सोमवार, 4 मई 2020

‘कोई भूखा न रहे कोई भूखा न सोये’ : जिलाधिकारी अल्मोड़ा

प्रजा दत्त डबराल @ अल्मोड़ा उत्तराखंड 


       कोरोना वायरस (कोविड़-19) महामारी के चलते हुये लाॅकडाउन के दौरान ‘कोई भूखा न रहे कोई भूखा न सोये’ के लिए जिला प्रशासन द्वारा विभिन्न संगठनों की सहायता से संचालित रोटी बैंक के आज 36वें दिन रोटी बैंक के द्वारा अभी तक जरूरतमंद लोगों को 1 लाख से ज्यादा भोजन के पैकेटों का वितरण किया जा चुका है।


इस बात की जानकारी देते हुये जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने बताया कि रोटी बैंक के सफल संचालन में रेडक्रास सोसाइटी, व्यापार मंडल, कैमिस्ट एव ड्रगिस्ट एसोशिएशन के साथ साथ अल्मोडा के सैकड़ों स्वयं सेवको के साथ मिलकर रोटी बैंक ने अल्मोडा में अनूठी पहल की शुरूआत की जिसका मुख्य उद्देश्य कोरोना वायरस के दौरान जरूरतमंदो को खाना खिलना था।  



जिलाधिकारी ने कहा कि रोटी बैंक के सचंालन में लोगों द्वारा मिले आर्थिक दान, राशनदान और समयदान से संचालित हुआ। उन्होंने कहा कि इस संकट के समय में बच्चों द्वारा गुल्लक के पैसे या बुजुर्ग द्वारा पेंशन के पैसे, हर क्षेत्र के लोगों द्वारा धनराशि दान कर इसमें सहयोग प्रदान किया गया जो एक सराहनीय कदम है। जिलाधिकारी ने कहा कि इस रोटी बैंक के सफल संचालन में स्वयंसेवकों द्वारा 16 घंटे लगातार कार्य किया।


उन्होंने बताया कि इस रोटी बैंक द्वारा नगर के सभी वार्ड के साथ, ग्राम सरसों, भनार, रैलापाली, शैल, सरकार की आली, मालगाँव, खगमराकोट, विश्वनाथ, बख, लोधिया, लोधिया चेक पोस्ट के साथ-साथ रैनबसेरों में रह रहे लोगों तक भोजन पैकेट उपलब्ध कराये गये।


जिलाधिकारी ने बताया कि जिनके पास राशन कार्ड या जाब कार्ड नहीं है ऐसे सभी नेपाली और बिहारी वंचित मजदूरों को भी रोटी बैंक द्वारा भोजन पैकेट दिये जा रहा है। उन्होंने कहा कि सामाजिक सद्भाव व जिला प्रशासन की अनूठी पहल से चल रहे रोटी बैंक इस महामारी में कार्य करता रहेगा।


लेबल: