मंगलवार, 22 सितंबर 2020

राज्यसभा के सभापति ने वर्तमान महामारी के दौरान जनता एवं सांसदों की सुरक्षा को लेकर अपनी चिंता दोहराई...

संवाददाता : नई दिल्ली


      राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने शनिवार वर्तमान महामारी के दौरान आम तौर पर लोगों और खास तौर पर सांसदों की सुरक्षा को लेकर अपनी चिंता दोहराई।


सभापति नायडू ने सदस्यों को सूचित किया कि उन्होंने गृह सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के संयुक्त सचिव एवं डी.जी. आईसीएमआर और राज्य सभा सचिवालय के अधिकारियों के साथ कोविड–19 महामारी के प्रसार को रोकने के लिए किये जा रहे उपायों तथा सदस्यों द्वारा बरती जाने वाली सावधानियों एवं बचावों के बारे में एक बैठक की।



सभापति नायडू ने इस महामारी को रोकने में मदद करने वाले चार प्रमुख उपायों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि बैठक में दी गई सलाह के अनुसार वर्तमान महामारी के दौरान, मास्क पहनना वायरस से बचाव का सबसे अच्छा उपाय है। उन्होंने आगे कहा कि, “आपके घर में काम करने वाले बाहरी लोग समेत जब भी आप अपने घर के बाहर किसी व्यक्ति से मिलते हैं, तो मास्क पहनना महत्वपूर्ण होता है। यह बहुत जरुरी है।


सभापति ने कहा कि सुरक्षित दूरी बनाए रखना दूसरी सबसे महत्वपूर्ण सावधानी है। उन्होंने कहा कि दूसरी महत्वपूर्ण चीज एक सुरक्षित दूरी बनाये रखना है जोकि इस महामारी के दूर होने तक जरूरी है।


उन्होंने कहा कि सुरक्षित बचे रहने का तीसरा महत्वपूर्ण कारक स्वच्छता बनाए रखना है। उन्होंने कहा, "तीसरा उपाय स्वच्छता बनाए रखना है - समय-समय पर अपने हाथों को धोना, उन्हें डेटॉल या अन्य साबुनों से साफ करना, और अपने आप को किसी भी तरह के संक्रमण से मुक्त रखना।


सभापति द्वारा बताया गया सुरक्षा का चौथा उपाय प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करना है। प्रतिरोधक क्षमता के स्तर को बढ़ाने के तरीकों का सुझाव देते हुए उन्होंने कहा, "यह भोजन संबंधी स्वस्थ आदतों, स्वस्थ जीवन शैली और थोड़ा व्यायाम, चाहे वह पैदल चलना हो या योग करना, से संभव है।


सभापति नायडू ने कहा कि स्वास्थ्यवर्द्धक भोजन का सेवन बहुत महत्वपूर्ण है। स्वास्थ्यवर्द्धक भोजन के महत्व पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा, अपने इलाकों में दादी के नुस्खों को याद रखें और खाना पकाने, खाने तथा रहन - सहन में भी सामान्य तरीके से जो कुछ भी किया जाना है, उसे याद रखना होगा।


सभापति ने सांसदों की सुरक्षा को लेकर अपनी चिंता व्यक्त करते हुए उनसे एक सुरक्षित दूरी बनाए रखने और छह फुट की सीमा का पालन करने का अनुरोध किया। नायडू ने सदस्यों से कहा कि वे अधिकारियों या अध्यक्ष से बात करने के लिए सदन के पटल पर आने से बचें और इसके बजाय एक पर्ची भेजें।


संसद में उपलब्ध उपायों और सुविधाओं को दोहराते हुए, सभापति ने कहा, “संसद के वर्तमान सत्र के दौरान हर दिन कोविड-19 जांच सुविधा, रैपिड एंटीजन और आरटी-पीसीआर दोनों, संसद भवन के रिसेप्शन ऑफिस में सुबह 8 बजे से लेकर 2.30 बजे तक और संसद भवन एनेक्सी के भूतल पर स्थित सभागार में सुबह10.30 बजे से लेकर शाम 5.00 बजे तक उपलब्ध है।सदस्यों को सलाह दी जाती है कि वे इस सुविधा का लाभ उठाएं और अपनी सहूलियत एवं जरुरत के अनुसार अपनी जांच करवाएं। इसके अलावा, संसद भवन के फ़र्स्ट एड पोस्ट और संसद भवन एनेक्सी के मेडिकल सेंटर में सदस्यों में ऑक्सीजन संतृप्ति स्तर की जांच करने के लिए ऑक्सीमीटर पर्याप्त संख्या में उपलब्ध है।


उन्होंने सुरक्षा संबंधी आईसीएमआर, स्वास्थ्य मंत्रालय एवं गृह मंत्रालय द्वारा निर्धारित मानदंडों का पालन करने में सभी सदस्यों का सहयोग मांगा।


समय की कमी को देखते हुए, उन्होंने सदस्यों से समय का अधिकतम उपयोग करने और सदन की कार्यवाही के सुचारू संचालन की सलाह दी।


लेबल: