बुधवार, 30 सितंबर 2020

छत्‍तीसगढ़ मुंगेली जिले के शिक्षकों की अभिनव पहल बच्चों के लिए वरदान साबित हो रही ऑनलाइन क्लास...

संदीप सिंह ठाकुर, मुंगेली छत्‍तीसगढ़


      देश में लाॅकडाउन की वजह से स्कूल काॅलेज बंद होने के बाद भी मुंगेली जिले के शिक्षकों की अभिनव पहल बच्चों के लिए वरदान साबित हो रही है। आपको बतादें की देश मे बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर प्रदेश के सभी स्कूल कालेज बंद है। 


जिसके चलते छात्रों का भविष्य खतरे में है।  जिसको देखते हुए एकतरफ प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर कोविड-19 संक्रमण के बचाव के उपायों के तहत स्कूली बच्चों को घर पर ही रहकर पढ़ने के लिए 7 अप्रैल को स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा लॉकडाउन के दौरान बच्चों की पढ़ाई के लिए शुरू की गई ऑनलाइन ई-लर्निंग व्यवस्था 'पढ़ई तुंहर दुआर' लाखों बच्चों के लिए वरदान साबित हो रही है। तो दूसरी तरफ इसी तर्ज पर मुंगेली जिले के लोरमी विकासखंड के रहंगी में पदस्थ सहायक शिक्षक अभिजीत तिवारी ने अपने दो सहयोगी शिक्षकों की मदद से ऑनलाइन शिक्षा के क्षेत्र में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बच्चों को पढ़ाने अनोखी पहल की शुरुआत की है। 



जिसका फायदा प्रदेश के कई जिले के बच्चे घर बैठे उठा रहे हैं. जिसके तहत वेवेक्स एप में प्रत्येक शुक्रवार को दो घंटे तक ऑनलाइन विज्ञान प्रश्नोंत्तरी कार्यक्रम आयोजित की जा रही है जिसमें राज्य भर के अनेक जिलों केे 300 से भी ज्यादा बच्चे जुड़ रहे हैं।वहीं इस दौरान प्रत्येक शुक्रवार को आयोजित इस कार्यक्रम में प्रदेश के किसी न किसी एक अधिकारी जिन्होंने कड़ी मेहनत के बाद सफलता हासिल किया है उन्हें जोड़ा जाता है जिनके द्वारा बच्चों को आगे की बेहतर पढ़ाई के लिए टिप्स भी दिया जाता है। 


इस बीच वेवेक्स एप के मेंटीमीटर सॉफ्टवेयर के माध्यम से छात्र छात्रों को फिजिक्स केमेस्ट्री और जीव विज्ञान के प्रश्न दिए जाते है जिसे छात्र अपने स्क्रीन में पढ़कर लीडरबोर्ड के माध्यम से उत्तर का चयन करते है। जहां लीडर बोर्ड के चयन के आधार पर चयनित पहले विजेता को इस प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम में 11 सौ रुपए प्रोत्साहन राशि इनाम के रूप में फोन पे के माध्यम से दिया जाता है। जिसके चलते अब यह कार्यक्रम प्रदेश के दूरस्थ अंचलों के बच्चों के लिए भी बहुत उपयोगी साबित हो रहा है और निश्चित ही ये हाईटेक एजुकेशन हमारे शिक्षा व्यवस्था के लिए मील का पत्थर साबित होता हुआ दिखाई दे रहा है। 



वहीं इसको लेकर लोरमी विकासखंड के रहंगी में पदस्थ सहायक शिक्षक अभिजीत तिवारी ने बताया कि इस कार्यक्रम के माध्यम से बच्चों को विषय वस्तु पर अच्छी समझ बनाने के साथ बच्चों को वैकल्पिक प्रश्नों के माध्यम से छात्र छात्राओं को प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयार किया जा रहा है।


लेबल: