शनिवार, 22 अगस्त 2020

फिक्की फ्लो उत्तराखण्ड चैप्टर ने वूमेन इन लीडरशिप विषय पर वेबिनायर का आयोजन किया...

संवाददाता : देहरादून उत्तराखंड 


      फिक्की फ्लो के उत्तराखण्ड चैप्टर ने आज  वीमेन इन लीडरशिप: बिल्डिंग ए न्यू नॉर्मल पर एक राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया जो की त्रिकोण सोसाइटी तथा पंडित दीन दयाल उपाध्याय एक्शन एंड रिसर्च सोसाइटी (डार्स) के साथ मिलकर आयोजित किया गया । नेहा जोशी,फाउण्डर,  पंडित दीन दयाल उपाध्याय एक्शन एंड रिसर्च सोसाइटी (डार्स)को फाउण्डर आईलीड  तथा भाजपा युवा मोर्चा राष्ट्रीय मीडिया की सह प्रभारी इस वेबिनार की मुख्या वक्ता रही तथा  सुपर्णा रॉय उत्तराखण्ड की  वरिष्ट  पत्रकार ने  इस वेबिनार का संचालन किया ।  


डॉ. नेहा शर्माउपाध्यक्षा फिक्की फ्लो के उत्तराखण्ड चैप्टर आज के कार्यक्रम की  डेचेयर रही।आज सम्पन हुए वेबिनायर में  उत्तराखंड की महिलाओं का सशक्तिकरण और उनको देश के नेतृत्व में अधिक से अधिक भागीदारी को बढ़ाने के प्रयासों पर चर्चा की गयी ताकि वे  प्रदेश और देश के विकास के लिए बनने वाली नीतियों और कानूनों को बनाने में अपना योगदान भी कर सके।  आज के दिन देश की आईटी सेक्टरों में महिलाओं का 34 प्रतिशत भागीदारी है जबकि पार्लियामेंट में केवल 14 प्रतिशत ही महिलाओं की भागीदारी है इनकी कैसे ज्यादा से ज्यादा भागेदारी पार्लियामेंट और विधानसभा में हो इन बातो पर चर्चा की गयी ।  



उत्तराखण्ड की महिलाओं द्वारा कई बड़े आंदोलन में बराबर की भागेदारी की है चाहे वो विश्वप्रसिद्व चिपको आंदोलन हो या उत्तराखंड राज्य की मांग हो सभी जगह महिलाओं द्वारा बराबर भागीदारी की है लेकिन बहुत काम संख्या में उनकी सरकार और विधानसभा में उपस्थिति है।  इस अवसर परउत्तराखंड चैप्टर के फिक्की फ्लो की अध्यक्षा श्रीमती किरण भट्ट टोडरिआ  ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा आज के समय को देखते हुए मुझे लगता है की जहा पूरी दुनिया में आज विपदा का समय है और किसी को कुछ भी भविष्या के बारे में पता नहीं है।  ऐसे समय पर सहज नेतृत्व के गुण ही सफलता के मार्ग को प्रशस्त करता है और ये बताता है इस समय धैर्य साहस तथा बुद्धिमता के साथ सबको आगे बढ़ाना है ताकि उनको अपने अंदर प्रेरणा और आत्मविश्वास बढ़ सके और इन्ही सब बातो पर आज हमें चर्चा की है ।


उत्तराखण्ड की महिलाओं को बहुत पुराना इतिहास रहा है की उन्होंने अपने साहस और बुद्धिमता से  प्रदेश के विकास में और आर्थिकी मजबूत करने में सहयोग किया है । आज फिर से वह समय आ गया है कि उत्तराखण्ड महिलायें आगे बढ़ कर और मजबूती से प्रदेश के विकास में फिर से पूर्ण सहयोग करे। इसके लिए जरूरी है की उनको नेतृत्व में  उनकी ज्यादा से ज्यादा भागीदारी हो और उन्हें सरकार में बराबरी का दर्जा दिया जाये। जिससे वो महिलाओं का सशक्तिकरण और उनके लिए नीतियां बना सके।   नेहा  जोशीफाउण्डर,  पंडित दीन दयाल उपाध्याय एक्शन एंड रिसर्च सोसाइटी (डार्स)आगे परिचर्चा जारी रखते हुए डॉ. नेहा शर्माउपाध्यक्षा फिक्की फ्लो के उत्तराखण्ड चैप्टर ने बताया आज के समय में समाज विकास के लिए  महिलाये पुरुषो के साथ मिलकर बराबरी का काम कर रही है।


मेरा पूरा विश्वास ही की महिलाओं को राजनीती और व्यापार  में  नेतृत्व करने के ज्यादा से ज्यादा अवसर दिए जाये।  जिससे की समाज और देश का विकास तेजी से बड़े इन्ही सभी मुद्दों पर आज हुए वेबिनार पर चर्चा की गयी।


इस वेबिनार  में फिक्की फ्लो के देशभर में 200 से अधिक सदस्यों ने भाग लिया और फिक्की  फ्लो के उत्तराखण्ड चैप्टर की कोमल बत्रा, सीनियर वाईस चेयरपर्सन, गौरी सुरीसचिव, तृप्ति बहलसंयुक्त सचिव, रूचि जैनकोषाध्यक्षा, चारु चैहान संयुक्त कोषाध्यक्षा  ने  लिया।


लेबल: