शुक्रवार, 3 अप्रैल 2020

भारतीय नौसेना का युद्धपोत समुद्र में फंसे मछुआरों की मदद कर रहा है...

संवाददाता : नई दिल्ली


       आईएनएस निरीक्षक, केरल तट के साथ मिशन गश्ती पर, कोच्चि स्थित दक्षिणी नौसेना कमान का एक गोताखोर सहायता पोत, तमिलनाडु मूल के 10 मछुआरों को बचाने के लिए आया, जो मछली पकड़ने वाली नाव सेंट निकोलस से आए थे और कोच्चि तट पर 01 अप्रैल 2020 से फंसे हुए हैं।


10 क्रू वाली इस नौका में तमिलनाडु के घरेलू बंदरगाह कोलाचेल तक पहुंचने के लिए पर्याप्त ईंधन, पानी और राशन मौजूद नहीं था और वह कोच्चि तट पर ही फंस गया। आईएनएस निरीक्षक ने, यह महसूस करते हुए कि नाव संकट में है, मछली पकड़ने वाली नाव को उनके घर के बंदरगाह तक पहुंचने के लिए 300 लीटर ईंधन, पानी और आवश्यक राशन उपलब्ध कराकर सहायता प्रदान किया।



कोविड-19 के लिए मौजूदा स्वास्थ्य सलाह को ध्यान में रखते हुए यह सुनिश्चित किया गया कि सभी हस्तांतरणों को नाव या चालक दल के साथ बिना किसी शारीरिक संपर्क के पूरा किया जाए। जहाज की क्रेन का उपयोग करके ईंधन, पानी और राशन स्थानांतरित किया गया।


यह नाव 12 मार्च को कोच्चि से अरब सागर में मछली पकड़ने के लिए रवाना हुआ था और तब से अबतक यह किसी भी अन्य बंदरगाह तक नहीं पहुंचा है। इसे फिर से ईंधन और राशन लेने के लिए कोच्चि में प्रवेश करना था, लेकिन कोरोनावायरस के कारण चल रहे लॉकडाउन के कारण वह ऐसा करने में असमर्थ रहा।


कोविड-19 संकट के दौरान नौसेना के जहाज मिशन पर बने हुए हैं और उनकी तैनाती किसी भी बंदरगाह की यात्रा के बिना संभव हो रही है या फिर पिछले बंदरगाह की यात्रा के बाद वापसी करने से पहले उनके द्वारा समुद्र में कम से कम 14 दिनों का समय दिया जा रहा है।


लेबल: