बुधवार, 22 अप्रैल 2020

प्रदेश के सभी घरों में अगस्त, 2022 तक जल जीवन मिशन के तहत उपलब्ध होंगे नल : मुख्यमंत्री

संवाददाता : शिमला हिमाचल


      मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां जल जीवन मिशन की समीक्षा हेतु आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा आरम्भ जल जीवन मिशन का उद्देश्य न केवल सभी घरों को नल के माध्यम से स्वच्छ पेयजल उपलब्ध करवाना है, बल्कि स्थानीय जल स्रोतों के उचित प्रबंधन को बढ़ावा देना भी है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में जल जीवन मिशन के शुभारंभ के समय प्रदेश के लगभग 57 प्रतिशत घरों को कवर किया जा चुका था। उन्होंने कहा कि योजना का फोकस पेयजल आपूर्ति लाइनों के आधारभूत ढ़ाचे को मजबूत करके 31 अगस्त, 2022 तक सभी 16,68,523 घरों में नल के माध्यम से पेयजल उपलब्ध करवाना है। उन्होंने कहा कि एक अप्रैल, 2020 तक लगभग 7,47,794 घरों को घरेलू नल कनेक्शन दिए गए हैं और इस वित्तीय वर्ष के दौरान 2,44,351 घरों को पानी के कनेक्शन उपलब्ध करवाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।



 जय राम ठाकुर ने कहा कि जल जीवन मिशन के तहत राज्य को वर्ष 2019-20 के दौरान 228.67 करोड रुपये प्राप्त हुए हैं। उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन को सफल बनाने के लिए प्रदेश को एक अप्रैल, 2020 से 31 मार्च, 2021 तक 1710 करोड़ रुपये, एक अप्रैल, 2021 से 31 मार्च, 2022 तक 1531 करोड़ रुपये के अलावा एक अप्रैल, 2022 से 31 अगस्त, 2022 तक 1030 करोड़ रुपये की आवश्यकता है ताकि निर्धारित लक्ष्य को समय पर प्राप्त किया जा सके।


मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2019-20 से पहले 132 योजनाओं के लिए 130.32 करोड़ रुपये दिए गए हैं, जबकि 838.9 करोड रुपये की 223 योजनाएं 2019-20 के दौरान 15 मार्च, 2020 तक अवार्ड की गई हैं। उन्होंने कहा कि 392.83 करोड़ रुपये की 61 योजनाओं के लिए टैंडर प्रक्रिया चल रही है। उन्होंने कहा कि लगभग 1000 करोड़ रुपये की लागत वाली 306 योजनाओं की डीपीआर तैयार की जा रही है।


जय राम ठाकुर ने कहा कि इस योजना के शुरू होने के बाद राज्य में घरों के नल कनेक्शनों का दायरा 56.27 प्रतिशत से बढ़कर 68.22 प्रतिशत हो गया है, जिसमें 11.95 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है, जो राष्ट्रीय औसत की तुलना मंे 3.63 प्रतिशत अधिक है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत सरकार ने राज्य के ‘ओवर आॅल’ प्रदर्शन की सराहना की है और राज्य को केंद्र सरकार से 57 करोड़ रुपये प्रोत्साहन स्वरूप अतिरिक्त अनुदान प्राप्त हुआ है।जल शक्ति मंत्री महेन्द्र सिंह ठाकुर ने मुख्यमंत्री को अवगत करवाया कि घरेलू नल कनेक्शन तीन स्तर पर दिए जाएंगे जिसमें रसोईघर, स्नान और कपड़े धोने के लिए और शौचालय शामिल है। उन्होंने कहा कि घरेलू नल कनेक्शन लगाने के लिए लाभार्थियों से केवल 100 रुपए का योगदान लिया जाएगा।सचिव जल शक्ति विभाग डाॅ आर.एन. बत्ता ने जल जीवन मिशन के बारे में विस्तृत जानकारी दी।


अतिरिक्त मुख्य सचिव रामसुभग सिंह और मनोज कुमार, प्रधान सचिव वित्त प्रबोध सक्सेना, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव संजय कुंडू, निदेशक ग्रामीण विकास ललित जैन, ईएनसी नवीन पुरी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी इस अवसर पर उपस्थित थे।


लेबल: