधिक समृद्ध होता चले। इस पूरे विश्वास के साथ मै आप सबका भी बहुत-बहुत धन्यवाद करता हूं। नमस्कार ।



लेबल:

नीतीश कुमार ने बोधगया के कालचक्र मैदान में बौद्ध महोत्सव-2020 का उद्घाटन किया...

संवाददाता : बोधगया बिहार 


      नीतीश कुमार ने ‘बुद्धं शरणं गच्छामि, धम्मं शरणं गच्छामि, संघं शरणं गच्छामि' के उच्चारण के साथ बोधगया के कालचक्र मैदान में बौद्ध महोत्सव-2020 का उद्घाटन किया। 



उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि महाबोधि मंदिर के विकास का काम काफी तेजी से हो रहा है. केंद्र सरकार ने अनेक पर्यटक स्थलों के विकास के लिए योजना स्वीकृत की हैं. इसमें बोधगया का भी चयन किया गया है। 


बोधगया के कालचक्र मैदान में बौद्ध महोत्सव-2020 का उद्घाटन कार्यक्रम को सम्बोधित करते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार। 


लेबल:

हरियाणा लोक सेवा आयोग के अधिकार क्षेत्र से बाहर करने के प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान की गई...

संवाददाता चंडीगढ़ हरियाणा 


      हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में नई दिल्ली में हुई मंत्रिमण्डल की बैठक में गु्रप-॥ (आयुर्वेदिक चिकित्सा अधिकारी, यूनानी चिकित्सा अधिकारी, होमियोपैथिक चिकित्सा अधिकारी और आयुर्वेद/यूनानी रैजिडेंट फजीशियन) के पदों को हरियाणा लोक सेवा आयोग के अधिकार क्षेत्र से बाहर करने के प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान की गई।



इस समय गु्रप-॥ के कुल 203 (आयुर्वेदिक चिकित्सा अधिकारी-175, यूनानी चिकित्सा अधिकारी-08, होमियोपैथिक चिकित्सा अधिकारी-18 और आयुर्वेद/यूनानी रैजिडेंट फजीशियन-4) पद रिक्त हैं, जिन्हें लोगों विशेषकर, ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवाए जाने के लिए तुरंत भरे जानेे की आवश्यकता है।


इन पदों को तुरन्त भरे जाने की आवश्यकता के मद्देनजर आयुर्वेदिक चिकित्सा अधिकारी, यूनानी चिकित्सा अधिकारी, होमियोपैथिक चिकित्सा अधिकारी और आयुर्वेद/यूनानी रैजिडेंट फजीशियन(ग्रुप-बी) के पदों को हरियाणा लोक सेवा आयोग के अधिकार क्षेत्र से बाहर  रखना आवश्यक हो गया है ताकि इन पदों को विभाग के माध्यम से भरा जा सके।


लेबल:

सीमा शुल्क निष्पादन, बंदरगाहों पर माल को व्यवस्थित करने एवं माल ढुलाई में लगने वाले समय को कम किया जाना चाहिए...

संवाददाता : नई दिल्ली 


      केन्द्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज संसद में आर्थिक समीक्षा, 2019-20 पेश की। वित्त मंत्री ने कहा कि भारत ने विश्व बैंक के कारोबारी सुगमता श्रेणी में 79 स्थानों की छलांग लगाई है। भारत 2014 के 142 वें स्थान से 2019 में 63 वें स्थान पर पहुंच गया है।


देश ने 10 मानकों में से 7 मानकों में प्रगति दर्ज की है। वस्तु एवं सेवा कर तथा दिवाला एवं दिवालियापन संहिता (आईबीसी) कानून उन सुधारों की सूची में सबसे उपर हैं जिनके कारण श्रेणी में भारत की स्थिति बेहतर हुई है। हालांकि भारत कुछ अन्य मानकों यथा कारोबार शुरू करने में सुगमता (श्रेणी 136), सम्पत्ति का पंजीयन (श्रेणी 154), कर भुगतान (श्रेणी 115), संविदाओं को लागू करना आदि में अभी भी पीछे है।



पिछले 10 वर्षों के दौरान भारत में कारोबार शुरू करने के लिए आवश्यक प्रक्रियाओं की संख्या 13 से घटकर 10 रह गई है। आज भारत में कारोबार शुरू करने के लिए औसतन 18 दिनों का समय लगता है जबकि 2009 में औसतन 30 दिनों का समय लगता था। हालांकि भारत ने कारोबार शुरू करने में लगने वाले समय और लागत में महत्वपूर्ण कमी की है लेकिन इसमें और सुधार की आवश्यकता है।


सेवा क्षेत्र को भी अपने दैनिक कारोबार के लिए विभिन्न नियामक अवरोधों का सामना करना पड़ता है। पूरी दुनिया में रोजगार और विकास के लिए बार एवं रेस्तरां को महत्वपूर्ण स्रोत माना जाता है। यह एक ऐसा व्यापार है जिसमें कारोबार शुरू करने और बंद होने की आवृत्ति बहुत अधिक होती है। एक सर्वेक्षण दिखलाता है कि भारत में एक रेस्तरां खोलने के लिए आवश्यक लाइसेंसों की संख्या अन्य देशों की तुलना में अधिक है।


निर्माण अनुमति


पिछले 5 वर्षों के दौरान भारत ने निर्माण अनुमति प्राप्त करने की प्रक्रिया को सरल बनाया है। 2014 में निर्माण अनुमति प्राप्त करने में लगभग 186 दिनों का समय लगता था और भण्डारण लागत का 28.2 प्रतिशत व्यय होता था। 2014 की तुलना में 2019 में 98-113.5 दिनों का समय लगता है और भण्डारण लागत का 2.8-5.4 प्रतिशत खर्च होता है।


सीमा-पार व्यापार


जबकि सरकार ने प्रक्रियात्मक तथा कागजात संबंधी जरूरतों में पहले ही काफी कटौती की है, डिजिटलीकरण बढ़ाने तथा बहुविध एजेंसियों को एक डिजिटल प्लेटफार्म से जोड़ने से इन प्रक्रियात्मक खामियों में और भी अधिक कमी हो सकती है तथा उपभोक्ताओं के अनुभव में काफी बेहतरी हो सकती है।


भारत में समुद्री जहाजों की आवाजाही में लगने वाले समय में निरंतर कमी हो रही है, जो 2010-11 के 4.67 दिनों से लगभग आधा होकर 2018-19 में 2.48 दिन हो गया है। यह दर्शाता है कि समुद्री पोतों के मामले में महत्वपूर्ण लक्ष्यों तक पहुंचना संभव है। हालांकि, पर्यटन अथवा विनिर्माण जैसे खास क्षेत्रों की कारोबारी सुगमता को सरल बनाने में, और अधिक लक्षित पहुंच की जरूरत है, जिससे प्रत्येक क्षेत्र की नियामक तथा प्रक्रियात्मक बाधाएं दूर हों। एक बार जब प्रक्रिया तय की गई है, सरकार के समुचित स्तर – केंद्र, राज्य अथवा निगम द्वारा इसमें  सुधार किया जा सकता है।


बैंगलुरू हवाई अड्डे से इलेक्ट्रानिक्स सामग्रियों के निर्यात एवं आयात के मामलों के अध्ययन से पता चलता है कि किस प्रकार भारतीय उपस्कर प्रक्रियाओं को विश्व स्तरीय बनाया जा सकता है। वस्तु निर्यात संबंधी मामलों के अध्ययन से पता चला है कि भारतीय समुद्री पोतों में उपस्करों की काफी कमी है। निर्यात की तुलना में आयात की प्रक्रिया अधिक कारगर है। हालांकि, खास मामले से जुड़े अध्ययनों को सामान्य रूप में लेने के प्रति सावधानी बरतने की जरूरत है, यह स्पष्ट है कि समुद्री पोतों में सीमा शुल्क निपटारे, एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने तथा लदान में कई दिनों का समय लगता है, जिसे कुछ घंटों में पूरा किया जा सकता है।


लेबल:

दिल जोड़ने की संस्कृति को बनाएंगे समृद्ध :मुख्यमंत्री कमल नाथ

संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश


      मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा है कि दिल जोड़ने की संस्कृति को समृद्ध बनाने के साथ ही नई सोच और व्यवस्था में परिवर्तन करके हम मध्यप्रदेश को एक नई पहचान देंगे। आने वाले समय में हमारे प्रदेश की तुलना पिछड़े नहीं, देश के अग्रणी राज्यों के साथ होगी। कमल नाथ अमरकंटक नर्मदा महोत्सव 2020 का शुभारंभ कर रहे थे। आदिम जाति कल्याण मंत्री ओमकार सिंह मरकाम, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह इस मौके पर उपस्थित थे।



मध्यप्रदेश में समावेशित हैं विभिन्न संस्कृतियाँ


मुख्यमंत्री ने कहा कि देश के हृदय प्रदेश, मध्यप्रदेश में विभिन्न संस्कृतियों का समावेश है। मालवा निमाड़, महाकौशल, विंध्य क्षेत्र की अलग-अलग संस्कृतियों में आपसी सद्भाव, भाईचारा और प्रेम की भावना मजबूत है। यही विशेषता हमारे देश की है। भारतीय संस्कृति एक ऐसी संस्कृति है, जो सबको समेट कर एक झण्डे के नीचे लाकर खड़ा करती है, यही भारत की महानता है, जिसे पूरा विश्व आश्चर्य की नजर से देखता है। हमें इसी दिल जोड़ने वाली संस्कृति को और अधिक मजबूत बनाना है। इसे कमजोर करने वाली ताकतों को नाकामयाब करना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अमरकंटक में पहली बार हो रहे नर्मदा महोत्सव को आगे भी निरंतर रखा जाएगा। इसे एक आदर्श पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा, जिससे इस पूरे क्षेत्र के जनजीवन में बदलाव आए और इसके जरिए लोगों को रोजगार मिले।


साढ़े दस माह में काम करने की नियत और नीति का परिचय दिया


मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा की 13 महीने पुरानी सरकार ने अपने मात्र साढ़े दस माह के कार्यकाल में अपनी नीति और नियत से बताया है कि हमारा लक्ष्य प्रदेश का संपूर्ण विकास करना है। हम एक ऐसा प्रदेश बनाना चाहते हैं, जहाँ हर वर्ग में खुशहाली हो। एक नई कार्य संस्कृति हो, शासन-प्रशासन की नई सोच हो और सरकार की योजनाओं का लाभ जरुरतमंदों को मिले, यही सुनिश्चित करें। इस दिशा में हमने व्यवस्था में बदलाव लाने के लिए बुनियादी फैसले लिये हैं।


पंद्रह साल में जितने उद्योग लगे नहीं, उससे ज्यादा बंद हो गए


मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि आज हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती है कि प्रदेश में निवेश आए, निवेश के लिए भरोसे का वातावरण बने। पिछले पन्द्रह सालों में भरोसे के अभाव में जितने उद्योग लगे नहीं, उससे अधिक बंद हो गए। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले एक वर्ष में प्रदेश में निवेश का एक नया वातावरण बना है। निवेश आने से हमारी आर्थिक गतिविधियाँ बढ़ेंगी, इससे हम अपने नौजवानों को रोजगार उपलब्ध कराने के साथ उन्हें व्यवसाय का भी मौका दे सकेंगे। आज के युवाओं की सोच के अनुरुप उन्हें आगे बढ़ने के अवसर देने का प्रयास किया जा रहा है।


कर्जमाफी के साथ कृषि क्षेत्र में बदलाव की शुरुआत


मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि कृषि क्षेत्र को उन्नत और खुशहाल बनाने के प्रयास हमने शुरु किये हैं। मुख्यमंत्री जय किसान फसल ऋण माफी योजना में 21 लाख किसानों की कर्ज माफी से हमने इसकी शुरुआत की है। हम उस परंपरा को बदल देंगे, जिसमें किसान का जन्म कर्ज में होता है और कर्ज के बोझ तले ही उसकी मृत्यु हो जाती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कृषि ऋण माफी योजना का द्वितीय चरण शुरु हो गया है। प्रदेश के सभी पात्र किसानों का 2 लाख रुपये तक का ऋण माफ हो, इसके लिए सरकार वचनबद्ध है।


निराश नहीं होने दूँगा


मुख्यमंत्री ने अमरकंटक सहित क्षेत्रीय विकास को लेकर विधायक फुंदेलाल मार्को की 300 करोड़ की मांग का उल्लेख करते हुए कहा कि इस क्षेत्र के विकास के लिए कोई कसर बाकी नहीं रखी जाएगी। उन्होंने कहा कि मैं इतना ही कहूँगा कि यहाँ की जनता को निराश नहीं होने दूँगा।


मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष श्री नर्मदा प्रसाद प्रजापति ने कहा कि अमरकंटक नर्मदा महोत्सव की शुरुआत करके मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने सनातन धर्म की परंपरा का सम्मान किया है। उन्होंने आग्रह किया कि यहाँ पर वन्य प्राणियों के संरक्षण के साथ ही उनके लिये एक जू की स्थापना भी की जाए।


जिले के प्रभारी खनिज साधन मंत्री श्री प्रदीप जायसवाल ने पिछले एक साल में अनूपपुर में हुए विकास कार्यों की जानकारी देते हुए बताया कि यहाँ की आदिवासी संस्कृति और परंपरा को संरक्षित करने के साथ ही युवाओं को रोजगार देने के लिए उन्हें सक्षम बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं। श्री जायसवाल ने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया कि उनकी पहल पर पहली बार आयोजित अमरकटंक नर्मदा महोत्सव के लिए 1 करोड़ रुपये आवंटित किए गये हैं।


मुख्यमंत्री ने पूजे कन्याओं के पैर


नर्मदा महोत्सव में मुख्यमंत्री ने पाँच कन्याओं के पैर पूजे और बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं योजना में जिले की 100 बेटियों को पंद्रह सौ रुपये की प्रोत्साहन राशि प्रदान की। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर संतों का शाल-श्रीफल प्रदान कर सम्मान किया। मुख्यमंत्री को आदिवासी परंपरानुसार बैगा पगड़ी, गुदुम जाकेट और वीरनमाला पहनाकर स्वागत किया गया। उन्हें बीजापुरी काष्ठ शिल्प में निर्मित माँ नर्मदा मैया की मूर्ति एवं गौंड चित्र-कृतियाँ स्मृति चिन्ह के रूप में भेंट की गई। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर जनजातीय समूह द्वारा उत्पादित कोदो अनाज चावल, अमरकंटक उद्गम जल और संजीवनी गुलकाबिली अर्क का लोकार्पण किया।


लेबल:

खान एवं गौपालन मंत्री ने सिरोही जिले के विभिन्न गौशाला प्रतिनिधियो की बैठक ली...

संवाददाता : जयपुर राजस्थान


        खान एवं गौपालन मंत्री प्रमोद जैन ‘‘ भाया’’ ने शुक्रवार को अर्बुदा गौशाला डेयरी फार्म, सिरोही में जिले के विभिन्न गौशाला प्रतिनिधियों व संचालकों की बैठक  ली।

 


    

बैठक में खान एवं गौपालन मंत्री ने कहा कि इस बैठक में प्राप्त गौशाला प्रतिनिधियों की समस्याओं , सुझावों व ज्ञापनों का परीक्षण कर जल्द से जल्द कदम उठाते हुए निराकरण करेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्धारा 6 माह का अनुदान दिया गया है और आगे भी समय पर दिया जाएगा। अर्बुदा गौशाला में ही नन्दी गौशाला बनाएगें यह प्रयास रहेगा तथा इस गौशाला का जल्द से जल्द कायाकल्प किया जाएगा।

 

बैठक मे  विधायक संयम लोढा ने कहा कि अर्बुदा गौशाला का संचालन करना चाहे वह समिति प्रस्ताव बनाकर जिला प्रशासन को देवे , जिस पर चर्चा कर निर्णय लिया जा सके। उन्होंने कहा कि जिन संस्थाओं द्धारा भूमि की मांग कर रखी है वे अतिरिक्त जिला कलक्टर से सम्पर्क करे जिससे समाधान निकल सके एवं राजस्व मंत्री से चर्चा कर गौशालाओं के लिए जमीन के आदेश प्रसारित करवाएगें जिससे गौशालाओ के लिए भूमि आवंटित हो सके और सरलीकरण भी हो सके।

      

तत्पश्चात खान एवं गौपालन मंत्री व विधायक ने अनादरा रोड पर लाईट का बटन दबाकर शुभांरभ किया। बैठक में सिरोही जिला पुलिस अधीक्षक कल्यामल मीणा, सभापति महेद्र मेवाडा सहित अन्य जन प्रतिनिधिगण मौजूद थे।

लेबल:

आम लागों के लिए भोजन की थाली अब और सस्‍ती हुई...

संवाददाता : नई दिल्ली 


        केंद्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज संसद में आर्थिक समीक्षा, 2019-20 पेश की। समीक्षा में कहा गया है कि अब औद्योगिक श्रमिकों की दैनिक आमदनी की तुलना में भोजन की थाली और सस्‍ती हो गई है।


समीक्षा पेश करते हुए सीतारामण ने कहा कि 2006-2007 की तुलना में 2019-20 में शाहाकारी भोजन की थाली 29 प्रतिशत और मांसाहारी भोजन की थाली 18 प्रतिशत सस्‍ती हुई हैं।



भारत में भोजन की थाली के अर्थशास्‍त्र के आधार पर समीक्षा में यह निष्‍कर्ष निकाला गया है। यह अर्थशास्‍त्र भारत में एक सामान्‍य व्‍यक्ति द्वारा एक थाली के लिए किए जाने वाले भुगतान को मापने का प्रयास है। भारतीयों के लिए दैनिक आहार से संबंधित दिशा-निर्देशों की सहायता से थाली की मूल्‍य का आंकलन किया गया है। इसके लिए अप्रैल 2006 से अक्‍टूबर 2019 तक 25 राज्‍यों और केंद्रशासित प्रदेशों के लगभग 80 केंद्रों से औद्योगिक श्रमिकों के लिए उपभोक्‍ता मूल्‍य सूचकांक से कीमतों के आंकड़ों का इस्‍तेमाल किया गया है।


समीक्षा के अनुसार संपूर्ण भारत के साथ-साथ इसके चारों क्षेत्रों - उत्‍तर, दक्षिण, पूर्व और पश्चिम में यह पाया गया कि शाकाहारी भोजन की थाली की कीमतों में 2015-16 से काफी कमी आई है। हालांकि, 2019 में इनकी कीमतों में तेजी रही। ऐसा सब्जियों और दालों की कीमतों में पिछले वर्ष की तेजी के रूझान के मुकाबले गिरावट का रूख रहने के कारण हुआ है। इसके परिणामस्‍वरूप 5 सदस्‍यों वाले एक औसत परिवार को जिसमें प्रति व्‍यक्ति रोजना  न्‍यूनतम दो पौष्टिक थालियों से भोजन करने हेतु प्रतिवर्ष औसतन 10887 रूपये जबकि मांसाहारी भोजन वाली थाली के लिए प्रत्‍येक परिवार को प्रतिवर्ष औसतन 11787 रूपये का लाभ हुआ है।


समीक्षा के अनुसार 2015-16 में थाली की कीमतों में बड़ा बदलाव आया। ऐसा 2015-16 में थालीनॉमिक्‍स  अर्थात् भोजन की थाली के अर्थशास्‍त्र में बड़े बदलाव के कारण संभव हुआ। सरकार की ओर से 2014-15 में कृषि क्षेत्र की उत्‍पादकता तथा कृषि बाजार की कुशलता  बढ़ाने के लिए कई सुधारात्‍मक कदम उठाए गए। इसके तहत अधिक पारदर्शी तरीके से कीमतों का निर्धारण किया गया। आर्थिक समीक्षा के अनुसार भोजन अपने आप में पर्याप्‍त नहीं है, बल्कि यह मानव संसाधन विकास का एक महत्‍वपूर्ण घटक भी है जो राष्‍ट्रीय संपदा के निर्माण में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। सतत विकास लक्ष्‍य के तहत दुनियाभर के देश ‘जीरो हंगर’ की नीति पर सहमत हुए हैं।


लेबल:

खान एवं गौपालन मंत्री ने नवर्निर्मित 33/11 केवी सब स्टेशन का किया लोकार्पण...

संवाददाता : जयपुर राजस्थान


      खान एवं गौपालन मंत्री प्रमोद जैन ‘‘ भाया’’ ने शुक्रवार को सिरोही शहर में बेहतर विद्युत आपूर्ति के लिए नवनिर्मित 33/11 केवी सब स्टेशन अनादरा रोड, सिरोही का लोकार्पण किया ।इस मौके पर  उन्होने कहा कि सरकार राज्य में  निर्बाध बिजली आपूर्ति के लिए कृत संकल्प है।

 


 

विधायक संयम लोढा ने कहा कि सिरोही में यह चौथा 33/11 केवी जीएसएस बनाया गया है जिससे सिरोही शहर व आसपास के ग्रामीण क्षेत्र नवाखेडा, रामपुरा, मांकरोडा, वेरापुरा को भी उच्च गुणवत्ता की विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित होगी । 

 

नगर परिषद के सभापति श्री महेन्द्र मेवाडा ने इस लोकार्पण के लिए बधाई दी।  अधीक्षण अभियन्ता के.एल. मेघवाल ने प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत किया ।

 

इस मौके पर सिरोही अतिरिक्त जिला कलक्टर रिछपालसिंह बुरडक, किशोर पुरोहित, जितेन्द्र ऎरन, हरीश राठौड, प्रेमाराम देवासी, पूर्व जिला प्रमुख अन्नाराम देवासी समेत आमजन मौजूद थे।  

लेबल:

संविधान हमारा मार्गदर्शक है, हमारा मूल ग्रन्थ है : राज्यपाल

संवाददाता : जयपुर राजस्थान


     राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि यह समारोह गत बीस वर्षों से लगातार हो रहा है। मुझे भी प्रत्येक वर्ष यहां आने का मौका मिला है। आज यह स्थान सभी के लिए सुगम हो गया है। आज से बीस वर्ष पूर्व जब मैं यहां आया था, तब यहां न सड़क थी और न ही आवागमन के साधन थे। लेकिन धीरे - धीरे सभी के सामूहिक प्रयासों से यहां सभी सुविधाएं हो गई है।

 


 

राज्यपाल मिश्र गुरूवार को उत्तर प्रदेश के अम्बेडकर नगर स्थित चन्दौका ,भीटी में फूलादेवी चन्द्रधर मिश्र महाविद्यालय में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे।

 

राज्यपाल मिश्र ने कहा कि गत 26 नवम्बर को पूरे देश में 70 वां संविधान दिवस मनाया गया। आपको बताना चाहता हूँ कि संविधान हमारा मार्गदर्शक है। हमारा मूल ग्रन्थ है।

 

राज्यपाल मिश्र ने कहा कि संविधान की प्रस्तावना में राष्ट्र की मूल भावना का उल्लेख है। संविधान ने हमें मौलिक अधिकार दिये हैं। संविधान के अनुच्छेद 51 क में हमारे द्वारा किये जाने वाले कर्तव्यों को परिभाषित किया गया है। मौलिक अधिकार और कर्तव्य, यह दोनों ही संविधान के प्रमुख स्तम्भ हैं। मौलिक अधिकारों की तो हम बात करते हैं, लेकिन आवश्यकता है कि हम हमारे कर्तव्य को जानें, समझें और उनके अनुरूप ही अपना कार्य और व्यवहार करें।

 

राज्यपाल मिश्र ने कहा कि आप लोग युवा हैं। राष्ट्र निर्माण में आपको महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है। इसलिए संविधान में प्रदत्त कर्तव्यों को आप लोग आचरण में लाकर आगे बढ़ें। यदि हम सभी ने ऎसा प्रयास किया तो निश्चय तौर पर भारत देश को आगे बढ़ाने में और स्वयं के जीवन को भी प्रोनन्त करने में यह कदम बेहतरीन साबित होगा। आमजन को संविधान की जानकारी होना आवश्यक है। राष्ट्रीय एकता, अखण्ड़ता व सामाजिक समरसता के लिए कर्तव्यों का निर्वहन करना होगा।

लेबल:

मुख्यमंत्री कमल नाथ ने गांधी जी की पुण्य-तिथि पर दो मिनिट मौन रखकर दी श्रद्धांजलि...

संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश


      मुख्यमंत्री कमल नाथ ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्य-तिथि पर दो मिनिट का मौन रखकर उन्हे श्रद्धांजलि अर्पित की। कमल नाथ पूर्वांह ठीक 11 बजे मंत्रालय के समक्ष सरदार पटेल उद्यान पहुँचे। मुख्यमंत्री और अधिकारियों-कर्मचारियों ने मौन धारण सूचक सायरन बजने पर दो मिनिट का मौन रखकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का पुण्य स्मरण कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।



इस मौके पर जनसम्पर्क मंत्री पी.सी. शर्मा, पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, मुख्य सचिव एस.आर. मोहंती, अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन के.के. सिंह और वरिष्ठ अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।


लेबल:

गुरुवार, 30 जनवरी 2020

नोवल कोरोनावायरस पर अपडेट...

संवाददाता : नई दिल्ली


आप सभी को अपने और अपने परिवार की सुरक्षा के लिए जानना आवश्यक है कि


नोवल कोरोना वायरस का प्रकोप चीन में चल रहा है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अन्य देशों से भी कई मामले सामने आए हैं। कोरोना वायरस बीमारी के लक्षण सामान्य सर्दी-जुकाम से लेकर गंभीर बीमारियों जैसे मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (एमईआरएस) –सीओवी और सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (सार्स-सीओवी) जैसे है। 



क्या हैं लक्षण?


बुखार, खांसी, सांस लेने में कठिनाई इसके आम लक्षण हैं।


खुद को और दूसरों को इस बीमारी से कैसे बचाएं?


यदि आपने हाल में चीन की यात्रा की है (पिछले 14 दिनों के भीतर) या किसी गैर-पंजीकृत व्यक्ति से संपर्क किया है तो आपको यह सलाह दी जाती है:



  • अपनी वापसी के बाद 14 दिनों तक घर में अलग-थलग रहें।

  • अलग कमरे में सोएं।

  • परिवार के अन्य सदस्यों के साथ कम संपर्क करें और आगंतुकों से मुलाकात को नजरअंदाज करें।

  • खांसने और छींकने पर नाक और मुंह ढक लें।

  • सर्दी या फ्लू जैसे लक्षण वाले किसी व्यक्ति के निकट संपर्क में आने से बचें। (किसी भी व्यक्ति से कम से कम 1 मीटर की दूरी बनाए रखें)।

  • घर में हर किसी को हर समय हाथ की सफाई रखनी चाहिए और हाथ धोना चाहिए, विशेष तौर पर:

  • छींकने या खांसने के बाद।

  • बीमार की देखभाल के समय।

  • भोजन तैयार करने से पहले और बाद में।

  • खाने से पहले।

  • शौचालय उपयोग के बाद।

  • जब हाथ गंदे होते हैं।

  • जानवरों या जानवरों के अपशिष्ट के संपर्क में आने के बाद।

  • यदि आपको चीन से लौटने के 28 दिनों के भीतर बुखार, खांसी या सांस लेने में कठिनाई होती है तो:



  • अधिक जानकारी के लिए भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय के नियंत्रण कक्ष के फोन नंबर +91-11-2397 8046 पर संपर्क करें।

  • तुरंत मास्क पहनें और नजदीकी चिकित्सा केंद्र जाकर परामर्श लें।

  • घबराएं नहीं


लेबल:

मंत्रिपरिषद की बैठक शुरू होने के पहले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और अन्य शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि...

संवाददाता : रायपुर छत्‍तीसगढ़


      मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में यहां मुख्यमंत्री निवास में आयोजित मंत्रिपरिषद की बैठक शुरू होने के पहले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के शहादत दिवस पर दो मिनट का मौन धारण कर उन्हें तथा अन्य शहीदों को श्रंद्धाजलि दी गई। स्वतंत्रता आंदोलन में शहीदों के योगदान का स्मरण किया गया। इस अवसर पर मंत्रिमण्डल के सदस्यगण उपस्थित थे।



लेबल:

सेवा, साधना और समर्पण के कारण राम-भक्त हनुमान और गांधी जी आराध्य हैं...

संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश


      गांधी जी और हनुमान जी अपनी सेवा, साधना और समर्पण भावना से लोगों के आराध्य हैं। सत्य, अहिंसा और राष्ट्रभक्ति इनके व्यक्तित्व और कृतित्व के आधार हैं। ये विचार मुख्यमंत्री कमल नाथ ने आज पुरानी विधानसभा परिसर मिंटो हाल में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्य-तिथि पर महानिर्वाण हनुमान चालीसा के सवा करोड़ जप कार्यक्रम में व्यक्त किए। यह कार्यक्रम 'हमारे हनुमान' सांस्कृतिक मंच भोपाल द्वारा आयोजित किया गया था। जनसंपर्क मंत्री पी.सी. शर्मा एवं पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल भी इस मौके पर उपस्थित थे।


मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि राम-भक्त हनुमान का उनके जीवन में विशेष महत्व रहा है। गांधी जी मेरे सदैव आदर्श रहे हैं। श्री नाथ ने कहा कि  मेरी आस्था के केन्द्र इन आराध्य पुरुषों ने मुझे हमेशा प्रेरणा प्रदान की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि गांधी जी ने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान सत्य, अहिंसा और राष्ट्रभक्ति का जो नारा दिया था उसने उस समय के ब्रिटिश साम्राज्य को हिला दिया था। आज गांधी जी के इन्हीं विचारों की सबसे ज्यादा आवश्यकता है। गिरते हुए सामाजिक मूल्य हमारे सामने एक बड़ी चुनौती है। हमें इसका सामना राम-भक्त हनुमान जी एवं राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के विचारों और भावनाओं को आत्मसात कर करना है।



महानिर्वाण हनुमान चालीसा के सवा करोड़ जप समारोह के मुख्य वक्ता पंडित विजय शंकर मेहता ने 'महानिर्वाण - एक शाम राष्ट्रभक्त के नाम' विषय पर अपने व्याख्यान में कहा कि हनुमान जी और गांधी जी के मन, वचन, कर्म में साम्य है। पंडित मेहता जी ने कई प्रसंगों और कृतियों से भगवान हनुमान और गांधी जी के आचरण-व्यवहार का उल्लेख करते हुए कहा कि गांधी जी जहाँ मौलिक संस्कृति के प्रतीक थे वहीं हनुमान जी अवतार परंपरा के एक जीवित महापुरुष हैं। दोनों आज भी हमारे सामने उपस्थित हैं। दोनों का व्यक्तित्व  इतना प्रभावशाली था कि अपने समय के सर्वशक्तिमान उनके आगे कांपते थे फिर वो चाहे रावण हो या फिर ब्रिटिश साम्राज्य।  


पंडित विजयशंकर मेहता ने कहा कि भय-मुक्त भारत बनाना है, बांटने वाली ताकतों को नाकामयाब करना है तो गांधी जी और हनुमान जी को अपने अंदर आत्मसात करना होगा। उन्होंने कहा कि आज देश अज्ञात डर से भयभीत है। ऐसा इसलिए है क्योंकि सत्य, अहिंसा और राष्ट्रभक्ति के रास्ते से हम भटक गए हैं। पंडित मेहता जी ने कहा कि कि सोशल मीडिया में महापुरूषों के सम्बन्ध में अपमानजनक टिप्पणी से परहेज किया जाना चाहिए। 


प्रारंभ में मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ, जनसम्पर्क मंत्री पी.सी. शर्मा, पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुरेश पचौरी एवं पूर्व मंत्री चंद्रप्रभाष शेखर ने पंडित विजयशंकर मेहता का स्वागत किया। पंडित मेहता जी के साथ सवा सौ करोड़ हनुमान चालीसा का जप किया गया। इस कार्यक्रम को संस्कार टी.वी. पर 56 देशों में लाइव देखा गया। कार्यक्रम का संचालन राजीव सिंह ने किया।


लेबल:

शहीद दिवस पर राजभवन में दो मिनिट का मौन रखा गया...

संवाददाता : जयपुर राजस्थान


      शहीद दिवस पर राजभवन में प्रातः 11 बजे दो मिनिट का मौन रखकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी  गई। इस मौके पर राज्यपाल के सचिव सुबीर कुमार, उप सचिव योगेश श्रीवास्तव व राज्यपाल के परिसहाय हर्ष वर्धन सहित राजभवन के अधिकारीगण व कर्मचारीगण मौजूद थे। 

 


लेबल:

सी.ए.ए. में लाए गए संशोधन को वापस लेने का किया अनुरोध...

संवाददाता : रायपुर छत्‍तीसगढ़


      मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर नागरिकता संशोधान अधिनियम 2019 (सीएए) को वापस लेने का अनुरोध किया है।मुख्यमंत्री ने पत्र में लिखा है कि जहां एक ओर इस अधिनियम का वर्तमान संशोधन धर्म के आधार पर अवैध प्रवासियों का विभेद करता प्रतीत होता है एवं भारतीय संविधान के अनुच्छेद-14 के विपरीत होने का संकेत दे रहा है, वहीं दूसरी ओर भारत के पड़ोसी देशों, जैसे- श्रीलंका, म्यांमार, नेपाल और भूटान इत्यादि देशों से आने वाले प्रवासियों के संबंध में इस अधिनियम में कोई भी प्रावधान नहीं किया गया है ।



मुख्यमंत्री ने पत्र में कहा है कि छत्तीसगढ़ राज्य में इस अधिनियम के विरूद्ध काफी विरोध प्रदर्शन देखे गये, जो कि शांतिपूर्ण रहे, अपितु इसमें इस प्रदेश के विभिन्न वर्गाें के लोग शामिल हुए। छत्तीसगढ़ में मूलतः अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं अन्य पिछड़े वर्ग के निवासी हैं, जिनमें से बड़ी संख्या में गरीब, अशिक्षित एवं साधनविहीन हैं, जिसे इस अधिनियम की औपचारिकता को पूर्ण करने में कठिनाइयों का निश्चित रूप से सामना करना पड़ सकता है। संविधान के समक्ष सभी सम्प्रदाय समान होते हैं, संसद के द्वारा अधिनियमित नागरिकता (संशोधन) अधिनियम, 2019 (सी.ए.ए.) धर्म निरपेक्षता के इस संवैधानिक आधारभूत भावना को खंडित करता दृष्टिगत हो रहा है।


मुख्यमंत्री बघेल ने पत्र में देश के संविधान के अनुच्छेद-14 को देश के सभी वर्गाें के व्यक्तियों के समानता के अधिकार और कानून के अंतर्गत समानता की गारंटी को सुरक्षित रखने के लिये आवश्यक है कि संविधान की इस मूल भावना के विपरीत कोई भी कानून नहीं बनाया जाये। जनमानस में विरोध प्रदर्शन को देखते हुए, गरीब तबके एवं असाक्षर लोगों को असुविधा न हो, देश में शांति बनी रहे, एवं संविधान की मूल अवधारणा सुरक्षित रहे, इन सबके दृष्टिगत, नागरिकता (संशोधन) अधिनियम, 2019 (सी.ए.ए.) में लाये गये संशोधन को वापस लिये जाने का प्रदेशवासियों की ओर से अनुरोध किया है।  


लेबल:

नोवल कोरोनावायरस पर अपडेट, केरल में सामने आया एक मामला

संवाददाता : नई दिल्ली


      नोवल कोरोनावायरस मरीज का मामला केरल में सामने आया है। मरीज एक छात्र है जो चीन के वुहान यूनिवर्सिटी में पढ़ रहा था। जांच में मरीज नोवल कोरोनावायरस के लिए सकारात्मक पाया गया है और उसे अस्पताल में एक अलग विशेष कक्ष में रखा गया है।मरीज की स्थिति फिलहाल स्थिर है और उसकी कड़ी निगरानी की जा रही है।



 


लेबल:

चुनाव आयोग ने कमिशनर पटनायक का कार्यकाल एक महीने बढ़ाया...

प्रजा दत्त डबराल @ नई दिल्ली


      चुनाव आयोग ने कमिशनर पटनायक का कार्यकाल एक महीने बढ़ाया। गृह मंत्रालय की अपील को मंजूर करते हुए चुनाव आयोग ने दिल्ली पुलिस कमिशनर अमूल्य पटनायक के कार्यकाल को एक महीने तक बढ़ाने की मंजूरी दे दी है।



गौरतलब है कि आयुक्त पटनायक कल रिटायर होने वाले थे। चुनाव आयोग ने गृह मंत्रालय को आयुक्त पटनायक के कार्यकाल को फरवरी अंत तक बढ़ाने की अनुमति दी है।


क्योकि दिल्ली में 8 फरवरी को विधानसभा का चुनाव है, इसके मद्देनजर उनका कार्यकाल एक महीना बढ़ा दिया है।


लेबल:

महिला सुरक्षा महिलाओं के सम्मान से जुड़ा विषय है : मुख्यमंत्री

प्रजा दत्त डबराल @ देहरादून उत्तराखंड


      मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि आत्म सुरक्षा की दृष्टि से महिलाओं का शारिरिक एवं मानसिक रूप से मजबूत होना जरूरी है। इससे उनके मन में अपनी असुरक्षा का भाव समाप्त होगा तथा आत्म विश्वास मजबूत होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसकी पहल भी स्वयं उन्हें करनी होगी क्योंकि यदि तैरना सीखना है तो तालाब में जाना ही पड़ेगा।



शुक्रवार को डी.ए.वी. पीजी कॉलेज देहरादून में आयोजित दो दिवसीय ‘‘सेल्फ डिफेंस वर्कशाप फार गर्ल्स’’ से सम्बन्धित कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि इस दो दिवसीय जूडो-कराटे एवं अन्य सुरक्षा से सम्बन्धित उपायों के प्रशिक्षण से छात्राओं में आत्म विश्वास एवं आत्म सुरक्षा का भाव जागृत होगा। उन्होंने कहा कि जब भी महिलाओं से सम्बन्धित कोई कार्यक्रम होता है तो वहां पर महिलाओं की सुरक्षा की बात भी जरूर होती है। यह महिलाओं के सम्मान से जुड़ा विषय भी है। 


कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए उपाध्यक्ष उच्च शिक्षा उन्नयन समिति दीप्ति रावत ने कहा कि आज लड़कियों के साथ ही लड़कों को भी अच्छे व्यवहार एवं नैतिक मूल्यों के प्रति जागरूकता की सीख देने की जरूरत है। इसके लिए परिवार के जिम्मेदार लोगों को भी अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। उन्होंने छात्राओं को सजग एवं सतर्क रहते हुए ऊँचे मनोबल के साथ आगे बढ़ने को कहा। उन्होंने कहा कि छात्राओं को निडर होकर अपनी बात रखनी चाहिए इसके लिए यदि जरूरत पड़े तो उन्हें महिला सुरक्षा हेतु उपलब्ध विभिन्न हैल्प लाइनों एवं पोर्टलों का भी उपयोग करना चाहिए।



प्राचार्य डॉ. अजय सक्सेना ने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करते हुए विद्यालय के बहुउद्देशीय क्रीडा भवन के लिये आवश्यक उपकरणो की व्यवस्था का अनुरोध किया।


इस अवसर पर कार्यशाला की संयोजक डॉ. अर्चना पाल, पूर्व दायित्व धारी सुशीला बलूनी, विवेकानन्द खण्डूडी सहित बड़ी संख्या में छात्र छात्रायें उपस्थित थे।



लेबल:

मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मन्त्री रवि शंकर प्रसाद से भेंट की...

संवाददाता : शिमला हिमाचल


      मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने नई दिल्ली में केन्द्रीय विधि, न्याय एवं संचार मन्त्री रवि शंकर प्रसाद से भेंट की और उनसे प्रदेश के दूर-दराज के क्षेत्रों में बेहतर संचार सेवाएं उपलब्ध करवाने का आग्रह किया।



मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मन्त्री से प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र के लिए निवेश आकर्षित करने में सहायता करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि सोलन जिला के वाकनाघाट में 300 बीघा भूमि उपलब्ध है, जहां सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र को विकसित किया जा सकता है।


उन्होंने केन्द्रीय मन्त्री से प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी में उत्कृष्ट केन्द्र तथा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के लिए निवेश आकर्षित करने में सहयोग का आग्रह भी किया।


लेबल:

प्रदेश में हॉकी, तीरंदाजी, एथलेटिक, क्रिकेट, स्विमिंग, आर्चरी, बास्केटबॉल, टेबल टेनिस, कबड्डी और खो-खो की अकादमी प्रारंभ की जाएगी...

संवाददाता : रायपुर छत्‍तीसगढ़


      मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में यहां उनके निवास कार्यालय में आयोजित छत्तीसगढ़ खेल विकास प्राधिकरण की गवर्निग बॉडी की प्रथम बैठक में अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। बैठक में निर्णय लिया गया कि खिलाड़ियों को अत्याधुनिक खेल सुविधाएं और प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए प्रदेश में अत्याधुनिक खेल अकादमियां प्रारंभ की जाएगी, इन आकदमियों के लिए स्टेडियमों के चयन का दायित्व मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित प्राधिकरण की कार्यकारिणी समिति को सौंपा गया है। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से खेल आकदमियों के लिए स्टेडियमों का चयन शीघ्र करने के निर्देश दिए ।



बैठक में यह निर्णय भी लिया गया की खिलाड़ियों को विभिन्न खेल गतिविधियों के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए प्रदेश में मुख्यमंत्री खिलाड़ी प्रोत्साहन योजना प्रारंभ की जाएगी। छत्तीसगढ़ के पारंपरिक खेलों-गेंडी, भौंरा, फुगड़ी जैसे खेलों को प्रोत्साहित किया जाएगा।  पारंपरिक खेल अब विलुप्त होते जा रहे हैं। बैठक में यह भी निर्णय लिया गया की प्रदेश के महत्वपूर्ण खेल स्टेडियम अब छत्तीसगढ़ खेल विकास प्राधिकरण के आधीन रखे जाएंगे । खेल अकादमी का संचालन सी.एस.आर. मद के माध्यम से किया जाएगा । मुख्यमंत्री ने इसके लिए कार्य योजना तैयार करने के निर्देश मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित प्राधिकरण की कार्यकारिणी समिति को सौंपा ।


छत्तीसगढ़ खेल प्राधिकरण में दो सांसदों, पांच विधायकों और दो उत्कृष्ट खिलाड़ियों के मनोनयन के लिए मुख्यमंत्री बघेल को अधिकृत किया गया। बैठक में छत्तीसगढ़ में हॉकी, तीरंदाजी, एथलेटिक, क्रिकेट, स्विमिंग, आर्चरी, इंडोर गेम्स (मार्शल आर्ट), फुटबॉल, बास्केटबॉल, टेबल टेनिस, कबड्डी और खो-खो की अकादमी प्रारंभ करने का निर्णय भी लिया गया।


बैठक में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि एवं जल संसाधन मंत्री रविंद्र चौबे, वन मंत्री मोहम्मद अकबर, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत, नगरीय विकास मंत्री डॉ शिव डहरिया, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंडिया, 


लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी सचिव अविनाश चम्पावत, नगरीय विकास विभाग की सचिव अलरमेल मंगई डी, सामान्य प्रशासन विभाग के सचिव डी.डी. सिंह, संचालक खेल श्वेता सिन्हा तथा संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।


लेबल:

नगर निकाय के उप चुनाव के लिए कार्यक्रम घोषित 4 जिलों के 30 वार्डों मे होगा उपचुनाव...

संवाददाता : जयपुर राजस्थान


      राज्य निर्वाचन अयोग ने फरवरी, 2020 में 4 जिलों की 2 नगर परिषदों तथा 3 नगरपालिकाओं के 30 वार्डों में उप चुनाव के लिए कार्यक्रम की घोषणा कर दी है।

 


 

कार्यक्रम के अनुसार श्रीगंगानगर जिले की रायसिंहनगर नगरपालिका, झालावाड़ की पिड़ावा नगरपालिका एवं झालावाड़ नगर परिषद, नागौर जिले की नागौर नगर परिषद एवं सीकर की रींगस नगर पालिका के रिक्त 30 वार्डों के लिए लोक सूचना 1 फरवरी, 2020 को जारी होगी।

 

इन वार्डों में उपचुनाव के लिए नामांकन पत्र प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 4 फरवरी तथा नामांकन पत्रों की संवीक्षा 5 फरवरी को होगी। अभ्यर्थिता वापस लेने की अंतिम तिथि 7 फरवरी को अपराह्न 3 बजे तक है। चुनाव चिन्हों का आवंटन 8 फरवरी को होगा।

 

आवश्यक होने पर मतदान 16 फरवरी को प्रातः 8 बजे से सायं 5 बजे तक होगा। उपचुनाव की मतगणना 19 फरवरी को प्रातः 8 बजे से होगी।

 

मुख्य निर्वाचन अधिकारी एवं सचिव श्याम सिंह राजपुरोहित ने यह जानकारी देते हुए बताया कि सम्बन्धित नगरनिकायाें में चुनाव कार्यक्रम की घोषणा के साथ ही आदर्श आचार संहिन्ता लागू हो गई हैं, जो चुनाव प्रक्रिया समाप्त होने तक प्रभावी रहेगी।

लेबल:

ऐतिहासिक सप्रे संग्रहालय को पर्यटन केन्द्र के रूप में विकसित किया जाना चाहिये...

संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश


     मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा है कि सप्रे संग्रहालय वह ऐतिहासिक स्थान है, जिसने न केवल समाचार-पत्र जगत का इतिहास समेट रखा है बल्कि इसमें एक बेहतर पर्यटन केन्द्र के रूप में विकसित होने की सभी विशेषताएं मौजूद हैं। इसलिए इसे पर्यटन केन्द्र के रूप में भी विकसित किया जाना चाहिए। कमल नाथ सुप्रसिद्ध राष्ट्रकवि स्वतंत्रता एवं संग्राम सेनानी पंडित माखनलाल चतुर्वेदी द्वारा संपादित कर्मवीर पत्रिका के 100 वर्ष पूरे होने पर आयोजित संगोष्ठी के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कर्मवीर के सौ साल 'संदर्भ ग्रंथ' का लोकार्पण किया। प्रारंभ में मुख्यमंत्री ने पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की पुण्य-तिथि पर उनके चित्र पर मार्ल्यापण कर श्रद्धांजलि अर्पित की।



महात्मा गाँधी, एक विचारधारा है


मुख्यमंत्री ने कहा कि यह संयोग है कि आज राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी और राष्ट्र कवि पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की पुण्य-तिथि एक ही दिन है। उन्होंने कहा कि महात्मा गाँधी एक विचारधारा है, जो पूरी दुनिया को एक बेहतर राष्ट्र बनने और अपने नागरिकों को सुख-शांति का जीवन उपलब्ध करवाने का मार्ग बताती है। उन्होंने कहा कि सत्य, अहिंसा के रास्ते से उन्होंने दुनिया की सबसे बड़ी साम्राज्यवादी ताकत को भारत छोड़ने पर मजबूर किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रकवि माखनलाल जी ने अपनी पैनी कलम और राष्ट्रीयता से ओतप्रोत कविताओं के माध्यम से स्वतंत्रता संग्राम में एक नया जोश पैदा किया। वे हमारे प्रदेश की शान और गौरव थे।


शांति के दूत


मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि एक ओर जहाँ महात्मा गाँधी ने पूरी दुनिया को शांति का संदेश दिया, वहीं दूसरी ओर डॉ. अम्बेडकर ने एक समतावादी संविधान की रचना कर दुनिया को रास्ता दिखाया। मुख्यमंत्री ने अपनी अफ्रीका यात्रा का स्मरण करते हुए बताया कि वहाँ के एक देश के राष्ट्रपति से जब वे मिलने पहुँचे, तो उनके कक्ष में महात्मा गाँधी और डॉ. भीमराव अम्बेडकर बाबा साहेब की तस्वीर मैंने देखी। मैंने सोचा कि यह शायद मेरे मिलने के अवसर पर लगाई गई है, पर ऐसा नहीं था। उन्होंने राजनयिक कारणों से देश और राष्ट्रपति का नाम का उल्लेख न करते हुए बताया कि राष्ट्रपति जी ने बताया कि भारत के संविधान निर्माण में जो समतावादी नजरिया अपनाया गया, वही हमारे देश के संविधान का प्रेरणा स्त्रोत है। गाँधी जी का उल्लेख करके राष्ट्रपति ने बताया कि हमारे देश ने हिंसा से मुक्ति और शांति की स्थापना के लिए गाँधी जी के अहिंसा के मार्ग को अपनाया। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज पूरे विश्व में जो चुनौतियाँ हैं, अशांति है, उसके लिए गाँधी मार्ग पर चलना सबसेबड़ी आवश्यकता है।


कुछ लोग चाहते है गाँधी जी को भूल जाएं


मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि देश में कुछ ताकतें इस बात का प्रयास कर रही हैं कि लोग गाँधी जी और उनके विचारों को भूल जाएं। ऐसे प्रयास हमारी शांति और देश की एकता, अखंडता के लिए एक बड़ा खतरा है। इसका सभी लोगों को मिलकर मुकाबला करना है। ऐसे लोगों से सावधान रहना है और उनके कुत्सित प्रयासों को असफल करना है। यह हमारे देश के सुरक्षित भविष्य के लिए जरूरी है।


सप्रे संग्रहालय की उपलब्धियाँ विश्व स्तरीय


मुख्यमंत्री कमल नाथ ने सप्रे संग्रहालय की उपलब्धियों को विश्व स्तरीय बताया। उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता संग्राम के प्रमुख सेनानी की भूमिका कर्मवीर पत्रिका ने निभाई। पंडित माखनलाल चतुर्वेदी द्वारा संपादित कर्मवीर के प्रकाशन को निरंतर रखने का जो बीड़ा सप्रे संग्रहालय के संस्थापक विजयदत्त श्रीधर ने उठाया है, वह सराहनीय है। नई तकनीक से बिना जुड़े सप्रे संग्रहालय ने जिन ऐतिहासिक दस्तावेजों का संग्रह किया है, वह निश्चित ही भारतीय पत्रकारिता के क्षेत्र में बड़ा योगदान है। कमल नाथ ने कहा कि संग्रहालय का हमारे तथा अन्य प्रदेशों के शोधार्थी विद्यार्थियों ने जो लाभ उठाया है वह एक बड़ी उपलब्धि है।


जनसम्पर्क मंत्री पी.सी. शर्मा ने कहा कि संप्रे संग्रहालय के जरिए भारतीय समाचार-पत्र जगत के इतिहास को संग्रहित करके सहजने का जो कार्य किया गया है, उससे यह संस्थान पूरी दुनिया का उत्कृष्टतम संस्थान बन गया है। उन्होंने कहा कि ऐतिहासिक पत्रिका कर्मवीर के प्रकाशन को निरंतर रखने का प्रयास प्रशंसनीय है।


पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुरेश पचौरी ने पंडित माखनलाल चतुर्वेदी को प्रदेश का दैदिप्यमान नक्षत्र बताते हुए कहा कि महात्मा गांधी 1937 में जब बाबई यात्रा पहुँचे थे, तो उन्होंने कहा था कि मैं उनकी जन्मभूमि पर आकर गौरवान्वित महसूस कर रहा हूँ। उन्होंने कहा कि सप्रे संग्रहालय देश का अनूठा संग्रहालय है और हमें अपने प्रदेश की इस अमूल्य पूँजी को और अधिक विकसित करने के लिए मदद करना चाहिए।


सप्रे संग्राहलय के संस्थापक एवं कर्मवीर पत्रिका के प्रधान संपादक पद्मश्री विजयदत्त श्रीधर ने कहा कि पंडित माखनलाल चतुर्वेदी एक महान संपादक, साहित्यकार और स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे। उन्होंने कहा कि श्रद्धेय माधवराव सप्रे जी ने उनकी प्रतिभा को पहचाना था। श्रीधर ने सप्रे संग्रहालय की उपलब्धियों को रेखांकित करते हुए कहा कि इस संग्रहालय में 5 करोड़ पत्र-पत्रिकाओं का संग्रह है। दो हजार ग्रंथ के अलावा एक हजार पत्रिकाएं ऐसी हैं जो दुनिया किसी भी संग्रहालय में उपलब्ध नहीं है। उन्होंने बताया कि पिछले 37 साल में 1167 शोध छात्रों ने संग्रहालय का लाभ उठाया है। इसमें 1153 शोधार्थियों को डीलिट और पीएचडी के उपाधि प्राप्त हुई।


मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कर्मवीर के 100 वर्ष पूरे होने पर प्रकाशित विशेषांक का विमोचन किया। पंडित माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के छात्र अभिराज सिंह राजपूत को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की जूनियर रिसर्च फैलोशिप की परीक्षा में देश में सर्वप्रथम स्थान प्राप्त करने पर सम्मानित किया गया।


इस मौके पर माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रिकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के कुलपति दीपक तिवारी, बुंदेलखण्ड विश्वविद्यालय के कुलपति और शिक्षा, पत्रकारिता तथा समाज से जुड़े प्रतिष्ठित नागरिक उपस्थित थे।


लेबल:

प्रधानमंत्री ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि दी...

प्रजा दत्त डबराल @ नई दिल्ली


      प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि दी। प्रधानमंत्री ने राजघाट पर महात्मा गांधी को पुष्पांजलि अर्पित की।



प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, ‘राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर उन्हें कोटि-कोटि नमन। पूज्य बापू के व्यक्तित्व, विचार और आदर्श हमें सशक्त, सक्षम और समृद्ध न्यू इंडिया के निर्माण के लिए प्रेरित करते रहेंगे।’









Narendra Modi
 

@narendramodi



 




 

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर उन्हें कोटि-कोटि नमन। पूज्य बापू के व्यक्तित्व, विचार और आदर्श हमें सशक्त, सक्षम और समृद्ध न्यू इंडिया के निर्माण के लिए प्रेरित करते रहेंगे।






 




लेबल:

अतिरिक्त मुख्य सचिव ने की सूरजकुंड अंतरराष्ट्रीय शिल्प मेला तैयारियों की समीक्षा...

संवाददाता : शिमला हिमाचल


      आर. डी. धीमान, अतिरिक्त मुख्य सचिव (पर्यटन एवं नागरिक उड्डयन) ने 34वें सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेला के लिए हिमाचल प्रदेश द्वारा ‘थीम स्टेट’ के प्रबंधों के संबंध में सूरजकुंड में विभाग के अधिकारियों के साथ एक समीक्षा बैठक की तथा मेला ग्राउंड का दौरा किया।अतिरिक्त मुख्य सचिव के साथ निदेशक पर्यटन यूनुस व अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।



उन्होंने हिमाचल प्रदेश पर्यटन विभाग द्वारा पारंपरिक शैली में बनाये गए ‘अपना घर’ भीमाकाली मंदिर, हिमाचली शैली के मुख्य द्वार तथा हथकरघा-हस्तशिल्प कारीगरों के लिए तैयार किए स्टालों का अवलोकन किया।


अतिरिक्त मुख्य सचिव ने कहा कि यह अंतरराष्ट्रीय शिल्प मेला हिमाचल के विभिन्न उत्पादों तथा राज्य के पर्यटन के प्रचार-प्रसार के लिए एक बहुत ही अच्छा मंच है। 16 दिन तक चलने वाले इस मेले के दौरान प्रतिदिन हिमाचल के विभिन्न भागों से सूरजकुंड पहुंच चुके सांस्कृतिक दल प्रस्तुतियां देकर देश-विदेश के पर्यटकों को हिमाचल की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत से रुबरु करवायेंगे।


मेले में पर्यटकों के लिए हिमाचली व्यंजनों के फूड स्टाॅल भी स्थापित किए जाएंगे, जिसके लिए प्रदेश पर्यटन निगम की टीम भी मेला स्थल पर पहुंच गई है। पर्यटकों को राज्य के खूबसूरत पर्यटन स्थलों की ओर आकर्षित करने तथा अन्य जानकारी प्रदान करने के लिए सूचना केंद्र भी स्थापित किया है। सूरजकुंड मेला मैदान में हिमाचली परिवेश को प्रदर्शित करने के लिए सभी प्रबंध पूर्ण कर लिए गए हैं।


लेबल:

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का आंगनबाड़ी कार्यकर्ता संघ ने व्यक्त किया आभार...

संवाददाता : रायपुर छत्‍तीसगढ़


         मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर आंगनबाड़ी केन्द्रों में बच्चों को स्थानीय भाषा, बोली में शिक्षा दिए जाने और बच्चों को अपनी मातृ भाषा में प्रभावी तरीके से सीखाकर समुचित विकास करने का छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका कल्याण संघ और छत्तीसगढ़ आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका संघ ने आभार व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया है।



आंगनबाड़ी कार्यकर्ता-सहायिका संघ ने आंगनबाड़ी केन्द्रों को प्री-प्रायमरी (नर्सरी) स्कूल में परिवर्तित करने के लिए मुख्यमंत्री को गाड़ा-गाड़ा बधाई दी है। मुख्यमंत्री से निवेदन करते हुए अपेक्षा व्यक्त की है कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं को प्राथमिक शालाओं में छत्तीसगढ़ी में शिक्षा देने का अवसर दिया जाए, जिससे हमारे अनुभव का लाभ स्कूली बच्चों को मिल सके। उन्होंने सरकार के इस कदम की सराहना करते हुए कहा है कि इस निर्णय से बच्चों और समाज के विकास के साथ ही छत्तीसगढ़ियों का आत्म सम्मान भी बढ़ेगा।


छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका कल्याण संघ की प्रांताध्यक्ष पदमावती साहू और कार्यकारिणी सदस्यों तथा छत्तीसगढ़ आंगनबाड़ी कार्यकर्ता-सहायिका संघ की प्रांताध्यक्ष सरिता पाठक और कार्यकारिणी सदस्यों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा लिए गए निर्णय को दूरदर्शी बताया है। उन्होंने कहा है कि छोटा बच्चा घर में अपनी स्थानीय भाषा और बोली का प्रयोग करता है, लेकिन आंगनबाड़ी में हिन्दी बोलने में उसे कठिनाई होगी।


भाषा विशेषज्ञों का मानना है कि अपनी बोली और भाषा में बच्चे आसानी से समझतें हैं उनकी बुद्धि का विकास भी तेजी से होता है। अपनी भाषा और बोली में बात करने में आत्म विश्वास बढ़ने के साथ सीखने की इच्छा भी बढ़ती है। जब बच्चे अपनी भाषा और बोली में सीखेंगे तो अपनी संस्कृति को भी अच्छे से समझेंगे।


बच्चे जब अपनी बोली और भाषा में पढ़ेंगे, बात करेंगे, समझेंगे तो उसके साथ-साथ बोली और भाषा के विकास के साथ-साथ समाज को भी पहचान मिलेगी। हमारा प्रयास रहेगा कि स्थानीय बोली-भाषा के साथ अंग्रेजी भाषा में भी बच्चों को शिक्षित किया जाए, जिससे आगे की पढ़ाई-लिखाई में कोई कठिनाई ना हो।  
 


लेबल:

बालिका शिक्षा से समाज में आई बदलाव की बयार : श्रम राज्य मंत्री

संवाददाता : जयपुर राजस्थान


       श्रम राज्य मंत्री टीकाराम जूली ने कहा कि पंचायत चुनावों में युवा अभ्यर्थियों एवं महिला सरपंचों का बड़ी संख्या में चुनकर आना दर्शाता है कि समाज अब परम्परागत जड़ता से आगे निकलकर युवकों और महिलाओं को सशक्त कर रहा है। 

 

जूली बुधवार को  अलवर जिले के  भण्डोडी  क्षेत्र में गोपीसिद्ध के बास में आयोजित समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हाल ही के चुनावों में नारी शक्ति ने हर पंचायत समिति में भारी संख्या में मतदान कर समाज में नए प्रतिमान स्थापित किए हैं। इसका कारण उन्होंने बताया कि बालिका शिक्षा से समाज में  अभूतपूर्व परिवर्तन आ रहे हैं।

 


 

बालिकाएं स्वयं शिक्षित होकर अपने माता-पिता को भी लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए सलाह दे रही है। उन्होंने कहा कि सरकार इसलिए ही बालिका शिक्षा को बढाने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। 

 

इस अवसर पर बड़ी संख्या में महिलाओं ने श्रम राज्य मंत्री का साफा एवं फूल माला पहनाकर स्वागत किया। इसके पश्चात मंत्री जूली ग्राम बालेटा, कलसाड़ा एवं बन्दीपुरा में भी स्वागत समारोह में शामिल हुए। 

लेबल:

लोकतंत्र में सक्रिय भागीदारी निष्ठा से निभाये : विधानसभा अध्यक्ष

संवाददाता : जयपुर राजस्थान


      राजस्थान विधानसभा के अध्यक्ष डॉ.सी.पी. जोशी ने कहा है कि सिद्धांत विहिन राजनीति नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें लोकतंत्र में सक्रिय भागीदारी निष्ठा से निभाने के लिए मौलिक कत्र्तव्यों का पालन करना होगा।

 


 

डॉ. जोशी गुरूवार को यहां बिड़ला सभागार में महानगर टाइम्स के प्रधान सम्पादक श्री गोपाल शर्मा की पुस्तक गांधी - जयपुर सत्याग्रह के लोकार्पण समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। डॉं. जोशी ने पुस्तक का लोकार्पण किया। विधान सभा अध्यक्ष ने स्वतत्रता संग्राम सेनानियो को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया।

 

राजस्थान विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने कृति की सराहना करते हुए कहा कि यह कार्य युवा पीढ़ी को मार्ग दर्शन देगा। समारोह को पद्म भूषण डी.आर.मेहता और साहित्यकार चन्द किशोर आचार्य ने भी सम्बोधित किया। पुस्तक के लेखक गोपाल शर्मा ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी से जुडे़ जयपुर के प्रसंगों को विस्तार से बताया।

लेबल:

युवा पीढ़ी गाँधी जी के विचारों को अपनाए : मुख्यमंत्री कमल नाथ

संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश


      मुख्यमंत्री कमल नाथ ने युवा पीढ़ी का आव्हान किया है कि वे गाँधी जी के विचारों और सोच को अपनाए। कमल नाथ आज राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की पुण्य-तिथि पर उन्हें पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि दे रहे थे।



कमल नाथ ने पुरानी विधानसभा मिंटो हॉल स्थित महात्मा गाँधी के प्रतिमा स्थल पर उनका पुण्य स्मरण किया। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी गाँधी जी को जाने, यह देश और दुनिया के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है।


इस मौके पर जनसम्पर्क मंत्री पी.सी. शर्मा, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, पूर्व मंत्री  चंद्रप्रभाष शेखर और श्री राजीव सिंह, पूर्व महापौर सुनील सूद, जे.पी. धनौपिया, रवि सक्सेना, अर्चना जायसवाल एवं आभा सिंह सहित बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।


लेबल:

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार संसद के आगामी बजट सत्र में सभी मुद्दों पर चर्चा करेगी...

संवाददाता : नई दिल्ली


       प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि सरकार संसद के आगामी बजट सत्र में सभी मुद्दों पर चर्चा करेगी। वह 31 जनवरी 2020 से शुरू होने वाले बजट सत्र की पूर्व संध्या पर सर्वदलीय बैठक को संबोधित कर रहे थे।


अपने समापन भाषण में प्रधानमंत्री ने अधिकांश संसद सदस्यों के सुझावों का स्वागत किया कि सत्र को देश की आर्थिक स्थिति पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए।



उन्होंने कहा कि ज्यादातर संसद सदस्यों ने देश की आर्थिक स्थिति पर चर्चा करने के लिए कहा हैं। मैं इसका स्वागत करता हूं और हमें आपके द्वारा सुझाए गए आर्थिक मुद्दों पर चर्चा करने की आवश्यकता है।


प्रधानमंत्री ने सदस्यों से आग्रह किया कि वे देखें कि देश मौजूदा वैश्विक आर्थिक परिदृश्य से कैसे लाभान्वित हो सकता है।


उन्होंन कहा कि हमें इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि हम वैश्विक परिदृश्य को भारत के पक्ष में कैसे मोड़ सकते हैं।


उन्होंने कहा कि इस बजट सत्र में और नये साल की शुरुआत में अगर हम देश की अर्थव्यवस्था को सही दिशा दे सकते हैं, तो यह देश के लिए बेहतर होगा।


सदस्यों द्वारा उठाये गये अन्य मुद्दों पर प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं आपके द्वारा उठाये गये अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर आप सभी से सहमत हूं। और मैं कहना चाहूंगा कि ऐसे सभी मुद्दों पर चर्चा होनी चाहिए।


इसके अलावा प्रधानमंत्री ने सदस्यों से आग्रह किया कि वे सत्र और संसद की उपयोगिता बढ़ाने में योगदान दें।


पिछले दो सत्रों का उल्लेख करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह सत्र और संसद की उपयोगिता के बारे में है। पिछले दो सत्रों में हमने बढ़ी हुई उपयोगिता और इसके पक्ष में लोगों की प्रतिक्रिया को देखा है। जन प्रतिनिधियों के रूप में, सदन की उपयोगिता को बढ़ाना हमारी जिम्मेदारी है, हालांकि हम सभी मुद्दों पर खुलकर चर्चा करते हैं।


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी, संसदीय कार्य राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल और वी मुरलीधरन सहित सभी दलों के सदस्य बैठक में शामिल हुए।


लेबल:

गाँधी जी के विचार सर्वकालिक प्रासंगिक: राज्यपाल

संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश


      राज्यपाल लालजी टंडन ने कहा है कि आज गाँधी जी हमारे बीच सशरीर भले ही नहीं हों, परन्तु उनके विचार सदैव हमारा मार्गदर्शन करते रहेंगे। गाँधी जी ने मानवता का व्यवहारिक पक्ष अपने आचरण से स्थापित किया। उनकी मान्यता थी कि विभिन्नताएँ बाहरी तत्व हैं, मूलत: हम सब एक है। भेद-भाव करना अमानवीयता है। उनके इस चिंतन से समाज में बड़ा परिवर्तन आया। राज्यपाल टंडन गाँधी जी की 72वीं पुण्य-तिथि पर गाँधी भवन में आयोजित सर्वधर्म प्रार्थना सभा को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर राज्यपाल ने गाँधी भवन न्यास द्वारा प्रकाशित गाँधी जी पर केन्द्रित कैलेन्डर का विमोचन किया।



राज्यपाल ने कहा कि बीते 150 वर्षों में कई लोग हुए, जिन्होंने देश और समाज के लिये बड़े-बड़े काम किये परन्तु गाँधी जी एक ऐसा व्यक्तित्व है, जिन्हें हम आज भी याद कर रहे है, उनकी धरोहरों को सम्हाल रहे हैं। राज्यपाल ने कहा कि हम अपने जीवन में शांति चाहते हैं। शांति गाँधी जी के विचारों पर चलने से ही प्राप्त होगी। उनके प्रिय भजन सुनते हुए हम अपने दुख-दर्द भूल जाते हैं। उन्होंने कहा कि बहुत से लोग ईश्वर को नहीं मानते, तो गाँधी को भी नहीं मानते होंगे परन्तु गाँधी जी हम सबके बीच सम्मानीय थे, हैं और सदैव रहेंगे।


गाँधी जी की पुण्य-तिथि पर आयोजित कार्यक्रम के प्रारंभ में राज्यपाल श्री टंडन ने गाँधी जी की प्रतिमा को सूत की माला पहनाई और उनकी समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित की। गाँधी भवन के कार्यकर्ताओं द्वारा सर्वधर्म प्रार्थना की गई। इसके बाद विक्रम हायर सेकेण्ड्री स्कूल, भेल के विद्यार्थियों द्वारा वैष्णव जन और राम धुन प्रस्तुत की गई। इस अवसर पर गाँधी भवन द्वारा 20 दिसम्बर 2019 को आयोजित जिला स्तरीय गाँधी ज्ञान प्रतियोगिता के विजेताओं को राज्यपाल ने गाँधी साहित्य, प्रशस्ति पत्र और स्मृति चिंह देकर सम्मानित किया।


कार्यक्रम के अंत में सभा में दो मिनट का मौन रखकर गाँधी जी को श्रद्धांजलि दी गई। कार्यक्रम का संचालन गाँधी भवन के न्यासी श्री महेश सक्सेना ने।


लेबल:

प्रधानमंत्री ने बसंत पंचमी और सरस्वती पूजा के अवसर पर देशवासियों को बधाई दी...

संवाददाता : नई दिल्ली


      प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने बसंत पंचमी और सरस्वती पूजा के अवसर पर देशवासियों को बधाई दी है। प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, ‘प्रकृति के नव हर्ष और नव उत्कर्ष से जुड़े पर्व बसंत पंचमी की सभी देशवासियों को हार्दिक बधाई।



उन्होंने कहा, ‘मैं विद्यादायिनी मां सरस्वती से यह भी प्रार्थना करता हूं कि हम सब के जीवन को बुद्धि और ज्ञान के प्रकाश से आलोकित करें।









Narendra Modi
 

@narendramodi



 




 

प्रकृति के नव हर्ष और नव उत्कर्ष से जुड़े पर्व बसंत पंचमी की सभी देशवासियों को हार्दिक बधाई। विद्यादायिनी मां सरस्वती हर किसी के जीवन को ज्ञान के प्रकाश से आलोकित करें।






 




लेबल:

बुधवार, 29 जनवरी 2020

मंत्री पांसे द्वारा ग्रामीण अंचल में भूमि-पूजन और लोकार्पण...

संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश


      लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री सुखदेव पांसे ने बैतूल जिले में 19 लाख 30 हजार रुपये लागत के विकास कार्यों का भूमि-पूजन और लोकार्पण किया। उन्होंने ग्राम भैसादण्ड में 9.30 लाख की लागत की सी.सी. रोड का भूमि-पूजन और 10 लाख के सामुदायिक भवन का लोकार्पण किया।



मंत्री पांसे ने इस अवसर पर कहा कि प्रदेश सरकार ग्रामीणों के विकास के लिये मुस्तैदी के साथ कार्य कर रही है। उन्होंने लोगों को सरकार की योजनाओं की जानकारी दी। इस मौके पर अन्य जन-प्रतिनिधि, जिलाधिकारी और बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।


लेबल:

किसान अधिक फायदे के लिये गौ-आधारित कृषि अपनायें : मंत्री सचिन यादव

संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश


      किसान-कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री सचिन यादव और परिवहन और राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने सागर जिले में जय किसान फसल ऋण माफी योजना के दूसरे चरण का शुभारंभ किया। मंत्रीद्वय ने राहतगढ़ में प्रतीक-स्वरूप 12 किसानों को सम्मान-पत्र और ऋण माफी प्रमाण-पत्र प्रदान किये। सागर जिले में योजना के द्वितीय चरण में कुल 22 हजार किसानों के 158 करोड़ 60 लाख रुपये के फसल ऋण माफ किये जायेंगे। प्रथम चरण में जिले के 50 हजार 886 किसानों के 156 करोड़ 21 लाख रुपये के फसल ऋण माफ किये गये।



मंत्री सचिन यादव ने राहतगढ़ में कृषि उपज मण्डी में आयोजित कार्यक्रम में किसानों से कहा कि गौ-आधारित कृषि पद्धति अपनायें। इससे कृषि की लागत में कमी आयेगी और फायदा अधिक होगा। उन्होंने किसानों को कीट-नाशकों के अधिक प्रयोग से होने वाली बीमारियों के बारे में भी जानकारी दी। श्री यादव ने कहा कि राहतगढ़ कृषि उपज मण्डी को आदर्श मण्डी के रूप में विकसित किया जायेगा।


राजस्व मंत्री राजपूत ने कहा कि जय किसान फसल ऋण माफी योजना से लाभान्वित किसानों की सूची पंचायत भवनों पर चस्पा की जायेगी। प्रत्येक पंचायत में मंगल भवन बनवाये जायेंगे, जिससे ग्रामीणों को शादी-विवाह और मांगलिक कार्यों में स्थान के लिये परेशान न होना पड़े। श्री राजपूत ने किसानों से आग्रह किया कि राज्य सरकार द्वारा कृषि यंत्र सबसिडी योजना का भरपूर लाभ उठायें।


लेबल:

एनसीआरबी ने गुमशुदा लोगों की खोज और वाहन एनओसी प्राप्त करने के लिए दो ऑनलाइन राष्ट्रीय सेवाएं लान्च की...

संवाददाता : नई दिल्ली


      राष्ट्रीय क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) ने सीसीटीएनएस प्लेटफॉर्म पर पुलिस की नागरिक केन्द्रित सेवाओं को लान्च किया। समारोह की अध्यक्षता गुप्तचर ब्यूरो के निदेशक अरविन्द कुमार ने की।



इन ऑनलाइन सेवाओं से गुमशुदा व्यक्तियों को खोजने और वाहनों का अनापत्ति प्रमाण-पत्र (एनओसी) ऑनलाइन प्राप्त करने में मदद मिलेगी। इन सेवाओं को ‘digitalpolicecitizenservices.gov.in’ पोर्टल पर या वर्तमान डिजिटल पुलिस पोर्टल पर दिए गए लिंक से एक्सेस किया जा सकता है। अभी तक ऐसी सेवाएं राज्य नागरिक पोर्टलों के माध्यम से दी जा रही थी और यह पहला मौका है जब केन्द्रीय रूप से ये सेवाएं लान्च की जा रही हैं।


एनसीआरबी तथा साइबर पीस फाउंडेशन ने मिलकर सीसीटीएनएस हैकथन तथा साइबर चैलेंज 2020 डिजाइन किया है। इसका उद्देश्य जमीनी स्तर पर कानून लागू करने वाले कर्मियों की दक्षता और ज्ञान को बढ़ाना है। यह हैकथन सहभागियों की कुशलता और ज्ञान को बढ़ाएगा और उद्योग तथा शिक्षा जगत के साथ तालमेल करेगा।


एनसीआरबी तथा अमेरिका के लापता और शोषित बच्चों के राष्ट्रीय केन्द्र (एनसीएमईसी) ने भारत से लापता और शोषित बच्चों की जानकारी प्राप्त करने के लिए समझौता-ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया है। एनसीएमईसी अमेरिका की कांग्रेस द्वारा स्थापित गैर-लाभकारी संगठन है।


गुप्तचर ब्यूरो के निदेशक ने एनसीआरबी में साइबर टिपलाइन निगरानी सुविधा का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि पहले की तुलना में आज अपराध और प्रौद्योगिकी के बीच का चौराहा ज्यादा स्पष्ट दिख रहा है। डिजिटल प्रौद्योगिकी और इंटरनेट ने न केवल साइबर अपराध को बढ़ाया है, बल्कि ऐसे अपराधों को ज्यादा नाजुक बना दिया है। इसलिए कानून लागू करने वाली एजेंसियों के लिए नवीनतम प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल में दक्ष होना तथा अपराध की खोज, जांच और मुकाबले के लिए नवाचारी तौर-तरीकों को अपनाना आवश्यक है।


उन्होंने बताया कि लगभग 25000 साइबर टिपलाइन रिपोर्ट प्राप्त की गई हैं और राज्यों तथा केन्द्रशासित प्रदेशों से साझा की गई हैं। इनमें से 15 रिपोर्टें उच्च प्राथमिकता की हैं।


लेबल: