बुधवार, 7 अक्तूबर 2020

भरतपुर शहर के समग्र एवं सुनियोजित विकास में मील का पत्थर साबित होगा बहुउद्देशीय कार्य प्लान : तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री

संवाददाता : जयपुर राजस्थान


      तकनीकी एवं संस्कृत शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने कहा कि नगर निगम द्वारा ड्रोन के माध्यम से बहुउद्देशीय कार्य के लिए तैयार किये जाने वाले प्लान के माध्यम से भरतपुर का सुनियोजित एवं समन्वित विकास कराया जाना सम्भव होगा।

 

डॉ. गर्ग ने मंगलवार को भरतपुर के लोहागढ़ स्टेडियम में ड्रोन द्वारा तैयार किये जाने वाले ऑनलाइन डिजिटल प्लान के कार्यक्रम का शुभारम्भ करते हुए  कहा कि यह डिजिटल प्लान भरतपुर के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने कहा कि इस बहुउद्देशीय प्लान के माध्यम से जन उपयोगी कायोर्ं से सम्बंधित विभाग भी इसके डाटा का उपयोग अपनी भावी योजना के लिए कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि वे भरतपुर के समग्र विकास के लिए कृत संकल्प हैं इसी के तहत जिले के आरबीएम जिला चिकित्सालय में चिकित्सा सुविधाओं को बढ़ाने के लिए निरन्तर प्रयासरत हैं। 

 


 

सिमको प्रबंधन के माध्यम से वे शीघ्र ही भरतपुर में रक्षा उपकरणों के निर्माण की इकाई लगाने के सम्बंध में प्रयास कर रहे हैं। इसके लिए उन्होंने समस्त भरतपुरवासियों से आग्रह किया कि वे उनके इस कार्य में सहयोग करते हुए औद्योगिक वातावरण के निर्माण तैयार करने में अपनी भागीदारी निभायें जिससे क्षेत्र के युवाओं को रोजगार मिल सके। उन्होंने कहा कि वे नगर निगम के महापौर, उप महापौर एवं पार्षदों की सकारात्मक सोच एवं विकासात्मक विचारधारा को देखते हुए उनके कायोर्ं में उनका पूरा सहयोग रहेगा। उन्होंने कहा कि भरतपुर के जलभराव की समस्या के समाधान के लिए लगभग 150 करोड़ रूपये की लागत का प्लान तैयार कराया जा रहा है। उन्होंने सीएफसीडी योजना एवं सुजान गंगा परियोजना के सम्बंध में कहा कि इनके विकास के माध्यम से भरतपुर शहर में नवीन पर्यटन स्थल विकसित कर पर्यटन मानचित्र पर भरतपुर को लाया जा सकेगा।

 

राज्य मंत्री डॉ. गर्ग ने कहा कि ड्रोन सर्वेक्षण के उपरान्त सिटी बेस मैप तैयार किया जावेगा जिससे निगम के सम्पूर्ण वार्डो, सड़कों, बडे नालों, सोलिड वेस्ट निस्तारण के स्थान, बारिश की वजह से पानी भराव, निगम की भूमि पर अतिक्रमण नवीन योजनाओं की प्लानिंग, स्ट्रीट लाइट की मेन्टेनेन्स व भविष्य में निगम क्षेत्र में स्थित हर सम्पत्ति/प्रोपर्टी का क्यू आर कोड के माध्यम से जोडने में इस बेस मैप का महत्वपूर्ण योगदान होगा जिससे भरतपुर शहर का एकीकृत विकास संभव होगा।

 

इस अवसर पर जिला कलक्टर नथमल डिडेल ने कहा कि ड्रोन के माध्यम से भरतपुर शहर के होने वाले सर्वे का कार्य एक अच्छी पहल है जिसके माध्यम से तैयार होने वाले डाटा के जरिए शहर के भावी विकास योजनाओं के लिए प्लान तैयार कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि मंत्री द्वारा मुख्यमंत्री वीसी में भरतपुर शहर के स्मार्ट सिटी योजना में शामिल करने की मांग की गयी थी उसके लिए ड्रोन द्वारा तैयार किये जा रहे ऑनलाइन डिजिटल प्लान की महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी।

 

कार्यक्रम के अन्त में डॉ. गर्ग ने उपस्थितजनों को कोरोना जागरूकता शपथ दिलायी

 

इस अवसर पर नगर निगम महापौर अभिजीत कुमार एवं उप महापौर गिरीश चौधरी ने भी अपने विचार व्यक्त किये। नगर निगम के महापौर द्वारा बताया गया कि भरतपुर के सभी विभागों से सम्बंधित डाटा बेस को बेस मैप पर इन्टीग्रेट करने के लिये जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में एक समन्वय समिति का गठन किया गया है जिसमें शहर के सभी विभाग यथा, निगम, पीएचडी, पीडब्ल्यूडी, विद्युत वितरण व प्रसारण निगम, सिचाई विभाग, मेडिकल, डिस्टि्रक्ट सप्लाई ऑफिसर, रोडवेज, वन विभाग, फ्लड कन्ट्रोल व अन्य इत्यादि से सम्बन्धित अधिकारी सदस्य होंगें। सभी विभागो के समन्वय से तैयार किये गये बेस मैप का उपयोग समय समय पर विभागों द्वारा सम्बंधित कार्यो के प्रबंधन व रख-रखाव में उपयोग में लाया जा सकेगा। 

 

इस अवसर पर अतिरिक्त जिला कलक्टर शहर डॉ. राजेश गोयल, उपखण्ड अधिकारी भरतपुर संजय गोयल, लुपिन फाउण्डेशन के अधिशाषी अधिकारी सीताराम गुप्ता, अतिरिक्त जिला पुलिस अधीक्षक डॉ. मूल सिंह राणा सहित बडी संख्या में नगर निगम के पार्षद, अधिकारी एवं गणमान्य नागरिक मौजूद थे।


भरतपुर ड्रोन मैपिंग में राज्य का प्रथम शहर

 

भरतपुर शहर में एकीकृत विकास के लिसे ड्रोन सर्वेक्षण तकनीकी से भरतपुर शहर के सम्पूर्ण विकास के लिये सिटी मेपिंग के कार्य हेतु नागरिक उड्डयन विभाग मंत्रालय, निदेशक, सिविल एविऎशन भारत सरकार से अनुमति प्राप्त करने वाला प्रथम शहर है। नगर निगम द्वारा ड्रोन मेपिंग कार्य को करने के लिये मै. यासी कन्सल्टिंग सर्विसेज प्रा. लि. को अधिकृत किया गया है, कम्पनी को ड्रोन सर्वेक्षण तकनीकी से सिटी मैप तैयार करने का 75 से भी अधिक शहरों का अनुभव है। फर्म के द्वारा भरतपुर शहर में ड्रोन सर्वेक्षण मैपिंग से पूर्व 145 से भी अधिक स्थानों पर जी सी पी प्वाइंटस लगाये गये है, जो कि आने वाले समय में भरतपुर के सभी इन्जिनियरिंग व अन्य विभागों की प्लानिंग व निर्णय में अति महत्वपूर्ण होंगे।

लेबल: